Monday, September 27, 2021
Homeदेश-समाजUP में मामून शेख, मिलन शेख, मुकुल शेख और असलम शेख समेत 7 बांग्लादेशी...

UP में मामून शेख, मिलन शेख, मुकुल शेख और असलम शेख समेत 7 बांग्लादेशी गिरफ्तार, पूछताछ जारी

ये लोग पिछले 7-8 दिन से यहाँ पर रह रहे थे। नगर में अभी और बांग्लादेशियों के मौजूद होने की आशंका जताई जा रही हैं और पुलिस उनकी छानबीन भी कर रही है। पुलिस ने बताया कि जाँच जारी है और अन्य पहलुओं का भी ध्यान रखा जा रहा है।

उत्तर प्रदेश झाँसी के बबीना इलाके में शनिवार (फरवरी 8, 2020) को पुलिस ने 7 बांग्लादेशी लोगों को पकड़ा है। पुलिस पूछताछ में उन्होंने बताया कि वे मछली का तेल बेचने के लिए झाँसी आए थे और बस स्टैंड के पास स्थित कर्मा होटल में सभी रुके थे। इनके पास न तो पासपोर्ट थे और न ही कोई भी वैध दस्तावेज, जो कि ये साबित कर सके कि वो भारत के नागरिक हैं। पुलिस ने इन बांग्लादेशियों के खिलाफ विदेशी अधिनियम के तहत कार्रवाई की है। 

पुलिस को इनके यहाँ पर अवैध रूप से रहने की सूचना मिली थी। जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए इन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार बांग्लादेशियों की पहचान ढाका के नादौर सिंगरा निवासी मामून शेख, मिलन शेख, मुकुल शेख, मोनू वैध, सीजर शेख, असलम शेख, पालन शेख के रूप में हुई है। इसके साथ ही इनके परिवार से संपर्क करने की कोशिश की जा रही है। फिलहाल सातों बांगलादेशी को जेल भेज दिया गया है।

बबीना पुलिस स्टेशन के एसओ ईश्वर सिंह ने इस बाबत जानकारी देते हुए बताया कि प्रारंभिक जाँच में यह पाया गया कि ये लोग यहाँ पर अवैध रूप से मछली का तेल बेच रहे थे। उन्होंने कहा कि ये लोग पिछले 7-8 दिन से यहाँ पर रह रहे थे। नगर में अभी और बांग्लादेशियों के मौजूद होने की आशंका जताई जा रही हैं और पुलिस उनकी छानबीन भी कर रही है। पुलिस ने बताया कि जाँच जारी है और अन्य पहलुओं का भी ध्यान रखा जा रहा है। उस होटल संचालक से भी पूछताछ कर रही है जहाँ ये लोग रुके हुए थे।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले 25 जनवरी को यूपी के मथुरा से साधु के वेश में रह रहे दो बांग्लादेशी को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। ये दोनों पिछले कई सालों से वृंदावन में साधु बनकर भजन-कीर्तन किया करते थे। दोनों ने दिल्ली में फर्जी कागजात पर आधार कार्ड, वोटर कार्ड और पासपोर्ट बनवा लिया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

‘टोटी चोर’ के बाद मार्केट में AC ‘चोर’, कन्हैया ‘क्रांति’ कुमार का कॉन्ग्रेसी अवतार

एक 'आंगनबाड़ी सेविका' का बेटा वातानुकूलित सुख ले! इससे अच्छे दिन क्या हो सकते हैं भला। लेकिन सुख लेने के चक्कर में कन्हैया कुमार ने AC ही उखाड़ लिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,737FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe