Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीतिपार्टी का इकलौता यादव MLA हूँ, मुझे मंत्री बनाइए: बिहार से सोनिया-राहुल गाँधी को...

पार्टी का इकलौता यादव MLA हूँ, मुझे मंत्री बनाइए: बिहार से सोनिया-राहुल गाँधी को चिट्ठी, नीतीश कुमार की नई सरकार में कॉन्ग्रेस भी है साझेदार

"मैं खगड़िया से कॉन्ग्रेस विधायक हूँ। पार्टी के 19 विधायक हैं। मैं इकलौता यादव (पिछड़ा वर्ग) हूॅं। बिहार की नई सरकार में कॉन्ग्रेस को यादव मंत्री बनाना चाहिए। इससे पिछड़े वर्ग का मनोबल बढ़ेगा।"

बिहार में नीतीश कुमार ने नई सरकार राजद, कॉन्ग्रेस, हम और वामपंथी दलों के साथ बनाई है। नई सरकार का मंत्रिमंडल गठन अभी शेष है। कैबिनेट में साझेदार दलों की हिस्सेदारी को लेकर अभी तस्वीर साफ नहीं है। लेकिन मंत्री पद को लेकर दावेदारी शुरू हो चुकी है।

इसी क्रम में कॉन्ग्रेस विधायक छत्रपति यादव ने खुद को मंत्री बनाने की माँग की है। इसका आधार उन्होंने अपनी जाति को बनाया है। इसको लेकर छत्रपति यादव ने कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गाँधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी को एक चिट्ठी लिखी है। बुधवार (10 अगस्त 2022) को लिखी गई इस चिट्ठी में कहा गया है कि वे कॉन्ग्रेस के एकमात्र यादव (पिछड़ा वर्ग) से विधायक हैं। इसलिए उन्हें महागठबंधन सरकार में मंत्री बनाया जाना चाहिए। यह चिट्ठी उसी दिन लिखी गई है जिस दिन नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री और तेजस्वी यादव ने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

पत्र में विधायक छत्रपति यादव ने लिखा, “मैं खगड़िया विधानसभा से कॉन्ग्रेस का एकमात्र पिछड़े वर्ग यादव जाति का विधायक हूँ। गठबंधन के साथ चुनाव लड़ने पर कॉन्ग्रेस के कुल 19 विधायक हैं। बिहार की नई गठबंधन सरकार में पिछड़ा वर्ग की यादव जाति को शामिल किए जाने की जरूरत है। ऐसा करने से यादव जाति का मनोबल बढ़ेगा। मैं व्यक्तिगत तौर पर कॉन्ग्रेस से यह अपील करता हूँ।”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भाजपा ने कॉन्ग्रेस विधायक छत्रपति यादव की इस माँग की आलोचना की है। कॉन्ग्रेस विधायक की यह माँग ऐसे समय में सामने आई है, जब उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव राजनीतिक बयानबाजी में गिरिराज सिंह की ‘चोटी’ को खींचने को लेकर सवालों के घेरे में है। दरअसल तेजस्वी यादव जिस राजनीतिक विरासत के उत्तराधिकारी हैं, उसने कभी बिहार में ‘भूरा बाल साफ करो’ का नारा दिया गया था। इस नारे ने राज्य में जातीय कटुता पैदा की थी। इसकी वजह से कई भीषण जातीय नरसंहार हुए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -