Wednesday, September 30, 2020
Home बड़ी ख़बर प्रिय केजरीवाल जी, मेरे पिता छठी पास हैं, और शिक्षित हैं, शायद आपसे ज़्यादा

प्रिय केजरीवाल जी, मेरे पिता छठी पास हैं, और शिक्षित हैं, शायद आपसे ज़्यादा

बच्चों की क़सम खाने से लेकर जिस ममता, राहुल, शरद पवार, लालू को समय-समय पर भ्रष्टाचार का तमग़ा बाँटते फिरते थे, आज उन्हीं के साथ वह खड़े होकर भ्रष्टाचार से लड़ने की बातें कर रहे हैं। जनता को मोदी के सर्टिफ़िकेट से ज़्यादा केजरीवाल के पिछले चार साल के ट्वीट्स ही देखने हैं, उन्हें फ़ैसला करने में आसानी हो जाएगी।

पिछले दिनों दो खबरें सामने आईं थीं जिसमें गठबंधन या उनके नेताओं ने भारतीय मतदाताओं का मजाक उड़ाया था। पहली ख़बर चंद्रबाबू नायडू प्रायोजित महागठबंधन के धरने की थी, जिसपर सरकारी ख़ज़ाने से ₹11.2 करोड़ ख़र्च हुए, और वहाँ एक पोस्टर पर लिखा था कि ‘जिसके हाथों में चाय के जूठे कप पकड़ाने थे, उसके हाथों में देश पकड़ा दिया। दूसरी ख़बर कल की है जिसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री यह कहते पाए गए कि बारहवीं पास व्यक्ति को पिछली बार आपने प्रधानमंत्री बना दिया, इस बार किसी शिक्षित को चुनिए क्योंकि बारहवीं पास वाले को पता भी नहीं होता कि वो अपने हस्ताक्षर कहाँ कर रहा है।

ज़ाहिर है कि मर्यादा, गरिमा और बोलचाल की शालीनता से लेकर फ़ैक्ट चेक का टॉर्च लेकर घूमने वाले, आम आदमी पार्टी एवम् महागठबंधन के समर्थक इस बात से अत्यधिक प्रसन्न होंगे कि लोकतंत्र में एक बहुमत की सरकार के प्रधानमंत्री को, जिसके प्रधानमंत्री बनने की बात (उम्मीदवारी) चुनाव से पहले ही बता दी गई थी, चाय के जूठे कप से लेकर पकड़ने वाला से लेकर अशिक्षित तक कहा जा रहा है। 

पहले तो शिक्षित और अशिक्षित की बात कर लेते हैं कि केजरीवाल जी कहाँ ग़लत हैं। केजरीवाल जी के हिसाब से जो बारहवीं पास करके कॉलेज पास कर लेता है, वही शिक्षित है। उनके बयान से तो यही निकल कर आ रहा है, भले ही उनके समर्थक अब कुछ और बोलें। डिग्री चेक करवा ली, निकला कुछ भी नहीं। लेकिन राग वही छेड़ेंगे क्योंकि केजरीवाल जी जो कह देंगे वही परम सत्य है।

इस स्टेटमेंट में कई स्तर पर ग़लतियाँ हैं। शिक्षित होने का स्कूल या कॉलेज जाने से कोई मतलब नहीं होता। शिक्षित होने, साक्षर होने और डिग्री पाने में बहुत अंतर है। जैसे कि अरविन्द केजरीवाल के बयानों को सुनकर, उनके ट्वीट पढ़कर उनके साक्षर होने का प्रमाण तो मिलता है, लेकिन उनके शिक्षित होने पर बहुत लोगों को संदेह होता है।

फिर भी, लोकतंत्र है, और उसमें संवैधानिक तौर पर किसी निरक्षर, अशिक्षित या डिग्रीधारी लम्पट के भी चुनाव लड़ने पर पाबंदी नहीं है, इसलिए अरविन्द केजरीवाल के मुख्यमंत्री होने पर मैंने कभी सवाल नहीं उठाया कि दिल्ली वालों ने किस मूढ़मति को मुख्यमंत्री चुन लिया। मैं ऐसा नहीं कर सकता क्योंकि वो दिल्ली के लाखों लोगों का अपमान होगा जिन्होंने केजरीवाल को अपना वोट और समय दिया। 

बावजूद इसके कि केजरीवाल ने कई बार बेहूदे बयान दिए हैं, लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं को बायपास कर अपने मन की बात करने की कोशिश की है, इनके कई विधायक औरतों से छेड़छाड़, बुज़ुर्गों से मारपीट से लेकर लाभ के पद जैसे मामलों में फँसे हुए हैं, दिल्ली की जनता को किसी ने यह नहीं कहा कि मैनेजमेंट कोटा से आईआईटी के थिएटर सोसायटी में पहुँचे व्यक्ति को सत्ता मत देना। जनता जाने कि उसे ऑक्सफ़ोर्ड या हार्वर्ड के सर्टिफ़िकेट वाले नेता चाहिए या तेजस्वी यादव जैसे नवीं पास! 

केजरीवाल का तो इतिहास ऐसा रहा है कि बच्चों की क़सम खाने से लेकर जिस ममता, राहुल, शरद पवार, लालू को समय-समय पर भ्रष्टाचार का तमग़ा बाँटते फिरते थे, आज उन्हीं के साथ खड़े होकर भ्रष्टाचार से लड़ने की बातें कर रहे हैं। जनता को यह दिखता हो, तो भी वो केजरीवाल को वोट करे, फिर भी मुझे जनता की समझ पर सवाल करने का कोई हक़ नहीं क्योंकि लोकतांत्रिक प्रक्रिया में ऐसा करना गलत नहीं। 

दूसरी ख़बर ‘चाय के जूठे कप’ वाली है। आप एक बार रुक कर सोचिए कि इस पर क्या प्रतिक्रिया दी जाए। महागठबंधन की राजनीति का स्तर यह है, और शायद यही है। ये दुर्भाग्य है देश का कि सारी विपक्षी पार्टियाँ मिलकर भी सरकार को मुद्दों पर घेरने में असफल रही है। यही कारण है कि बात इस पर अटक जा रही है कि जिसके हाथ में चाय का जूठा कप देना था, उसे सत्ता दे दी!

फ़र्ज़ी के एकेडमिक डिबेट करने लगूँ तो इन लोगों को इतनी बार इस बात पर लानतें भेजी जा सकती है कि कम पड़ जाए, लेकिन सामान्य स्तर पर ही देखते हैं कि ये सोच कहाँ से आती है। ऐसे ही पकौड़ा तलने वाली बात को ऐसे घुमाया गया था मानो यह कहा गया हो कि पकौड़ा तलना ही रोजगार है। आखिर चाय और पकौड़ों से इतनी चिढ़ क्यों है? 

क्या इस संवैधानिक ढाँचे में चाय के जूठे कप धोनेवाले को चुनाव लड़ने पर मनाही है? क्या इस लोकतांत्रिक प्रक्रिया का हिस्सा तीसरी क्लास में असफल रह चुकी महिला नहीं बन सकती? क्या क़ानून या संविधान ऐसा करने से किसी को रोकता है? अगर शिक्षित होना एक शर्त होती तो आख़िर केजरीवाल मुख्यमंत्री का पर्चा कैसे भर लेते हैं? उनसे अशिक्षित और असभ्य व्यक्ति तो भारतीय राजनीति के इतिहास में कहीं नहीं दिखता जो अपने बच्चों की क़सम खाता है, ताकि अपनी छवि को भुना सके! 

आख़िर क्या कारण है कि सारे लोग एक साथ आ रहे हैं और फिर भी एक क़ायदे का मुद्दा नहीं मिल रहा। कमाल की बात तो यह है कि स्टूडियो से भी पार्टियों को समुचित समर्थन मिल रहा है, कई लोग अख़बारों और चैनलों के ज़रिए ऑफ़िसों से ही रैलियाँ कर रहे हैं, फिर भी जो मुद्दा उठाते हैं, वो टिक नहीं पाता।

सुप्रीम कोर्ट से ठुकराए जाने पर कोर्ट को नकार देते हैं। कैग की रिपोर्ट माँगते रहे, जब आई तो उसको नकार दिया। डिबेट की बात की और लोकसभा में चर्चा हुई तो उस वक्त पेपर के जहाज उड़ाने लगे। नौकरियों पर घेरा तो पीएम ने उस पर भी समुचित जवाब दे दिया। राफेल पर हर संस्था ने बता दिया की डील सस्ती है। गंगा साफ दिखने लगी, सड़क-फ्लायओवर-वाटर वे बन रहे हैं। 

कॉलेज और उच्च शिक्षा संस्थान जितनी तेज़ी से इस सरकार ने बनाए, उतनी तेज़ी तो पिछली सरकारों ने नहीं ही दिखाई थी। किसानों के लिए लगातार काम हो रहे हैं। वित्तीय समावेशन हेतु कार्य हो रहे हैं। स्वच्छता अभियान से लेकर उज्ज्वला तक ग्रामीण लोगों की जीवनशैली में बदलाव आ रहा है। बिजली हर घर में लगभग पहुँच चुकी है। मज़दूरों के लिए निश्चित मज़दूरी और बीमा की व्यवस्था हो रही है। ग़रीबों और वंचितों को आरक्षण के दायरे में लाकर सही मायनों में आरक्षण का लाभ पहुँचाने की कोशिश शुरू की जा रही है। 

देश में करोड़ों लोगों के सर पर छत आई है, पीने का पानी उपलब्ध कराया जा रहा है, बिजली पहुँच रही है, घर में एक बैंक खाता है, डायरेक्ट सब्सिडी उन तक पहुँच रही है, उनका इलाज मुफ़्त में बड़े अस्पतालों में हो रहा है, लोग अपना काम शुरू करते हुए लाखों नए जॉब का सृजन कर रहे हैं, व्यापारियों को टैक्स देने में आसानी हो रही है, करोड़ों लोग इनकम टैक्स के दायरे से बाहर हुए हैं, कई करोड़ नए टैक्सदाता जुड़े हैं, भारत विश्व की पाँचवी बड़ी अर्थव्यवस्था बना, विकास दर लगातार स्थिर और बेहतर है, लेकिन विपक्ष का मुद्दा है कि मोदी कितना पढ़ा-लिखा है! 

अगर साढ़े चार सालों में कोई सरकार इतना काम कर सकती है तो सही में मेरा सवाल यह है कि बाक़ियों ने इतने सालों में क्या किया? उनका ध्यान कहाँ था? और अगर इसे आप किसी भी तरह से टेक्नॉलॉजी आदि से जोड़कर देखते हैं, तो फिर इस सवाल का जवाब क्या है कि विपक्ष को ये सारी बातें दिखती ही नहीं? उन्हें ‘मोदी के पास कितने कपड़े हैं‘, और ‘उसके चश्मे का फ़्रेम कितने रुपए का है’ से लेकर उसकी डिग्री और उसकी पत्नी और माँ तक जाकर ख़त्म हो जाती है। 

ऐसा कब हुआ है कि विपक्ष ने कोई सवाल पूछा हो, चाहे वो कितना भी बेकार क्यों न हो, और सरकार ने उसका जवाब न दिया हो? मुझे ऐसा कोई सवाल याद नहीं आता। ये बात और है कि उन्हें और पत्रकारों के गिरोह को वो जवाब नहीं मिलते जो वो सुनना चाहते हैं, तो वो कुछ और करने लगते हैं। 

अमित शाह के बेटे को लेकर जो मामला बना था, और प्राइम टाइम हुए थे, उसका क्या हुआ? अजित डोभाल के बेटे पर जो काले धन और मनी लॉन्ड्रिंग की सनसनी फैलाई जा रही थी उस पर क्या हुआ? नितिन गडकरी पर जो भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे उसका फॉलोअप कहाँ तक पहुँचा? केजरीवाल ने जो दावे किए थे, उस पर कोर्ट के बाहर सेटलमेंट क्यों करना पड़ता है हर बार? 

चर्चा का स्तर गिरता जा रहा है, और हर नए दिन आपको विपक्ष के डेस्पेरेशन का नया उदाहरण मिल ही जाएगा। मुद्दे हैं ही नहीं कि विपक्ष कोशिश करे मोदी को घेरने की। ग़रीब के घर में शौचालय लगाने से लेकर भारतीय वैज्ञानिकों को गगनयान में बिठाने तक, मोदी सरकार हर विभाग में बेहतर प्रदर्शन करती दिखती है।

सरकारी आँकड़ों में साफ दिखता है कि नीयत सही हो तो साढ़े चार साल में सारे काम बेहतर तरीके, और तेज़ी से, पैसे बचाते हुए, किए जा सकते हैं। भले ही केजरीवाल को कॉलेज पास लोग ही शिक्षित लगते हों, लेकिन देश की जनता जानती है कि मोदी के हाथ में जो क़लम है, उससे किन जगहों पर सिग्नेचर करना है, और किन बातों को सिस्टम से हटाना है। इसलिए, देश की जनता को मोदी के सर्टिफ़िकेट से ज़्यादा केजरीवाल के पिछले चार साल के ट्वीट्स ही देखने हैं, उन्हें फ़ैसला करने में आसानी हो जाएगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यादों के झरोखों से: जब कारसेवकों ने बाबरी की रक्षा के लिए बना डाली थी ‘बेंगलुरु मॉडल’ वाली ह्यूमन चेन

चूक कहाँ हुई, यह राज बाबरी के साथ ही गया चला। लेकिन चंद जज्बाती लोगों ने ह्यूमन चेन बनाकर बाबरी की सुरक्षा की थी, यह इतिहास याद रखेगा।

यह तो पहली झाँकी है, काशी-मथुरा बाकी है: बाबरी मस्जिद पर कोर्ट के फैसले के बाद आचार्य धर्मेंद्र

"मैं आरोपी नंबर वन हूँ। सजा से डरना क्या? जो किया सबके सामने चौड़े में किया। सौभाग्य से मौका मुझे मिला, लोग इस बात को भूल गए हैं, लेकिन...”

‘हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है, बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गया था’: कोर्ट के फैसले के बाद लिबरलों का जलना जारी

अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद यहाँ हम आपके समक्ष लिबरल गैंग के क्रंदन भरे शब्द पेश कर रहे हैं, आनंद लीजिए।

बाबरी मस्जिद साजिश के तहत नहीं तोड़ी गई, यह अचानक घटी: कोर्ट ने सभी 32 आरोपितों को किया बरी

बाबरी ध्वंस मामले में सीबीआई के स्पेशल जज एसके यादव ने 2000 पन्नों का जजमेंट दिया। इस मामले में सभी आरोपितों को बरी कर दिया गया है।

हाँ, मैंने ढाँचे को तुड़वाया, अब फाँसी भी मिलती है तो सौभाग्य: डॉ रामविलास वेदांती ने कहा – रामलला को नहीं छोड़ूँगा

रामविलास वेदांती ने अयोध्या बाबरी ढाँचे के नीचे के स्तम्भों पर बने चिह्नों को लेकर कहा कि दुनिया की किसी मस्जिद में हिन्दू प्रतीक नहीं होते।

मंदिर तोड़ मीर बाकी के मस्जिद बनवाने से लेकर बाबरी ध्वंस पर अदालत के फैसले तक: बाबरी मस्जिद टाइमलाइन

दिसंबर 1992 में अयोध्या बाबरी मस्जिद ध्वंस को लेकर चल रहे मामले पर बुधवार (सितम्बर 30, 2020) को सीबीआई का विशेष कोर्ट फैसला सुनाएगा।

प्रचलित ख़बरें

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

ईशनिंदा में अखिलेश पांडे को 15 साल की सजा, कुरान की ‘झूठी कसम’ खाकर 2 भारतीय मजदूरों ने फँसाया

UAE के कानून के हिसाब से अगर 3 या 3 से अधिक लोग कुरान की कसम खाकर गवाही देते हैं तो आरोप सिद्ध माना जा सकता है। इसी आधार पर...

RSS से जुड़े ब्राह्मण ने दिया था अंग्रेजों का साथ, एक मुस्लिम वकील लड़ा था भगत सिंह के पक्ष में – Fact Check

"भगत सिंह को फ़ाँसी दिलाने के लिए अंग्रेजों की ओर से जिस 'ब्राह्मण' वकील ने मुकदमा लड़ा था, वह RSS का भी सदस्य था।" - वायरल हो रहा मैसेज...

मैं मुन्ना हूँ: कहानी उस बच्चे की जो कभी अंधेरी कोठरी में दाखिल होकर अपनी आँखें मूँद उजाले की कल्पना में लीन हो गया...

उपन्यास के नायक मुन्ना की कहानी आरंभ होती है उसके श्रापित बचपन से जहाँ वह शारीरिक, मानसिक झंझावतों से जूझता किशोरवय के अल्हड़पन को पार कर प्रेम की अनकही गुत्थियों को सुलझाता जीवन यात्रा में आगे बढ़ता रहा।

राजनीति से ग्रसित हो कॉन्ग्रेस ने करवाया था झूठा मुकदमा: बाबरी पर फैसले के बाद CM योगी का तीखा वार

"तत्कालीन कॉन्ग्रेस सरकार ने पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर जो हमारे संत, महात्मा, वरिष्ठ नेताओं पर झूठे आरोप लगाए थे, वो निर्मूल सिद्ध हुए हैं।"

‘अनुराग’ के साथ काम करने के लिए ‘फिजिकली फ्रेंडली’ होना जरूरी: पायल घोष ने शेयर किया 2018 में #MeToo पर किया गया पोस्ट

"मैं कुछ और लोगों के लिए #metooindia का नाम बदलना सुनिश्चित करूँगी क्योंकि #metooindia नकली है और प्रभावशाली लोगों का गुलाम है।"

यादों के झरोखों से: जब कारसेवकों ने बाबरी की रक्षा के लिए बना डाली थी ‘बेंगलुरु मॉडल’ वाली ह्यूमन चेन

चूक कहाँ हुई, यह राज बाबरी के साथ ही गया चला। लेकिन चंद जज्बाती लोगों ने ह्यूमन चेन बनाकर बाबरी की सुरक्षा की थी, यह इतिहास याद रखेगा।

‘जय श्री राम’ के उद्घोष के साथ आडवाणी ने जताई खुशी, जोशी ने कहा- सभी को अब मंदिर निर्माण को लेकर उत्साहित होना चाहिए

"फैसले ने मेरी निजी और बीजेपी की राम जन्मभूमि मूवमेंट भावना को भी सही साबित किया। मैं इस फैसले का तहेदिल से स्वागत करता हूँ।"

यह तो पहली झाँकी है, काशी-मथुरा बाकी है: बाबरी मस्जिद पर कोर्ट के फैसले के बाद आचार्य धर्मेंद्र

"मैं आरोपी नंबर वन हूँ। सजा से डरना क्या? जो किया सबके सामने चौड़े में किया। सौभाग्य से मौका मुझे मिला, लोग इस बात को भूल गए हैं, लेकिन...”

‘हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है, बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गया था’: कोर्ट के फैसले के बाद लिबरलों का जलना जारी

अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद यहाँ हम आपके समक्ष लिबरल गैंग के क्रंदन भरे शब्द पेश कर रहे हैं, आनंद लीजिए।

1 अक्टूबर को 11 बजे के पहले थाने में हाजिर हो: अनुराग कश्यप को अभिनेत्री से रेप के मामले में मुंबई पुलिस का समन

बॉलीवुड अभिनेत्री पायल घोष की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए मुंबई पुलिस ने फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप को समन जारी कर दिया है। अनुराग से पुलिस ने कल 11 बजे से पहले थाने में हाजिर होने को कहा है।

काली, बदसूरत… सुहाना खान ने झेला गोरे-काले का भेद, पापा शाहरुख हैं Fair & Handsome के ब्रांड एम्बेसडर

स्टार किड सुहाना कहती है कि केवल भूरी त्वचा के कारण अपने लोगों से नफरत करना सिर्फ INSECURITY के अलावा कुछ नहीं है।

बाबरी मस्जिद साजिश के तहत नहीं तोड़ी गई, यह अचानक घटी: कोर्ट ने सभी 32 आरोपितों को किया बरी

बाबरी ध्वंस मामले में सीबीआई के स्पेशल जज एसके यादव ने 2000 पन्नों का जजमेंट दिया। इस मामले में सभी आरोपितों को बरी कर दिया गया है।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,088FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe