Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजभगवा हुई 'वन्दे भारत' एक्सप्रेस ट्रेन तो भड़का जुबैर एन्ड गिरोह, रेल मंत्री बोले...

भगवा हुई ‘वन्दे भारत’ एक्सप्रेस ट्रेन तो भड़का जुबैर एन्ड गिरोह, रेल मंत्री बोले – राष्ट्रध्वज से प्रेरित है नया रंग, नई डिजाइन के साथ सुविधाएँ भी बढ़ीं

रेल मंत्री ने कहा, "यह मेक इन इंडिया की एक अवधारणा है, (जिसका अर्थ है) भारत में हमारे अपने इंजीनियरों और तकनीशियनों द्वारा डिजाइन किया गया है। इसलिए वंदे भारत के संचालन के दौरान एसी, शौचालय आदि के संबंध में हमें फील्ड इकाइयों से जो भी फीडबैक मिल रहा है, उसके आधार पर डिज़ाइन में बदलाव किया जा रहा है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की महत्वाकांक्षी रेल परियोजना वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन (Vande Bharat Express Train) का रंग बदल गया है। अब यह केसरिया रंग में नजर आएगी। इसको लेकर AltNews के मोहम्मद जुबैर जैसे लोग कटाक्ष कर रहे हैं।

रेलवे अधिकारियों ने घोषणा की है कि वंदे भारत एक्सप्रेस की 28वीं रेक को केसरिया रंग में रंगा जाएगा। केसरिया रंग वाली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन अभी शुरू नहीं हुई है। वे चेन्नई में इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) में है। वहाँ पर सेमी-हाईस्पीड ट्रेनों का निर्माण किया जाता है।

वंदे भारत एक्सप्रेस की कुल 25 रेक अपने निर्धारित मार्गों पर परिचालन कर रहे हैं और दो रेक आरक्षित रखे हुए हैं। रंग बदलने को लेकर रेलवे अधिकारियों का कहना है, “इस 28वें रेक का रंग परीक्षण के आधार पर बदला जा रहा है।”

केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शनिवार (8 जुलाई 2023) को चेन्नई में इंटीग्रल कोच फैक्ट्री का दौरा किया। यहाँ पर उन्होंने सुविधा का निरीक्षण, दक्षिणी रेलवे में सुरक्षा उपायों की समीक्षा और वंदे भारत एक्सप्रेस में सुधार का आकलन किया।

निरीक्षण के बाद केंद्रीय मंत्री ने खुलासा किया कि स्वदेशी ट्रेन की 28वीं रेक का नया रंग भारतीय तिरंगे से प्रेरित है। उन्होंने कहा कि वंदे भारत ट्रेनों में 25 सुधार लागू किए गए हैं। समीक्षा के दौरान केंद्रीय मंत्री ने ‘एंटी-क्लाइंबर्स’ या ‘एंटी-क्लाइंबिंग डिवाइस’ नामक एक नई सुरक्षा सुविधा पर भी चर्चा की। इसे आगे सभी ट्रेनों में लगाया जाएगा।

उन्होंने आगे कहा, “यह मेक इन इंडिया की एक अवधारणा है, (जिसका अर्थ है) भारत में हमारे अपने इंजीनियरों और तकनीशियनों द्वारा डिजाइन किया गया है। इसलिए वंदे भारत के संचालन के दौरान एसी, शौचालय आदि के संबंध में हमें फील्ड इकाइयों से जो भी फीडबैक मिल रहा है, उसके आधार पर डिज़ाइन में बदलाव किया जा रहा है।”

वंदे भारत ट्रेन की अब वाली ट्रेनों का रंग केसरिया करने को लेकर सोशल मीडिया पर लोग खुश हैं। विवेक सिंह नाम के यूजर ने लिखा, “शानदार! वंदे भारत ट्रेनों पर नई भगवा और ग्रे पेंट योजना का साइड लुक। यह पुराने रंग से भी ज्यादा सुंदर लग रहा है। रेलवे ने कहा- पुराना पेंट जिसमें ज्यादातर हिस्सा सफेद था, उसका रखरखाव करना मुश्किल है और उन्हें रोजाना साफ करना पड़ता था।”

वहीं, AltNews के मोहम्मद जुबैर जैसे लोग भगवा रंग देखकर ही भड़क गए हैं। इसको लेकर वे तरह-तरह का कटाक्ष कर रहे हैं। जुबैर ने एक ट्वीट किया, “इस वंदे भारत में हरा रंग ‘अच्छे दिन’ की तरह है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भिंडराँवाले के बाद कॉन्ग्रेस ने खोजा एक नया ‘संत’… तब पैसा भेजते थे, अब संसद में कर रहे खुला समर्थन: समझिए कैसे नेहरू-गाँधी परिवार...

RA&W और सेना के पूर्व अधिकारी कह चुके हैं कि कॉन्ग्रेस ने पंजाब में खिसकती जमीन वापस पाने के लिए भिंडराँवाले को पैदा किया। अब वही फॉर्मूला पार्टी अमृतपाल सिंह के साथ आजमा रही। कॉन्ग्रेस के बड़े नेता जरनैल सिंह के सामने फर्श पर बैठते थे। संजय गाँधी ने उसे 'संत' बनाया था।

‘वनवासी महिलाओं से कर रहे निकाह, 123% बढ़ी मुस्लिम आबादी’: भाजपा सांसद ने झारखंड में NRC के लिए उठाई माँग, बोले – खाली हो...

लोकसभा में बोलते हुए सांसद निशिकांत दुबे ने कहा, विपक्ष हमेशा यही बोलता रहता है संविधान खतरे में है पर सच तो ये है संविधान नहीं, इनकी राजनीति खतरे में है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -