Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीतिअनजान शख्स के लिए PM मोदी ने रोका भाषण, फिर कहा - 'किसी भी...

अनजान शख्स के लिए PM मोदी ने रोका भाषण, फिर कहा – ‘किसी भी माँ के बेटे को बंदूक नहीं उठानी पड़ेगी’

"आपके बच्चों को बंदूक न उठानी पड़े, उन्हें जंगलों में जिंदगी गुजारने को मजबूर न होना पड़े, किसी की गोली का शिकार न होना पड़े, इसके लिए एनडीए सरकार प्रतिबद्ध है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार (अप्रैल 3, 2021) को असम के चुनावी दौरे पर तमुलपुर पहुँचे। पीएम मोदी यहाँ जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि इन दोनों चरणों के बाद लोगों ने यह तय कर लिया है कि असम में फिर एक बार NDA सरकार बनने जा रही है। उन्होंने कहा कि असम की पहचान का बार-बार अपमान करने वाले लोग, यहाँ की जनता को बर्दाश्त नहीं हैं। असम को दशकों तक हिंसा और अस्थिरता देने वाले, अब असम के लोगों को एक पल भी स्वीकार नहीं हैं। 

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि दो चरणों की वोटिंग के बाद आपके दर्शन करने का मुझे अवसर मिला है। इन दोनों चरणों के बाद असम में फिर एक बार एनडीए सरकार बनेंगी ये लोगों ने तय कर लिया है। 

पीएम ने कहा, मैंने सुना, “कल कुछ लोगों ने घोषणा कर दी है, उसमें उन्होंने मान लिया है कि वो चुनाव हार चुके हैं। अगली सरकार कैसी बनेगी, सरकार के लोगों ने क्या पहना होगा, वो कैसे दिखते होंगे, इसका उन्होंने वर्णन किया है। मेरा उन युवा साथियों से विशेष आग्रह है जो पहली बार वोट डालने जा रहे हैं। देश की आजादी के 75वें वर्ष का पर्व मनाते हुए आप जो वोट डालेंगे, वो इस बात को भी तय करेगा कि जब हम आजादी के 100 वर्ष मनाएँगे, तो असम कितना आगे होगा। भाजपा के संकल्प पत्र में इसके लिए स्पष्ट रोडमैप है।”

असम को हिंसा में झोंकने वाले लोगों को जनता ने नकार दिया है। असम की पहचान का बार-बार अपमान करने वाले लोग यहाँ की जनता को बर्दाश्त नहीं है। असम को कई दशकों तक हिंसा और अस्थिरता देने वाले, अब असम के लोगों को कतई स्वीकार नहीं है। असम के लोग अब विकास, स्थिरता, शांति और भाईचारा चाहता हैं। और इसी सद्भावना के साथ वे हैं।

हमारा तो मंत्र है सबका साथ, सबका विश्वास- पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि हमारा तो मंत्र है सबका साथ, सबका विश्वास। उन्होंने कहा कि एनडीए के डबल इंजन सरकार ने पिछले पाँच सालों में असम को लोगों को दुगना लाभ दिया है। विकास हो रहा है और क्नेक्टिविटी में सुधार हुआ है। इस वजह से महिलाओं का जीवन भी सरल हो गया है। युवाओं के लिए रोजगार के अवसर लगातार बढ़ रहे हैं।

सेक्यूलरिज्म और कम्यूनिज्म के खेल ने देश को नुकसान पहुँचाया

पीएम मोदी जब सभा को संबोधित कर रहे थे, उसी दौरान एक शख्स की तबीयत भी बिगड़ गई, जिसके बाद पीएम मोदी ने भाषण को बीच में रोककर कहा कि मेरे साथ जो मेडिकल टीम में डॉक्टर आए हैं, वो जाए और पीड़ित व्यक्ति की मदद करें। इसके बाद पीएम मोदी ने भाषण को आगे बढ़ाया। 

पीएम मोदी ने कहा कि देश में आज कुछ ऐसी गलत बातें फैलाई जा रही हैं, अगर हम समाज में भेदभाव करके, समाज के टुकड़े करके अपने वोट बैंक के लिए कुछ दे दें, दुर्भाग्य देखिए, उसे देश में सेक्युलरिज्म कहा जाता है। लेकिन अगर हम सबके हित में काम करें, बिना भेदभाव के सबके लिए करें तो कहा जाता है कि ये कम्युनल हैं, सेक्यूलरिज्म और कम्यूनिज्म के इस खेल ने देश को काफी नुकसान पहुँचाया है।

बिना भेदभाव के सबको सुविधाएँ दी हैं- पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि गरीबों को पक्का घर मिल रहा है, हर जनजाति को मिल रहा है, शौचालय या गैस कनेक्शन बिना भेदभाव सभी को मिला है। पीएम किसान योजना का  लाभ भी हर किसी को मिला है फिर वो छोटा हो या बड़ा किसान हो सभी को लाभ मिल रहा है। यही हमारा काम है। आयुष्मान भारत के तहत 5 लाख का इलाज मुफ्त में मिला है। हमने कोई भेदभाव नहीं किया। यही हमारे सिद्धांत हैं। राजनीति से परे राष्टनीति के तहत जीने वाले लोग है हम।  हम जिंदगी खपाने वाले लोग है।

राज्य में हिंसा रोकने के लिए प्रतिबद्ध हैं- पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि रैली में इतनी तादात में आई महिलाओं को देखकर मैं बहुत खुश हूँ। उन्होंने कहा कि हम इसके लिए प्रतिबद्ध हैं कि राज्य के किसी भी बेटे को बंदूक नहीं उठानी पड़े। हमने बोडो समझौता किया है, जिससे असम में शांति की लहर है। अनेक माताओं के आँसू पोंछे गए। हमने अनेक बहनों की पीड़ा को दूर करने के लिए प्रयास किया। मैं यह सभी माताओं और बहनों को विश्वास दिलाता हूँ कि आपके बेटे के सपने पूरे करने के लिए हम लगे रहेंगे। आपके बच्चों को बंदूक न उठानी पड़े, उन्हें जंगलों में जिंदगी गुजारने को मजबूर न होना पड़े, और किसी की गोली का शिकार न होना पड़े, इसके लिए एनडीए सरकार प्रतिबद्ध है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भ#$गी हो, भ$गी बन के रहो’: जामिया के 3 प्रोफेसर पर FIR, दलित कर्मचारी पर धर्म परिवर्तन का डाल रहे थे दबाव; कहा- ईमान...

एफआईआर में आरोपित नाज़िम हुसैन अल-जाफ़री जामिया मिल्लिया इस्लामिया के रजिस्ट्रार हैं तो नसीम हैदर डिप्टी रजिस्ट्रार। इनके साथ ही आरोपित शाहिद तसलीम यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं।

पूजा खेडकर की माँ होटल से हुई गिरफ्तार, नाम बदलकर लिया था कमरा: महिला IAS के पिता नौकरी में रहते 2 बार हुए थे...

पूजा खेडकर का चिट्ठा खुलने के बाद उनके माता-पिता के खिलाफ भी जाँच जारी है। माँ को महाड के होटल से हिरासत में लिया गया है और पिता फरार हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -