Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीतिआयुर्वेद की शरण में पहुँचे राहुल गाँधी, 121 साल पुरानी वैद्यशाला में करा रहे...

आयुर्वेद की शरण में पहुँचे राहुल गाँधी, 121 साल पुरानी वैद्यशाला में करा रहे हैं घुटने का इलाज; ‘भारत जोड़ो यात्रा’ से शुरू हुआ था दर्द

इलाज से पहले राहुल गाँधी ने वैद्यशाला परिसर में बने श्री विश्वंभर मंदिर में पूजा की थी। यह मंदिर आयुर्वेद के जनक और देवताओं के चिकित्सक भगवान धन्वंतरि को समर्पित है। भगवान धन्वंतरि को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है।

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी (Congress Leader Rahul Gandhi) केरल के मलप्पुरम में अपने घुटने का इलाज करा रहे हैं। यहाँ वह 121 साल पुराने आयुर्वेदिक संस्थान कोट्टक्कल आर्य वैद्यशाला में भर्ती हैं। ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान उन्हें घुटने में दर्द की शिकायत हुई थी। बीते एक सप्ताह से इलाज करवा रहे राहुल गाँधी को वैद्यशाला से शनिवार (29 जुलाई 2023) को छुट्टी मिलेगी।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कोट्टक्कल आर्य वैद्यशाला के पी. मदनवनकुट्टी वेरियर और के. मुरलीधरन के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम राहुल गाँधी के इलाज में जुटी हुई है। इलाज से पहले राहुल गाँधी ने आर्य वैद्यशाला परिसर में बने श्री विश्वंभर मंदिर में पूजा-अर्चना भी की थी। 

यह मंदिर आयुर्वेद के जनक और और देवताओं के चिकित्सक भगवान धन्वंतरि को समर्पित है। भगवान धन्वंतरि को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। केरल के मलप्पुरम स्थित वैद्यशाला में इलाज कराने के लिए आने वाले सभी रोगी सबसे पहले इस मंदिर में जरूर दर्शन करते हैं।

ज्ञात हो कि घुटने का इलाज कराने के लिए राहुल गाँधी 22 जुलाई 2023 को कोट्टक्कल पहुँचे थे। इस दौरान कॉन्ग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल, विधायक अनिल कुमार और मलप्पुरम जिला कॉन्ग्रेस कमेटी के अध्यक्ष वीएस जॉय भी उनके साथ थे। राहुल गाँधी ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान सैकड़ों किलोमीटर की यात्रा की थी। इसी दौरान उनके घुटनों में दर्द होना शुरू हो गया था।

केरल के कोटक्कल में स्थित आर्य वैद्यशाला की वेबसाइट के अनुसार, यह संस्थान एक सदी से भी अधिक पुराना है। साल 1902 में वैद्यरत्नम पीएस वारियर ने इसकी स्थापना की थी। आरंभ में यह वैद्यशाला एक छोटे क्लीनिक के रूप में शुरू हुई थी। अब यह बड़े संस्थान में बदल चुका है।

इसकी दवाइयों की माँग भारत में ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी है। कोट्टक्कल, कांजीकोड और नंजनगुड में आर्य वैद्यशाला की मेडिसिन मैनुफैक्चरिंग यूनिट हैं, जिसमें 550 से भी ज्यादा आयुर्वेदिक दवाओं का निर्माण किया जाता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -