Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीतिदेश में 'सनातन धर्म की हुकूमत' का डर दिखाने वाले मल्लिकार्जुन खड़गे बने कॉन्ग्रेस...

देश में ‘सनातन धर्म की हुकूमत’ का डर दिखाने वाले मल्लिकार्जुन खड़गे बने कॉन्ग्रेस के नए अध्यक्ष: लगातार 9 बार रहे हैं विधायक, 3 बार बने सांसद

चुनाव में कुल 9385 वोट पड़े थे। 2019 लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद राहुल गाँधी ने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष का पद छोड़ दिया था।

गाँधी परिवार के वफादार मल्लिकार्जुन खड़गे कॉन्ग्रेस पार्टी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने गए हैं। उन्होंने केरल के नेता शशि थरूर को हराया। अब उन्होंने सोनिया गाँधी की जगह ली है। केरल के वायनाड से सांसद राहुल गाँधी ने कहा है कि अब पार्टी में उनके किरदार और जिम्मेदारी पर नए अध्यक्ष निर्णय लेंगे। चुनाव में अनियमितता के आरोप भी लगे हैं। मल्लिकार्जुन खड़गे कर्नाटक से आते हैं। वो लोकसभा और राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे हैं।

बुधवार (19 अक्टूबर, 2022) को कॉन्ग्रेस अध्यक्ष के लिए हुए चुनाव की मतगणना हुई। इसमें मल्लिकार्जुन खड़गे की जीत हुई। पछले दो दशक में इस पद को सँभालने वाली गाँधी परिवार से बाहर के वो पहले व्यक्ति होंगे। जहाँ मल्लिकार्जुन खड़गे को 7897 वोट मिले, वहीं शशि थरूर मात्र 1072 वोट ही प्राप्त कर सके। चुनाव में कुल 9385 वोट पड़े थे। 2019 लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद राहुल गाँधी ने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष का पद छोड़ दिया था।

हाल ही में मल्लिकार्जुन खड़गे का एक वीडियो भी वायरल हुआ था, जिसमें वो कहते दिखे थे, “साढ़े चार कदम भी नहीं चले और हमसे पूछ रहे हैं कि क्या किया। अगर मोदी जी को देश में ऐसे ही शक्ति मिलेगी तो समझो फिर इस देश में सनातन धर्म और आरएसएस की हुकूमत आएगी।” ये वीडियो 2019 लोकसभा चुनाव के समय का था। 16 फरवरी, 2021 से खड़गे राज्यसभा सांसद हैं। वो कर्नाटक विधानसभा में भी नेता प्रतिपक्ष रह चुके हैं।

उन्होंने पहली बार 1972 में गुलबर्ग में स्थित गुरमिटकल विधानसभा क्षेत्र से पहली बार जीत दर्ज की थी और विधायक बने थे। 1976 में वो मंत्री बने। 1978 में फिर से जीत करने के बाद उन्हें दोबारा राज्य में मंत्री पद मिला। वो 1980 में फिर मंत्री बने। 1983 में बतौर विधायक हैट्रिक लगाई। इस तरह 1989, 1994, 1999, 2004 और 2008 में भी वो विधायक बने। 2009 और 2014 में वो सांसद बने, लेकिन 2019 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -