Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतिबच्ची से बलात्कार आरोपित से मसाज, जेल में बाहर का शानदार भोजन भी... मीडिया...

बच्ची से बलात्कार आरोपित से मसाज, जेल में बाहर का शानदार भोजन भी… मीडिया को वीडियो चलाने से रोकने के लिए कोर्ट पहुँचे AAP के मंत्री सत्येंद्र जैन

इस संबंध में अदालत ने तिहाड़ जेल प्राधिकरण को नोटिस जारी किया है। जैन ने अपनी याचिका में मीडिया घरानों को तिहाड़ जेल के सीसीटीवी फुटेज को चलाने से रोकने की माँग की है।

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendar Jain) के तिहाड़ जेल में मसाज करवाते और कई तरह का भोजन करते हुए दो वीडियो खूब वायरल हो रहे हैं। वायरल वीडियो को लेकर सत्येंद्र जैन ने दिल्ली की अदालत में एक याचिका दायर की है। इस संबंध में अदालत ने तिहाड़ जेल प्राधिकरण को नोटिस जारी किया है। जैन ने अपनी याचिका में मीडिया घरानों को तिहाड़ जेल के सीसीटीवी फुटेज को चलाने से रोकने की माँग की है। कोर्ट इस मामले की सुनवाई गुरुवार (24 नवंबर, 2022) को करेगा।

दरअसल, पिछले दिनों तिहाड़ जेल में बंद AAP नेता सत्येंद्र जैन का मालिश कराते हुए ए​क वीडियो सामने आया था। AAP ने इस मामले पर अपनी सफाई दी थी। उन्होंने इसे सत्येंद्र जैन की बीमारी बताते हुए फिजियोथेरेपी बताया था। AAP के इस फिजियोथेरेपी वाले दावे को तिहाड़ जेल प्रशासन और भारतीय फिजियोथेरेपी एसोशिएशन ने सामूहिक रूप से नकार दिया था।

इसके बाद मसाज वीडियो मामले में बड़ा खुलासा हुआ था। वायरल वीडियो में सत्येंद्र जैन को जिस शख्स से जेल में मसाज कराते हुए देखा गया था, वह नाबालिग से रेप का आरोपित बताया गया था। तिहाड़ जेल के अधिकारिक सूत्रों का हवाला देते हुए समाचार एजेंसी ने बताया था कि सत्येंद्र जैन की मालिश करने वाले कैदी का नाम रिंकू है। वह फिजियोथेरेपिस्ट नहीं है। रिंकू एक नाबालिग से बलात्कार के मामले में जेल में बंद है। उस पर पॉक्सो (POCSO) की धारा 6 और IPC की धारा 376, 506 और 509 के तहत केस दर्ज है।

इसके बाद बुधवार (23 नवंबर, 2022) को मनी लॉन्ड्रिंग (Money laundering) मामले में जेल में बंद जैन का एक और वीडियो सामने आया। इसमें जैन को अपने बैरक में कई प्रकार का भोजन और फल खाते हुए देखा गया। कहा जा रहा है कि जेल में उनका वजन 8 किलो बढ़ गया है। हालाँकि उनके वकीलों ने वजन 28 किलो कम होने का दावा किया है। इससे पहले AAP नेता ने ‘धार्मिक आहार’ के लिए सीबीआई कोर्ट में अर्जी लगाई थी। इसमें उन्होंने ड्राई फ्रूट्स और सलाद मुहैया कराने की माँग की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -