Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतिआत्मनिर्भर भारत के लिए 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा, लागू...

आत्मनिर्भर भारत के लिए 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा, लागू होगा लॉकडाउन-4.0: PM मोदी

20 लाख करोड़ रुपए का ये पैकेज, 2020 में देश की विकास यात्रा को, 'आत्मनिर्भर भारत अभियान' को एक नई गति देगा। इसका उद्देश्य भारत को आत्मनिर्भर बनाना है और आत्मनिर्भर भारत के अभियान को गति देना है। लैंड, लेबर, लिक्विडिटी आदि क्षेत्रों के लिए मददगार होगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज एक बार फिर राष्‍ट्र को संबोधित कर रहे हैं। PM मोदी के भाषण का मुख्य मुद्दा भारत की आत्मनिर्भरता है। पीएम मोदी ने कहा कि लॉकडाउन-4 नए नियमों के अनुसार होगा और इसकी जानकारी 18 मई से पहले दे दी जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्यों के सुझाव पर लॉकडाउन-4 होगा।

PM मोदी ने कहा कि आज कोरोना वायरस की महामारी के समय विश्व हमारी ओर आशा की नजरों से देख रहा है। भारत ने वायरस से लड़ने में मददगार दवाइयाँ उपलब्ध करवाई।

आत्मनिर्भर भारत के लिए पैकेज की घोषणा करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इन सबके जरिए देश के विभिन्न वर्गों को, आर्थिक व्यवस्था की कड़ियों को, 20 लाख करोड़ रुपए का संबल मिलेगा, सपोर्ट मिलेगा। 20 लाख करोड़ रुपए का ये पैकेज, 2020 में देश की विकास यात्रा को, ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ को एक नई गति देगा।

विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा

आत्म निर्भर भारत अभियान की अहम कड़ी के तैर पर काम करेगा। उन्होंने 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा की, जो कि भारत की जीडीपी का करीब दस प्रतिशत है।

इसका उद्देश्य भारत को आत्मनिर्भर बनाना है और आत्मनिर्भर भारत के अभियान को गति देना है। लैंड, लेबर, लिक्विडिटी आदि क्षेत्रों के लिए मददगार होगा।

गुजरात के भूकम्प की याद दिलाते हुए पीएम मोदी ने कहा- “मैंने अपनी आँखों के सामने वो भूकंप देखे हैं, हर तरफ मलबा ही मलबा था। लेकिन इसके बाद भी हम उठ खड़े हुए। मानो मानव मौत की चादर ओढ़कर सो गया है। हम ठान लें तो कोई लक्ष्य असंभव नहीं और कोई काम असंभव नहीं है।”

भारत की प्रगति में तो हमेशा विश्व की प्रगति समाहित रही है। भारत के लक्ष्यों का प्रभाव, भारत के कार्यों का प्रभाव, विश्व कल्याण पर पड़ता है। जब भारत खुले में शौच से मुक्त होता है तो दुनिया की तस्वीर बदल जाती है। टीबी हो,कुपोषण हो, पोलियो हो, भारत के अभियानों का असर दुनिया पर पड़ता ही पड़ता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आजादी के वक्त थे 3 मुस्लिम बहुल जिले, अब 9 हैं: बंगाल BJP प्रमुख ने कहा- असम और बंगाल में डेमोग्राफी बदलाव सोची-समझी रणनीति,...

बंगाल भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने असम के सीएम हिमंता के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने डोमोग्राफी बदलाव की बात कही थी।

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -