Tuesday, September 22, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे हिन्दुओं! उपकार मानो कि शाहीन बाग़ ने एक शव यात्रा के लिए रास्ता दिया...

हिन्दुओं! उपकार मानो कि शाहीन बाग़ ने एक शव यात्रा के लिए रास्ता दिया है, वो चाहते तो…

बैरिकेडिंग खोलकर हिन्दुओं को शव यात्रा के लिए रास्ता देने अगर इंसानियत की मिसाल पेश कर रहे हैं तो फिर लोहरदगा में CAA समर्थन रैली में नीरज प्रजापति क्यों मार डाले गए? पटना में हनुमान मंदिर क्यों तोड़ा गया? काँवड़ियों पर हर साल हमले क्यों होते हैं?

दिल्ली में विधानसभा चुनाव भी लगभग समाप्त हो चुके हैं, अब सिर्फ इसके नतीजे आने बाकी हैं। इस बीच, करीब दो महीने बाद भी शाहीन बाग़ उसी जज्बे के साथ खड़ा नजर आ रहा है। कम से कम सोशल मीडिया पर तो यही चर्चा है। आज ही शाहीन बाग़ की एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही है। इस वीडियो में कुछ हिन्दुओं द्वारा शाहीन बाग़ से एक शव यात्रा ले जाया जा रहा है और कुछ लोग वहाँ पर सड़क बंद करने के लिए लगाई हुई बैरिकेडिंग को खोलकर शवयात्रा को जाने के लिए कहते हुए देखे जा रहे हैं।

सोशल मीडिया पर यह वीडियो फ़ौरन एक विशेष समूह द्वारा दिखाया जाने लगा। दिलचस्प बात यह है कि इस वीडियो को शेयर करने वाले वही लोग हैं, जिन्हें शायद ही अभी तक यह पता हो कि कुछ CAA विरोधियों ने झारखंड में कुछ ही दिन पहले नीरज प्रजापति की सिर्फ इस कारण से हत्या कर दी थी, क्योंकि वो CAA का समर्थन करते थे।

शव यात्रा के लिए रास्ता देने वाला यह वीडियो शेयर करते हुए बताया जा रहा है कि शाहीन बाग़ में CAA विरोध प्रदर्शनकारियों ने हिन्दुओं की शव यात्रा के लिए बैरकेडिंग खोली। उनका कहना है कि यह वीडियो उन देश द्रोहियों को दिखाया जाना चाहिए, जो ‘शाहीन बागियों’ को देश द्रोही बताते हैं।

शव यात्रा को रास्ता देने का यह संदेश वही लोग दे रहे हैं, जो यदा-कदा आज भी नेहरुवादी सभ्यता से चली आ रही ‘गंगा-जमुनी’ तहजीब और किसी कथित ‘सेक्युलर राष्ट्र’ की भावनाओं को जीवित होने के प्रमाण देते रहते हैं। यहाँ पर यह बात याद रखने लायक है कि यही ‘यदा-कदा’ तब आता है, जब एक हजार में से कोई एक ऐसी घटना में देश के ‘सेक्यूलरों’ का योगदान दिखाने वाली कोई घटना सामने आती है। वरना जो सिर्फ कट्टरपंथी सोच और किसी ‘किताब’ के प्रभाव में आज भी हलाला और तीन तलाक जैसे बुनियादी विषयों से बाहर नहीं निकलना चाहते, उनका सेक्युलर राष्ट्र के प्रति क्या नजरिया होगा, यह सिर्फ आत्म चिंतन की ही बात है।

- विज्ञापन -

लेकिन मुझे शव यात्रा के लिए बैरकेडिंग खोलकर इंसानियत का संदेश देने वाली बात में गंगा-जमुनी जैसी दोमुही बात भी नजर नहीं आती। यह तो स्पष्ट तौर पर एक स्वामी अपने गुलामों को संदेश देते हुए कह रहा है- ‘देखो, वह इंसानियत का मसीहा हिन्दुओं की शव यात्रा के लिए आज बैरिकेडिंग खोल रहा है, और इसके लिए हिन्दुओं को शाहीन बाग़ की इस उदार भीड़ का कृतज्ञ होना चाहिए।’

उपनिवेशवाद के समय में इस तरह की ही इंसानियत ब्रिटिशर्स भारतीयों पर ‘यदा-कदा’ कर दिया करते थे। उत्तरखंड के इतिहास में नजर दौडाएँ तो अंग्रेज ‘कुली-बेगार’ जैसी प्रथाओं को कुछ इसी तरह से सृजन कर लेते थे। लोगों को समझाया जाता था कि उन्हें ‘लॉर्ड फलाना’ की बग्गी को अपने कन्धों पर ढोने का स्वर्णिम अवसर मिल रहा है। इसलिए उसे इस उपकार के बदले लगान देना चाहिए। ग्रामीण लोगों को इसके लिए लालच दिया जाता था कि इसी बहाने उन्हें उस सड़क पर चलने का सौभाग्य भी प्राप्त होगा, जहाँ लार्ड फलाना शाम को टहला करते हैं।

बेशक, शव यात्रा को रास्ता देने वाली यह भीड़ एक उदार भीड़ की तरह नजर आ रही है, जबकि वास्तव में यह उदार है नहीं। क्योंकि यह भीड़ तो एक दक्षिणपंथी एक्टिविस्ट गुंजा कपूर को सिर्फ इसलिए इस्लाम अपनाने की सलाह देते देखी गई क्योंकि वह शाहीन बाग़ नाम के एक स्वतंत्र पृथक राष्ट्र में उन्हीं के जैसे लिबास पहनकर चली गई थी।

यही शाहीन बाग़ की भीड़ हिन्दुओं की आस्था के प्रतीक चिन्हों को गाली देती देखी गई। क्या हिन्दुओं की आस्था को ठेस लगाने के लिए गाय पर चुटकुले बनाने से लेकर हिन्दुओं की कब्र खोदने की धमकी देने वाला यह शाहीन बाग़, एक शव यात्रा के लिए बैरिकेड खोलकर इंसानियत का उदाहरण बन सकता है?

सवाल यह है कि बैरिकेडिंग खोलकर हिन्दुओं को एक शव यात्रा के लिए रास्ता देने का एहसान करने वाले ये लोग अगर ऐसा कर के इंसानियत की मिसाल पेश कर रहे हैं तो फिर झारखंड में इसी नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में रैली कर रहे नीरज प्रजापति को लोहे की रॉड से मार देने वाली मुस्लिम भीड़ किस बात का सन्देश देती है? आज तक किसी सेक्युलर विचारक को यह कहते नहीं सुना गया है कि हिन्दुओं के मंदिरों को तोड़ने वाले और उन्हें अपवित्र करने वाले मुस्लिमों की भीड़ ने इस्लामिक जिहाद और मजहबी कट्टरता का संदेश दिया है।

जब हिन्दुओं के काफिलों पर पत्थरबाजी की जाती है, जब काँवड़ों पर हमले किए जाते हैं, जब किसी इंसान को सिर्फ इस कारण नौकरी से निकलवा दिया जाता है, क्योंकि वो उस नागरिकता संशोधन कानून (CAA) का समर्थक था, जिसका कि यही शाहीन बाग़ विरोधी!

लेकिन नीरज प्रजापति की मृत आत्मा आज भी यह समझ पाने में अक्षम ही होगी कि इस्लामी नारे लगाते हुए उन्हें जान से मार देने वाले लोगों की इंसानियत और एक शव यात्रा के लिए रास्ता देने वालों के बीच शाहीन बाग़ की इस इंसानियत को किस तरह से पृथक करे।

शाहीन बाग़ की नाकामयाबी का यह कितना बड़ा सन्देश है कि करीब दो महीने से, हर आम नागरिक की रोजाना दिनचर्या में खलबली मचाकर, देश की राजधानी के एक बड़े भू-भाग पर कब्जा जमाकर, देश को एक इस्लामिक राज्य बनाने का स्वप्न देख रहे ये उपद्रवी लोग, रोजाना हिन्दुओं से आजादी, जिन्ना वाली आजादी, फ़क़ हिन्दू और इस्लामिक नारे लगाने के बाद आज यह कहते देखे जा रहे हैं कि शव यात्रा को रास्ता देने से देशवासियों को कुछ सीखना चाहिए।

यदि हिन्दुओं की शव यात्रा के लिए रास्ता देने से हिन्दुओं को शाहीन बाग का उपकार मानना चाहिए तो फिर ऐसे संदेशों से हमें शायद शुक्र मनाना चाहिए कि CAA विरोधियों ने अभी तक यह नहीं कहा कि विरोध प्रदर्शन के लिए एक बड़े एरिया का स्वामित्व लेकर चंद आजादी के चितेरों ने कट्टर हिन्दुओं को अपनी कट्टर धार्मिक प्रणाली की खातिर, हिंसा भड़काने के उद्देश्य से शाहीन बाग़ के ही रास्ते को चुना, फिर भी आज़ादी के नारे गुनगुनाते हुए इन शांतिप्रिय लोगों ने बैरिकेड नहीं, बल्कि देश के हर CAA-विरोधी के दिल का दरवाजा खोलकर यह दिखा दिया है कि इस शाहीन बाग़ का दिल आखिर कितना बड़ा है।

बंद करो शाहीन बाग़ प्रदर्शन: ठंडे पड़े दारुल उलूम देवबंद के तेवर, विदेशी फंडिंग की खुल रही है पोल

शाहीन बाग़ में भारत के ‘टुकड़े-टुकड़े’ वाले पोस्टर: नक्शों में उत्तर-पूर्व को देश से कटा हुआ दिखाया

जहाँ जाना है जाओ, लेकिन सड़क खाली करो: शाहीन बाग में CAA-विरोधियों के खिलाफ प्रदर्शन

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

संजय सिंह और डेरेक ओ ब्रायन ने ईशान करण की चिट्ठी नहीं पढ़ी… वरना पत्रकार हरिवंश से पंगा न लेते

दूर बैठकर भी कर्मचारियों के मन को बखूबी पढ़ लेने वाले हरिवंश जी, अब आसन पर बैठ संजय सिंह, डेरके ओ ब्रायन की 'राजनीति' को पढ़ हँसते होंगे।

दिल्ली दंगों से पहले चाँदबाग में हुई बैठक: 7 गाड़ियों में महिलाएँ जहाँगीरपुरी से लाई गई, देखें व्हाट्सअप चैट में कैसे हुई हिंसा की...

16-17 फरवरी की देर रात चाँद बाग में मीटिंग करने का निर्णय लिया था। यहीं इनके बीच यह बात हुई कि दिल्ली में चल रहे प्रोटेस्ट के अंतिम चरण को उत्तरपूर्वी दिल्ली के इलाकों में अंजाम दिया जाएगा।

अगले जनम मोहे विपक्ष ही कीजो : किसान विरोधी इस फासिस्ट सत्ता की इमेज क्यों नहीं बिगड़ने देता विपक्ष

अगर सरकार कोई किसान विरोधी कदम उठाती है तो इसका फायदा तो विपक्ष को ही होना चाहिए. लेकिन विपक्ष है कि सरकार की इमेज ख़राब होने ही नहीं देता।

‘…तुम्हारा हश्र भी कमलेश तिवारी जैसा होगा’ – UP में अपने ही विभाग के मंत्री को शकील अहमद ने दी धमकी

आरोप है कि अधिकारी शकील अहमद ने यूपी में मंत्री राजेश्वर सिंह को धमकाया कि उनका भी हश्र हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी जैसा ही होगा।

तुम मुस्लिम नहीं हो… तुम तो मोदी का जन्मदिन और राम मंदिर पर खुश होते हो: AltNews का ‘कूड़ा फैक्ट चेक’

पीएम मोदी का जन्मदिन मनाने वाले और राम मंदिर का समर्थन करने वाले मुस्लिम प्रोपेगेंडा पोर्टल AltNews के हिसाब से मुस्लिम नहीं हैं।

‘कृष्ण जन्मभूमि के पास से हटे इस्लामी ढाँचा’ – मथुरा में 22 गिरफ्तार, कृष्ण जन्मभूमि आंदोलन के लिए उठ रही आवाज

हिंदू आर्मी ने श्रीकृष्ण जन्मभूमि को लेकर आंदोलन की शुरुआत करने का आह्वान किया था। सभी को श्रीकृष्ण जन्मभूमि पर बुलाया गया था लेकिन...

प्रचलित ख़बरें

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

व्हिस्की पिलाते हुए… 7 बार न्यूड सीन: अनुराग कश्यप ने कुबरा सैत को सेक्रेड गेम्स में ऐसे किया यूज

पक्के 'फेमिनिस्ट' अनुराग पर 2018 में भी यौन उत्पीड़न तो नहीं लेकिन बार-बार एक ही तरह का सीन (न्यूड सीन करवाने) करवाने का आरोप लग चुका है।

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

संघी पायल घोष ने जिस थाली में खाया उसी में छेद किया – जया बच्चन

जया बच्चन का कहना है कि अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाकर पायल घोष ने जिस थाली में खाया, उसी में छेद किया है।

प्रेगनेंसी टेस्ट की तरह कोरोना जाँच: भारत का ₹500 वाला ‘फेलूदा’ 30 मिनट में बताएगा संक्रमण है या नहीं

दिल्ली की टाटा CSIR लैब ने भारत की सबसे सस्ती कोरोना टेस्ट किट विकसित की है। इसका नाम 'फेलूदा' रखा गया है। इससे मात्र 30 मिनट के भीतर संक्रमण का पता चल सकेगा।

माही, ऋचा, हुमा… 200 से भी ज्यादा लड़कियों से मेरे संबंध रहे हैं: पायल घोष का दावा- अनुराग कश्यप ने खुद बताया था

पायल घोष ने एक इंटरव्यू में दावा किया है कि अनुराग कश्यप के 200 लड़कियों से संबंध थे और अब यह संख्या 500 से ज्यादा हो सकती है।

आयकर विभाग ने उद्धव ठाकरे और उनके बेटे के साथ ही शरद पवार और उनकी बेटी को भेजा नोटिस, गलत जानकारी साझा करने के...

“मुझे अपने चुनावी हलफनामे के बारे में आयकर विभाग से नोटिस मिला। चुनाव आयोग के निर्देश पर, आयकर ने 2009, 2014 और 2020 के लिए चुनावी हलफनामों पर एक नोटिस भेजा है।"

PM मोदी के जन्मदिन पर अपमानजनक वीडियो किया वायरल, सोनू खान को UP पुलिस ने किया अरेस्ट

सोनू खान को उसके घर से गिरफ्तार किया गया। उसके पास से वह फोन भी बरामद किया गया है, जिससे उसने प्रधानमंत्री मोदी पर अपमानजनक...

‘यूपी में फिल्म सिटी से टूटेगा गिरोह विशेष का आधिपत्य’: CM योगी ने फ़िल्मी हस्तियों के साथ की बैठक, ब्लूप्रिंट तैयार

"वो कम से कम समय में उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और इसके लिए 1000 एकड़ की भूमि की व्यवस्था किए जाने की बात भी कही गई है। सीएम योगी ने स्पष्ट किया है कि ये फिल्म सिटी अंतरराष्ट्रीय स्तर का होगा।"

मुजम्मिल पाशा की मीटिंग, PFI और SDPI को हिंसा का निर्देश: NIA ने बेंगलुरु दंगे की प्लानिंग का किया पर्दाफाश

बेंगलुरु हिंसा मामले में जाँच को आगे बढ़ाते हुए NIA ने SDPI नेता मुजम्मिल पाशा को ‘भीड़ को उकसाने’ के लिए नामित किया। पाशा ने...

अकरम, शेरखान सहित करीब 12 लोगों ने सरिया, डंडे से तोड़ी कपड़ा व्यापारी वीरेंद्र की टाँग: दुकान बेचकर चले जाने की देते थे धमकी

19 सितंबर 2020 को दोपहर 12 बजे के आसपास वीरेंद्र के कपड़े की दुकान में घुस कर उन पर हमला बोला गया। यह हमला उनकी दुकान के पास कपड़े की ही दुकान करने वाले अकरम, शेर खान और आशु समेत 10-12 लोगों ने किया।

क्या है कृषि बिल में? किसानों के साथ धोखा हुआ? अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti explains 2020 farm bills

2006 में स्वामीनाथन कमिटी की एक रिपोर्ट आई थी, जो किसानों की समस्या का हल बताना चाह रही थी कि कहाँ-कहाँ पर सुधारों की आवश्यकता है।

संजय सिंह और डेरेक ओ ब्रायन ने ईशान करण की चिट्ठी नहीं पढ़ी… वरना पत्रकार हरिवंश से पंगा न लेते

दूर बैठकर भी कर्मचारियों के मन को बखूबी पढ़ लेने वाले हरिवंश जी, अब आसन पर बैठ संजय सिंह, डेरके ओ ब्रायन की 'राजनीति' को पढ़ हँसते होंगे।

दिल्ली दंगों और CAA विरोधी उपद्रव के लिए ₹1.61 करोड़ की फंडिंग: ताहिर और इशरत सहित 5 के खाते में आए थे रुपए

AAJMI को दंगे भड़काने के लिए कुल 7.6 लाख रुपए मिले थे। इनमें से 5.55 लाख रुपए विदेश में कार्यरत जामिया के पूर्व छात्रों ने भेजे।

सुशांत सिंह केस: अभी जेल में ही कटेंगे रिया और शौविक के दिन-रात, कोर्ट ने 6 अक्टूबर तक बढ़ाई न्यायिक हिरासत

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में गिरफ्तार रिया चक्रवर्ती को अभी जेल में ही रहना होगा। स्पेशल एनडीपीएस कोर्ट ने रिया चक्रवर्ती की न्यायिक हिरासत की अवधि 6 अक्टूबर तक बढ़ा दी है।

दिल्ली दंगों से पहले चाँदबाग में हुई बैठक: 7 गाड़ियों में महिलाएँ जहाँगीरपुरी से लाई गई, देखें व्हाट्सअप चैट में कैसे हुई हिंसा की...

16-17 फरवरी की देर रात चाँद बाग में मीटिंग करने का निर्णय लिया था। यहीं इनके बीच यह बात हुई कि दिल्ली में चल रहे प्रोटेस्ट के अंतिम चरण को उत्तरपूर्वी दिल्ली के इलाकों में अंजाम दिया जाएगा।

हमसे जुड़ें

263,159FansLike
77,969FollowersFollow
323,000SubscribersSubscribe
Advertisements