Monday, July 22, 2024
Homeराजनीतिओवैसी की सभा में लगे 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, AIMIM कैंडिडेट अब्दुल मोबीन पर...

ओवैसी की सभा में लगे ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, AIMIM कैंडिडेट अब्दुल मोबीन पर FIR: प्रशासन ने बताया माहौल खराब करने वाली हरकत

ऑपइंडिया से बात करते हुए केस में नामजद AIMIM प्रत्याशी मौलाना अब्दुल मोबीन रिज़वी ने वीडियो को एडिटेड बताया है। उन्होंने बिहार के एक न्यूज़ चैनल पर अपनी वीडियो को काट-छाँट कर वायरल करने का आरोप लगाया है। अब्दुल ने हमें बताया कि मोहम्मद शाकिर उनके प्रदेश अध्यक्ष हैं, जिनके समर्थन में 'शाकिर साहब जिंदाबाद' का नारा लगाया गया था।

झारखंड के गिरडीह जिले में बुधवार (30 अगस्त 2023) को AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की जनसभा में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए गए हैं। मौके पर मौजूद सरकारी कर्मचारी की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ FIR दर्ज कर मामले की जाँच कर रही है। ऑपइंडिया से बात करते हुए गिरडीह के प्रशासनिक अधिकारियों ने ओवैसी की सभा में पाकिस्तान समर्थक नारों की पुष्टि की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला डुमरी थाना क्षेत्र के KV हाईस्कूल मैदान का है। बुधवार को यहाँ असदुद्दीन ओवैसी अपने विधानसभा प्रत्याशी मौलाना अब्दुल मोबीन रिज़वी के समर्थन में जनसभा करने पहुँचे थे। सभा शुरू होने के कुछ देर बाद ही भीड़ में मौजूद एक व्यक्ति ने नारेबाजी शुरू कर दी। दावा किया जा रहा है कि अज्ञात व्यक्ति द्वारा सभा में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए गए। नारेबाजी के दौरान ओवैसी ने नारे लगा रहे व्यक्ति को टोकते हुए कहा, “तुम्हें ज़ाकिर लाया है क्या ?”

यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। ऑपइंडिया ने इस मामले में सहायक निर्वाचन अधिकारी डुमरी दिव्या से बात की। दिव्या ने हमें बताया कि सोशल मीडिया पर वायलर हो रहे वीडियो के अलावा मौके पर मौजूद प्रशासनिक अधिकारी भी सभा की रिकॉर्डिंग कर रहे थे।

अधिकारी ने कहा कि सभा के बाद वीडियो की जाँच में प्रथम दृष्ट्या भीड़ में से किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा पाकिस्तान जिंदाबाद के नारेबाजी की पुष्टि करते हुए दिव्या ने इसे आचार संहिता का उल्लंघन बताया। साथ ही उन्होंने कहा कि मौके पर मौजूद ग्रामसेवक की तहरीर पर केस दर्ज करवाया गया है।

ग्रामसेवक राजेश्वर महतो ने भी ऑपइंडिया से बातचीत में खुद के मौके पर मौजूद होने और पाक समर्थक नारेबाजी के बाद पुलिस में शिकायत दर्ज कराने की पुष्टि की। इस मामले में गिरडीह प्रशासन द्वारा जारी प्रेसनोट में भी दर्शक दीर्घा से भी ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाने की पुष्टि की गई है। गिरडीह के PRD विभाग के मुताबिक यह हरकत साम्प्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने की साजिश है।

इस मामले में थाना डुमरी में AIMIM (ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुसलमीन) प्रत्याशी अब्दुल मोबिन रिजवी और सभा के आयोजक मुजफ्फर हसन नूरानी को नामजद किया गया है। वहीं, अन्य अज्ञात व्यक्तियों के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता और लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धाराओं में FIR दर्ज हुई है।

AIMIM ने वीडियो को बताया एडिटेड

ऑपइंडिया से बात करते हुए केस में नामजद AIMIM प्रत्याशी मौलाना अब्दुल मोबीन रिज़वी ने वीडियो को एडिटेड बताया है। उन्होंने बिहार के एक न्यूज़ चैनल पर अपनी वीडियो को काट-छाँट कर वायरल करने का आरोप लगाया है। अब्दुल ने हमें बताया कि मोहम्मद शाकिर उनके प्रदेश अध्यक्ष हैं, जिनके समर्थन में ‘शाकिर साहब जिंदाबाद’ का नारा लगाया गया था।

बताते चलें कि झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के देहांत के चलते डुमरी विधानसभा सीट खाली हुई है। यहाँ हो रहे उपचुनाव में AIMIM सहित तमाम पार्टियों ने चुनाव मैदान में अपनी दावेदारी ठोंकी है। इसको लेकर चुनावी प्रचार जारी है। यहाँ 5 सितंबर 2023 को मतदान होगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15 अगस्त को दिल्ली कूच का ऐलान, राशन लेकर पहुँचने लगे किसान: 3 कृषि कानूनों के बाद अब 3 आपराधिक कानूनों से दिक्कत, स्वतंत्रता...

15 सितंबर को जींद और 22 सितंबर को पीपली में किसानों की रैली प्रस्तावित है। किसानों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष को जमानत दिए जाने की भी निंदा की।

केंद्र सरकार ने 4 साल में राज्यों को की ₹1.73 लाख करोड़ की मदद, फंड ना मिलने पर धरना देने वाली ममता सरकार को...

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि केंद्र सरकार 2020-21 से लेकर 2023-24 तक राज्यों को ₹1.73 लाख करोड़ विशेष मदद योजना के तहत दे चुकी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -