Friday, July 12, 2024
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस नेता को भारी पड़ी CM ममता बनर्जी पर टिप्पणी, रात के 3 बजे...

कॉन्ग्रेस नेता को भारी पड़ी CM ममता बनर्जी पर टिप्पणी, रात के 3 बजे घर में घुस कर बंगाल पुलिस ने किया गिरफ्तार: मुस्लिम बहुल क्षेत्र में TMC की हुई है हार

बागची की गिरफ्तारी के बाद से कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता बर्टोला पुलिस स्टेशन के सामने धरना-प्रदर्शन करने लगे और कौस्तव की रिहाई की माँग करने लगे।

पश्चिम बंगाल पुलिस ने कॉन्ग्रेस नेता और कोलकाता हाई कोर्ट के वकील कौस्तव बागची को गिरफ्तार कर लिया है। कौस्तव ने शुक्रवार (3 मार्च, 2023) को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कथित तौर पर ममता बनर्जी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की थी, जिसके बाद उन्हें कोलकाता पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी की जानकारी बागची ने खुद एक फेसबुक पोस्ट के जरिए दी।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, मुर्शिदाबाद की सागरदिघी विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में टीएमसी उम्मीदवार की हार के बाद आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में विवादास्पद टिप्पणी के लिए बर्टोला पुलिस स्टेशन में एक लिखित शिकायत दी गई थी। इसके बाद कोलकाता पुलिस की टीम रात के 3 बजे कौस्तव के घर पहुँची। 4 घंटो से भी अधिक देर तक चले पूछताछ के बाद कौस्तव को सुबह तकरीबन 7.30 बजे गिरफ्तार कर लिया गया।

कोलकाता पुलिस के अनुसार, कॉन्ग्रेस प्रवक्ता के खिलाफ आईपीसी की धारा 120बी, 153, 354ए, 504,505,506 और 509 के तहत केस दर्ज किया गया है। गिरफ्तारी की जानकारी कौस्तव ने खुद ही अपने फेसबुक पोस्ट के जरिए दी। शनिवार (4 मार्च, 2023) की सुबह 4.00 बजे कौस्तव ने पोस्ट किया, “आखिरकार मुझे गिरफ्तार किया गया।”

इसके बाद उनके फेसबुक प्रोफाइल से एक अन्य पोस्ट किया गया, “जेल के ताले टूटेंगे, हम बहुत ही जल्दी छूटेंगे। लड़ाई चलती रहेगी, कौस्तव बागची झुकेगा नहीं।”

बागची की गिरफ्तारी के बाद से कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता बर्टोला पुलिस स्टेशन के सामने धरना-प्रदर्शन करने लगे और कौस्तव की रिहाई की माँग करने लगे। गिरफ्तारी से पहले पत्रकारों से बात करते हुए कौस्तव ने कहा कि राज्य की मुख्यमंत्री को यदि मुझसे इतना भय हो गया कि आधी रात को मेरे घर पुलिस भेजनी पड़ रही है तो यह मेरी नैतिक जीत है।

पत्रकारों द्वारा गिरफ्तारी का कारण पूछे जाने पर बागची ने कहा कि कारण एक ही है कि इस राज्य में मुख्यमंत्री के खिलाफ बयान देने का अपराध करना लेकिन मैं यह कह रहा हूँ कि यह अपराध आगे भी होगा। बागची के अनुसार, कुछ घंटो पहले उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। इसमें उन्होंने ममता बनर्जी के नीतियों के खिलाफ आवाज उठाई थी। इसलिए ममता बनर्जी की पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया है।

बता दें कि मुर्शिदाबाद जिले की सागरदिघी विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में टीएमसी की हार हुई थी। उपचुनाव में वाम मोर्चा समर्थित कॉन्ग्रेस के बेरियन बिस्वास ने टीएमसी उम्मीदवार देबाशीष बंदोपाध्याय को 23,000 वोटों से हरा दिया था। नतीजे आने के बाद बागची ने एक संवाददाता सम्मेलन किया था।

आरोप है कि प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने पूर्व आईएएस अधिकारी दीपक कुमार घोष द्वारा लिखित पुस्तक के हवाले से मुख्यमंत्री के निजी जीवन के बारे में आपत्तिजनक बयान दिया था। इसी बयान को उनके गिरफ्तारी की वजह बताई जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

उधर कॉन्ग्रेसी बक रहे गाली पर गाली, इधर राहुल गाँधी कह रहे – स्मृति ईरानी अभद्र पोस्ट मत करो: नेटीजन्स बोले – 98 चूहे...

सवाल हो रहा है कि अगर वाकई राहुल गाँधी को नैतिकता का इतना ज्ञान है तो फिर उन्होंने अपने समर्थकों के खिलाफ कभी कार्रवाई क्यों नहीं की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -