Friday, July 19, 2024
Homeराजनीतिप्रियंका गाँधी इस साल रखेंगी नवरात्रि का व्रत, कॉन्ग्रेस ने मीडिया को बताया: लोगों...

प्रियंका गाँधी इस साल रखेंगी नवरात्रि का व्रत, कॉन्ग्रेस ने मीडिया को बताया: लोगों ने ‘केरल कॉन्ग्रेस गौहत्या’ की याद दिलाई

एबीपी न्यूज के एडिटर पंकज झा ने बताया कि कॉन्ग्रेस पार्टी की तरफ से इस बार जानकारी दी गई है कि प्रियंका गाँधी नवरात्रि का व्रत कर रही है।

कॉन्ग्रेस की महासचिव प्रियंका गाँधी वाड्रा इस बार नवरात्रि के व्रत रखेंगी। ये जानकारी गुरुवार (अक्टूबर 7, 2021) को कॉन्ग्रेस पार्टी के हवाले से मीडिया में आई है। एबीपी न्यूज के एडिटर पंकज झा ने बताया कि कॉन्ग्रेस पार्टी की तरफ से इस बार जानकारी दी गई है कि प्रियंका गाँधी नवरात्रि का व्रत कर रही है।

इसके अलावा प्रियंका गाँधी वाड्रा ने खुद भी शारदीय नवरात्रि की सभी को शुभकामनाएँ दी हैं। इसके साथ उन्होंने देवी माता का महा मंत्र भी लिखा है, “या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।”

कॉन्ग्रेस द्वारा मीडिया में इस बात की जानकारी देने पर और मीडिया द्वारा इसका प्रचार किए जाने पर यूजर मीडिया और कॉन्ग्रेस दोनों की खिल्ली उड़ा रहे हैं। आशुतोष झा लिखते हैं, “इस व्रत के दौरान वो निर्जला रहेंगी या फलाहार पर? अगर फलाहार करेंगी तो कौन सा फल खाएँगी, कब-कब खाएँगी, कितना खाएँगी , कटा हुआ खाएँगी या पूरा खाएँगी, कितनी बार चबाएँगी , श्रीमान आपसे निवेदन है कि ये भी जरूर बताइएगा , क्योंकि यही तो न्यूज़ है जो UPSC में पूछा जाएगा।”

एक यूजर ने कहा, “वो दिन जब कॉन्ग्रेस ने बेसहाय गाय को केरल में सिर्फ इसलिए काटा था क्योंकि उन्हें भाजपा का विरोध करना था उस दिन मेरा आखिरी दिन था कि मैंने कॉन्ग्रेस को समर्थन दिया।”

रौशन नारायण लिखते हैं, “कोई नवरात्रि का व्रत करे तो इसकी भी जानकारी ट्वीट किया जाता है और हमारे आदरणीय पत्रकार इसका भी उल्लेख करते है।”

देवेश उपाध्याय ये जानकारी पढ़कर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहते हैं, “तो क्या हम लोग नाचें पंकज झा। यही न्यूज है आपकी रिपोर्टर के तौर पर कि कौन व्रत रखता है कौन शौच जाता है कौन कब सोता है। शर्म आनी चाहिए तुम्हें अपने पर और तुम्हारी जैसी पत्रकारिता पर।”

आलोक लिखते हैं, “ये तो अजूबा हो गया! इस देश में पहली बार किसी ने नवरात्रि का व्रत रखा है। घर पहुँचते में मुर्गी की टांग चबाई जाएगी या पोर्क धांसा जाएगा पास्ता के साथ। गजब लीक, ग़ज़ब की ब्रेकिंग!”

एक तरह से देखा जाए तो यूजर की प्रतिक्रिया गलत नहीं हैं क्योंकि ये वाकई हैरान करने वाला है कि कोई व्रत रखता है तो उसे मीडिया में प्रसारित कर दिया जाता है।

चुनावों से पहले हिंदू बन रहे राहुल-प्रियंका, बाकी राज्यों में कैसा हाल?

गौरतलब है कि यूपी चुनाव नजदीक आते-आते राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी में सनातन संस्कृति के प्रति आस्था बढ़ती देखी गई है। पिछले दिनों राहुल गाँधी वैष्णो देवी चले गए थे। इसी तरह राजनीति में सक्रिय होने के बाद से प्रियंका गाँधी भी कभी गंगा तट की सैर तो कभी पूजा अर्चना करते दिखती हैं। जबकि केरल जैसे राज्य में उनकी सत्ता के बावजूद हिंदुओं की भावनाओं की कद्र नहीं होती और खुलेआम सड़कों पर गाय के मीट से जश्न मनाया जाता है।

इसी प्रकार असम में देखें तो हिंदूविरोधी व कट्टर बयानबाजी के लिए पहचाने जाने वाले बदरुद्दीन अजमल से भी पिछले चुनावों में पार्टी ने गठबंधन किया था। बंगाल में उन्हें मौलवी अब्बास सिद्दीकी की इंडियन सेकुलर फ्रंट के साथ हाथ मिलाया था। लेकिन, इस समय बात चाहे सनातन परिधान धारण करने की हो या फिर माथे पर तिलक लगाने, जनेऊ पहनने और आरती-पूजा करने की…राहुल-प्रियंका सब करते दिखते हैं और साथ ही साथ उनकी पार्टी समुदाय विशेष के बंधुओं को रिझाने के लिए मस्जिद के सामने मेनिफेस्टो भी देने लगी है। इस दोहरे चरित्र पर कई बार सवाल भी उठा है कि आखिर मस्जिद-मजार जाने वाले कैसे अलग रूप धारण कर बैठे हैं। इसके अतिरिक्त गाँधी परिवार के नकली ‘हिंदू’ होने को लेकर भी जगह-जगह बातें होती रहती हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -