Tuesday, July 16, 2024
Homeराजनीति'RSS क्यों खतरनाक है? मनमोहन सरकार की उपलब्धियाँ बताएँ': यूपी में प्रवक्ता बनाने लिए...

‘RSS क्यों खतरनाक है? मनमोहन सरकार की उपलब्धियाँ बताएँ’: यूपी में प्रवक्ता बनाने लिए परीक्षा ले रही कॉन्ग्रेस, मात्र 4% महिलाएँ

एक सवाल में मनमोहन सरकार की 'अच्छाई' का कारण उसकी उपलब्धियों के बारे में पूछा गया है। योगी सरकार को 'विफल' करार देकर इसका भी कारण पूछा गया है।

कॉन्ग्रेस पार्टी अब उत्तर प्रदेश में प्रवक्ताओं की नियुक्ति के लिए परीक्षा ले रही है। प्रोफेशनल तरीके से सवाल पूछे जा रहे हैं, जिससे पार्टी के नेता भी परेशान हैं। 45 मिनट तक परीक्षा की समयावधि रखी गई है। सवालों में ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) खतरनाक क्यों है’ से लेकर ‘2009 में कॉन्ग्रेस ने कितनी सीटें जीतीं’ जैसे प्रश्न शामिल हैं। 20 ऑब्जेक्टिव और 2 विश्लेषणात्मक सवाल पूछे जा रहे हैं। प्रवक्ता बनने आए लोगों का कहना है कि ये परीक्षा UPSC से कम नहीं।

प्रवक्ता के अभ्यर्थियों से उत्तर प्रदेश में जिलों और प्रखंडों की संख्या को लेकर भी एक सवाल है। एक अन्य सवाल ये है कि उत्तर प्रदेश की आरक्षित लोकसभा सीटों की संख्या बताएँ। विधानसभा में सीटों की संख्या से लेकर 2004 और 2009 में कॉन्ग्रेस द्वारा यहाँ जीती गई सीटों की संख्या को लेकर भी एक सवाल है। एक सवाल में मनमोहन सरकार की ‘अच्छाई’ का कारण उसकी उपलब्धियों के बारे में पूछा गया है। योगी सरकार को ‘विफल’ करार देकर इसका भी कारण पूछा गया है।

कॉन्ग्रेस पार्टी इसके लिए आवेदन भी मँगा रही है, जिसमें सोशल मीडिया प्रोफाइल्स के लिंक्स से लेकर नाम, जन्मतिथि, शिक्षा, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी जैसी जानकारियाँ भी माँगी जाती है। साथ ही कॉन्ग्रेस पार्टी की सिद्धांतों के प्रति निष्ठा की शपथ के साथ-साथ देश की प्रगति, एकता और अखंडता के लिए काम करने के लिए भी इसमें शपथ दिलाई जाती है। 75 जिलों के 2850 लोगों ने इन परीक्षाओं में हिस्सा लिया है। लखनऊ, हरदोई, सीतापुर और लखीमपुर में भी परीक्षाएँ पार्टी ने ली हैं।

आपको याद होगा कि कॉन्ग्रेस पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में 40% महिला उम्मीदवारों की बात कही थी, लेकिन सच्चाई ये है कि इन परीक्षाओं में 4% महिलाएँ भी हिस्सा नहीं ले रही हैं। जब प्रशांत किशोर पार्टी की रणनीति देख रहे थे, तभी उन्होंने सिफारिश की जगह चुनाव के फॉर्मूले का नियम बनाया था। जून 2018 में ऐसी ही परीक्षा लेकर 18 लोगों को चुना गया है। 3 साल तक कुछ नहीं हुआ। अब फिर कॉन्ग्रेस जागी है। इन सभी के सोशल मीडिया डिटेल्स भी लिए गए हैं और देखा जा रहा है कि ये ऑनलाइन कितने सक्रिय रहते हैं।

उनसे पूछा गया है कि वो कितने दिनों पर सोशल मीडिया पर कंटेंट पोस्ट करते हैं। विश्लेषणात्मक सवालों कुछ इस प्रकार से पूछे जा रहे हैं – ‘उत्तर प्रदेश में कॉन्ग्रेस की क्या भूमिका है?’, ‘कॉन्ग्रेस पार्टी ने उत्तर प्रदेश के लिए क्या-क्या किया है?’, ‘मीडिया की आज की तीन बड़ी खबरें बताएँ, जिन पर कॉन्ग्रेस प्रवक्ताओं को बयान जारी करने चाहिए’, ‘RSS का इतिहास बताएँ’, ‘स्वतंत्रता संग्राम सेनानी कौन हैं?’, ‘कॉन्ग्रेस पार्टी का इतिहास बताएँ’, ‘स्वतंत्रता संग्राम में कॉन्ग्रेस पार्टी के योगदान के बारे में बताएँ’ इत्यादि।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -