Sunday, August 1, 2021
Homeराजनीतिअल्पसंख्यक आयोग में ऋतुराज जैन, अनीता जैन, नवेन्दु सिंह: UP माइनोरिटी बोर्ड का पुनर्गठन,...

अल्पसंख्यक आयोग में ऋतुराज जैन, अनीता जैन, नवेन्दु सिंह: UP माइनोरिटी बोर्ड का पुनर्गठन, जानिए कौन-कौन बने सदस्य

आयोग के अध्यक्ष तनवीर हैदर उस्मानी का निधन अप्रैल 2019 में हो गया था, तभी से इस पद पर किसी की बहाली नहीं हुई थी। मौजूदा आयोग में कुल 8 सदस्य हैं।

योगी आदित्यनाथ की सरकार ने शुक्रवार (जून 25, 2021) को उत्तर प्रदेश के अल्पसंख्यक आयोग का पुनर्गठन किया। राज्य के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने आयोग और इसके सदस्यों के पुनर्गठन को लेकर सूची जारी की। आगरा के अशफाक सैफी को ‘उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग’ का अध्यक्ष बनाया गया है। वहीं सुरेश जैन ऋतुराज और अनीता जैन को भी आयोग का सदस्य बनाया गया है।

आयोग के सदस्य हैं – आगरा के अशफाक सैफी, वाराणसी के हैदर अब्बास चाँद, मेरठ के सुरेश जैन, शाहजहाँपुर के नवेन्दु सिंह, अलीगढ़ के सम्मान अफरोज खान, गोरखपुर के बक्सीस अहमद वारसी, लखनऊ की रूमाना सिद्दीकी और अनीता जैन। जैन समुदाय के लोगों ने उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग में अपने समुदाय से दो लोगों को प्रतिनिधित्व दिए जाने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धन्यवाद दिया।

बता दें कि आयोग के अध्यक्ष तनवीर हैदर उस्मानी का निधन अप्रैल 2019 में हो गया था, तभी से इस पद पर किसी की बहाली नहीं हुई थी। मौजूदा आयोग में कुल 8 सदस्य हैं। इन सभी का कार्यकाल 3 वर्षों का होगा। हालाँकि, किन्हीं अन्य कारणों से बीच में सरकार इन्हें हटा भी सकती है। नए अध्यक्ष अशफाक सैफी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के पूर्व राष्ट्रीय सचिव रहे हैं और भारत सरकार के मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन के उपाध्यक्ष हैं।

वहीं सुरेश जैन ऋतुराज मेरठ के जैन समाज के बीच अच्छी पैठ रखते हैं। वो लगातार 10 बार से ‘मेरठ महानगर जैन समाज’ के अध्यक्ष हैं। अक्टूबर 2012 में उन्हें भाजपा महानगर अध्यक्ष चुना गया था। उससे पहले वो पार्टी के महानगर संयोजक थे। उन्हें भाजपा के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी का करीबी माना जाता था। उन्हें फरवरी 2018 में भी राज्य के अल्पसंख्यक आयोग का सदस्य मनोनीत किया गया था।

वहीं नवेन्दु सिंह भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री रह चुके हैं। साथ ही वो पार्टी के पुवायां नगर मंडल प्रभारी भी थे। हैदर अब्बास चाँद भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रहे हैं। उन्होंने तीन तलाक बिल का समर्थन किया था और इसके पक्ष में अभियान चलाया था। रूमाना सिद्दीकी पिछली बार भी आयोग की सदस्य थीं। मंत्री नंदी ने भरोसा जताया कि ये सभी अल्पसंख्यक के समस्याओं के समाधान में बेहतर प्रयास करेंगे।

बताते चलें कि पिछले अल्पसंख्यक आयोग में एक सदस्य पंजाबी और एक जैन समुदाय से था। पिछले 32 सालों से भाजपा से जुड़े अशफाक सैफी ने अध्यक्ष चुने जाने के बाद कहा, “मेरे जैसे एक छोटे से कार्यकर्ता को इतनी बड़ी जिम्मेदारी देने के लिए मैं भाजपा का आभारी हूँ। मैं अल्पसंख्यक समुदायों के हित के लिए योजनाओं पर गंभीरता से कार्य करूँगा। उन्हें रोजगार और शिक्षा देने समेत अन्य विकास के कारकों पर हमारा ध्यान रहेगा।”

हाल ही में योगी सरकार द्वारा अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति आयोग (SC-ST आयोग) की घोषणा की गई थी, जिसमें डॉक्टर रामबाबू हरित को एससी-एसटी आयोग में अध्यक्ष मनोनीत किया गया। जबकि मिथिलेश कुमार व राम नरेश पासवान को आयोग में उपाध्यक्ष नामित किया गया था। इसके अलावा 15 अन्य सदस्य भी मनोनीत किया गए थे। सभी का कार्यकाल एक वर्ष या 65 वर्ष तक की आयु तक होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,352FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe