Thursday, January 20, 2022
Homeदेश-समाज6.6 लाख लोगों के लिए 21000 कैम्प, 23 लाख को खिलाया जा रहा खाना:...

6.6 लाख लोगों के लिए 21000 कैम्प, 23 लाख को खिलाया जा रहा खाना: कोरोना पर स्वास्थ्य व गृह मंत्रालय के आँकड़े

गृह मंत्रालय ने भी जानकारी दी है कि देश भर में अब तक 21,064 कैम्पस स्थापित किए जा चुके हैं। इनमें अलग-अलग प्रदेशों में मजदूरों और बेघर लोगों को आसरा दिया जा रहा है। फ़िलहाल इन कैम्पों में 6.6 लाख लोग रह रहे हैं और 23 लाख लोगों के लिए खाने का इंतजाम किया जा रहा है। ये वो लोग हैं, जो गरीब हैं, भूख की समस्या से जूझ रहे हैं, दूसरे प्रदेशों से आए हैं या फिर कई ऐसे भी हैं जो अपने गृह राज्य में पहुँचने के बाद क्वारंटाइन किए गए हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस को लेकर अब तक के अपडेट्स और सूचनाओं के साथ-साथ सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों से जनता को अवगत कराया है। मंत्रालय ने बताया है कि पिछले 24 घंटों में देश में कोरोना के 227 नए मामले सामने आए हैं। देश में लॉजिस्टिक्स आइटम्स की कमी न हो इसके लिए दक्षिण कोरिया, टर्की और वियतनाम से सप्लाई ली जा रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय के जनरल सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने बताया कि डीआरडीओ स्थानीय उत्पादन कंपनियों के साथ मिल कर एन-95 मास्क की सप्लाई बढ़ाने के लिए लगातार कार्य कर रहा है।

इधर दिल्ली सरकार ने ‘एपिडेमिक डिजीज एक्ट’ के तहत सभी डीएम, म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन और पुलिस को कहा है कि जहाँ भी डॉक्टरों अथवा नर्सों को उनके मकान-मालिकों द्वारा घर खाली करने के लिए दबाव बनाया जा रहा हो, वहाँ कार्रवाई की जाए। उधर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि हर एक जिले में तलाशी अभियान चला कर उन लोगों को खोजा जाए, जिन्होंने दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज़ इमारत में हुए मजहबी कार्यक्रम में हिस्सा लिया हो। संभावना है कि उनमें से कुछ लोग यूपी में हो सकते हैं, जो कोरोना के करियर भी हो सकते हैं।

अब तक 42,788 सैम्पलों की टेस्टिंग की जा चुकी है। इनमें से 4346 सैम्पलों की टेस्टिंग तो 1 दिन पहले ही की गई है। आईसीएमआर ने बताया कि ये उनकी 36% क्षमता को दर्शाता है। अब तक 133 लैब्स सक्रिय हो गए हैं। साथ ही 49 प्राइवेट लैब्स को भी अनुमति दे दी गई है। सोमवार (मार्च 29, 2020) को 399 लोगों की टेस्टिंग उन प्राइवेट लैब्स में ही की गई। स्वास्थ्य मंत्रालय ने निजामुद्दीन क्षेत्र में कई कोरोना मरीजों के मस्जिद में छिपे मिलने वाली घटना पर टिप्पणी करते हुए कहा कि ये फाल्ट-फाइंडिंग का समय नहीं है बल्कि जल्द से जल्द एक्शन लेने का वक़्त है।

इधर गृह मंत्रालय ने भी जानकारी दी है कि देश भर में अब तक 21,064 कैम्पस स्थापित किए जा चुके हैं। इनमें अलग-अलग प्रदेशों में मजदूरों और बेघर लोगों को आसरा दिया जा रहा है। फ़िलहाल इन कैम्पों में 6.6 लाख लोग रह रहे हैं और 23 लाख लोगों के लिए खाने का इंतजाम किया जा रहा है। ये वो लोग हैं, जो गरीब हैं, भूख की समस्या से जूझ रहे हैं, दूसरे प्रदेशों से आए हैं या फिर कई ऐसे भी हैं जो अपने गृह राज्य में पहुँचने के बाद क्वारंटाइन किए गए हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भगवान विष्णु की पौराणिक कहानी से प्रेरित है अल्लू अर्जुन की नई हिंदी डब फिल्म, रिलीज को तैयार ‘Ala Vaikunthapurramuloo’

मेकर्स ने अल्लू अर्जुन की नई हिंदी डब फिल्म के टाइटल का मतलब बताया है, ताकि 'अला वैकुंठपुरमुलु' से अधिक से अधिक दर्शकों का जुड़ाव हो सके।

‘एक्सप्रेस प्रदेश’ बन रहा है यूपी, ग्रामीण इलाकों में भी 15000 Km सड़कें: CM योगी कुछ यूँ बदल रहे रोड इंफ्रास्ट्रक्चर

योगी सरकार ने ग्रामीण इलाकों में 5 वर्षों में 15,246 किलोमीटर सड़कों का निर्माण कराया। उत्तर प्रदेश में जल्द ही अब 6 एक्सप्रेसवे हो जाएँगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,298FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe