Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीति'यह मेरे आदर्शों और सिद्धांतों का सम्मान': देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न'...

‘यह मेरे आदर्शों और सिद्धांतों का सम्मान’: देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ मिलने पर भाजपा के वयोवृद्ध नेता लालकृष्ण आडवाणी ने PM मोदी का जताया आभार

पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न से सम्मानित किए जाने की घोषणा के बाद उनकी पहली प्रतिक्रिया सामने आई है। लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि यह सम्मान केवल उनके लिए नहीं, बल्कि उन आदर्शों और सिद्धांतों के लिए भी है, जिनकी उन्होंने जीवन भर सेवा की है। इस सम्मान के लिए भारत सरकार का आभार जताते हुए उन्होंने कहा ये उनके लिए अत्यंत गौरव की बात है।

पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न से सम्मानित किए जाने की घोषणा के बाद उनकी पहली प्रतिक्रिया सामने आई है। लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि यह सम्मान केवल उनके लिए नहीं, बल्कि उन आदर्शों और सिद्धांतों के लिए भी है, जिनकी उन्होंने जीवन भर सेवा की है। इस सम्मान के लिए भारत सरकार का आभार जताते हुए उन्होंने कहा ये उनके लिए अत्यंत गौरव की बात है।

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार (3 फरवरी 2024) को BJP के वरिष्ठ नेता और पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी को देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार ‘भारत रत्न’ से सम्मानित करने की घोषणा की। इस सम्मान की घोषणा के बाद भाजपा एवं अन्य दलों के नेताओं ने लालकृष्ण आडवाणी को बधाई दी।

खुद को भारत रत्न से सम्मानित किए जाने पर लालकृष्ण आडवाणी ने पत्र के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने लिखा, “RSS (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) में शामिल होने के बाद से जीवन में मुझे जो भी जिम्मेदारी मिली, उसे निभाते हुए अपने प्रिय देश की समर्पित और निस्वार्थ सेवा करने में ही मुझे खुशी मिली। मुझे भारत रत्न देने के लिए राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को हार्दिक धन्यवाद देता हूँ।”

लालकृष्ण आडवाणी ने आगे लिखा, “14 साल की उम्र में जबसे मैं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में स्वयंसेवक के रूप में शामिल हुआ, तब से मैंने केवल एक ही चीज की चाह की। वह है – जीवन में मुझे जो भी कार्य सौंपा गया है, उसमें अपने प्यारे देश की समर्पित और निस्वार्थ सेवा करना। जिस चीज ने मेरे जीवन को प्रेरित किया है, वह आदर्श वाक्य है इदं न मम- यह जीवन मेरा नहीं है। मेरा जीवन मेरे राष्ट्र के लिए है।”

इस अवसर पर उन्होंने पंडित दीन दयाल उपाध्याय और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी को भी याद किया। इस सम्मान के लिए उन्होंने देश के लोगों, भाजपा के लाखों कार्यकर्ताओं और आरएसएस के स्वयंसेवकों को दिया, जिनके साथ उन्होंने अपने जीवनकाल में काम किया। उन्होंने अपने परिवार, खासकर अपनी दिवंगत पत्नी कमला का भी आभार जताया। उन्होंने अपनी पत्नी को अपनी सबसे बड़ी शक्ति बताया।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक ट्वीट के जरिए उन्हें भारत रत्न दिए जाने की घोषणा की। पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें ये बताते हुए ख़ुशी हो रही है कि पूर्व उप-प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी को ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया जाएगा। पीएम मोदी ने भाजपा के वयोवृद्ध नेता से बात करके उन्हें बधाई भी दी। प्रधानमंत्री ने आडवाणी को इस समय के सबसे सम्मानित राजनेताओं में से एक बताया और कहा कि भारत के विकास में उनका योगदान चिरस्मरणीय है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -