Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिराहुल, सोनिया, प्रियंका अब लाइन में खड़े होंगे एयरपोर्ट पर! गृह मंत्रालय को नागरिक...

राहुल, सोनिया, प्रियंका अब लाइन में खड़े होंगे एयरपोर्ट पर! गृह मंत्रालय को नागरिक उड्डयन ने भेजा प्रस्ताव

“सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी सुरक्षा पाने वाले मामूली लोग नहीं हैं। वाजपेयी जी ने गाँधी परिवार को एसपीजी सुरक्षा दी थी। 1991 से अब तक एनडीए दो बार सत्ता में आई, लेकिन...”

कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गाँधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गाँधी को भी अब विमान से यात्रा करने के लिए आम हवाई यात्री की तरह एयरपोर्ट की सुरक्षा प्रक्रिया से गुजरना होगा। अब उन्हें भी कतार में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार करना होगा। इससे पहले, इन तीनों को सुरक्षा जाँच को दरकिनार करते हुए एयरक्राफ्ट के बोर्डिंग तक कार से जाने की अनुमति प्राप्त थी।

बता दें कि नवंबर में ही मोदी सरकार ने सोनिया गाँधी, उनके बेटे, वायनाड सांसद और कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी व प्रियंका गाँधी को मिला हुआ एसपीजी सुरक्षा कवच हटाने का निर्णय लिया था। अब उनकी सुरक्षा का स्तर घटा कर ज़ेड प्लस कर दिया गया है। यानी इनकी सुरक्षा अर्द्धसैनिक बल सीआरपीएफ (सेंट्रल रिज़र्व पुलिस फ़ोर्स) की ज़िम्मेदारी है। सोमवार (11 नवंबर, 2019 को) को सीआरपीएफ़ ने एसपीजी जवानों से तीनों की सुरक्षा के संबंध में जानकारी ली थी। फिलहाल एसपीजी सीआरपीएफ़ के सहायक की भूमिका में है।

जानकारी के मुताबिक एसपीजी कवर वापस लेते ही विशेषाधिकारों को समाप्त हो जाना चाहिए था। हालाँकि एयरपोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इंडिया और ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन सेक्योरिटी ने अनौपचारिक रूप से गाँधी परिवार को ये सुविधा इस्तेमाल करने दिया था। लेकिन हाल ही में उनकी कार एयरपोर्ट के एक अन्य कार से टकरा गई। जिसके बाद एयरपोर्ट के सुरक्षा अधिकारियों ने FIR दर्ज करने की धमकी दी है।

इस हाई प्रोफाइल मामले को CRPF की मदद से सँभाल लिया गया। लेकिन नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो की तरफ से कहा गया कि आगे से इस तरह की घटनाएँ न हों और वो अपनी विशेष सुरक्षा के दायरे में रहें। अब अगर गृह मंत्रालय नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो के प्रस्ताव को स्वीकार करता है, तो गाँधी को हवाई अड्डे की सुरक्षा से गुजरना होगा और घरेलू या अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में सवार होने के लिए अन्य यात्रियों के साथ कतार में खड़ा होना होगा।

उल्लेखनीय है कि एसपीजी सुरक्षा व्यवस्था वापस लिए जाने के विरोध में कॉन्ग्रेस सदस्यों ने लोकसभा में जमकर हंगामा किया था। लोकसभा में कॉन्ग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा था, “सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी सुरक्षा पाने वाले मामूली लोग नहीं हैं। वाजपेयी जी ने गाँधी परिवार को एसपीजी सुरक्षा दी थी। 1991 से अब तक एनडीए दो बार सत्ता में आई, लेकिन उनकी एसपीजी सुरक्षा कभी नहीं हटाई गई।”

सिखों का नरसंहार करने वालों ने पूछा- पुलवामा के आतंकी हमले से किसे हुआ फायदा?

इकोनॉमी में कॉन्ग्रेस का 6.30 लाख का योगदान, जमानत बचाने वाले 3 नेताओं को शो कॉज नोटिस!

पटेल ही नहीं राजेंद्र प्रसाद, टंडन, करियप्पा, राम… किसी को नहीं चाहते थे नेहरू

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नाम: नूर मुहम्मद, काम: रोहिंग्या-बांग्लादेशी महिलाओं और बच्चों को बेचना; 36 घंटे चला UP पुलिस का ऑपरेशन, पकड़ा गया गिरोह

देश में रोहिंग्याओं को बसाने वाले अंतरराष्ट्रीय मानव तस्करी के गिरोह का उत्तर प्रदेश एटीएस ने भंडाफोड़ किया है। तीन लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है।

‘राजीव गाँधी थे PM, उत्तर-पूर्व में गिरी थी 41 लाशें’: मोदी सरकार पर तंज कसने के फेर में ‘इतिहासकार’ इरफ़ान हबीब भूले 1985

इतिहासकार व 'बुद्धिजीवी' इरफ़ान हबीब ने असम-मिजोरम विवाद के सहारे मोदी सरकार पर तंज कसा, जिसके बाद लोगों ने उन्हें सही इतिहास की याद दिलाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,464FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe