Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतिकर्ज में डूबे पंजाब के CM मान को चाहिए 10 सीटों वाला हवाई जहाज,...

कर्ज में डूबे पंजाब के CM मान को चाहिए 10 सीटों वाला हवाई जहाज, RTI एक्टिविस्ट ने साझा की जानकारी तो पंजाब पुलिस डालने लगी दबाव

एक ओर आम आदमी पार्टी सरकार हवाई जहाज को लीज पर लेना चाह रही है, वहीं राज्य की आर्थिक स्थिति लगातार बिगड़ी हुई है। लोकसभा में दिए गए एक उत्तर में बताया गया था कि पंजाब पर वर्तमान में 3.05 लाख करोड़ रुपए का कर्ज है। यह कर्ज भगवंत मान की सरकार आने से पहले 2.59 लाख करोड़ रुपए था। वित्त वर्ष 2021-22 और 2022-23 में यह 8% और 8.9% की रफ़्तार से बढ़ा है।

आर्थिक बदहाली से जूझने वाले सीमावर्ती राज्य पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान अपनी सुख सुविधाओं का ध्यान रखने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। प्रदेश की आम आदमी पार्टी सरकार ने भगवंत मान के उपयोग के लिए एक 8-10 सीटर हवाई जहाज लीज पर लेने के लिए निविदा निकाली है।

भगवंत मान के इस ऐश-ओ-आराम का खुलासा करने वालों को पंजाब पुलिस धमका रही है। उन पर इस जानकारी को सोशल मीडिया से हटाने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। पुलिस प्रशासन और सरकारी पैसे के इस खुलेआम दुरूपयोग की चारों तरफ आलोचना हो रही है।

क्या है पूरा मामला?

आम आदमी पार्टी वाली पंजाब की सरकार ने 25 अगस्त 2023 को प्रदेश के निविदा पोर्टल पर एक निविदा डाली थी। इसमें राज्य के VVIP व्यक्तियों के लिए एक हवाई जहाज लीज पर लेने की बात कही गई थी। इसके लिए निविदा जमा करने की अंतिम तारीख 18 सितम्बर 2023 निर्धारित की गई।

निविदा के अंतर्गत बताया गया कि पंजाब के VVIP लोगों की यात्राओं में 6 महीने के उपयोग के लिए एक फिक्स्ड विंग एयरक्राफ्ट (हवाई जहाज) की आवश्यकता है। यह हवाई जहाज 8-10 सीटों वाला होना चाहिए। हवाई जहाज को वेट लीज पर लिया जाएगा।

पंजाब सरकार द्वारा हवाई जहाज के लिए जारी किया गया टेंडर

वेट लीज की व्यवस्था के अंतर्गत हवाई जहाज को लीज पर देने वाली कम्पनी ही उसका रख-रखाव करेगी और इसके लिए ग्राउंड स्टाफ भी देगी। हालाँकि, हवाई जहाज के लिए पायलट एवं अन्य क्रू पंजाब सरकार का ही रहेगा।

पंजाब सरकार के पास पहले से ही एक हेलिकॉप्टर है, जिसका उपयोग भगवंत मान करते हैं। भगवंत मान के अलावा अभी तक पंजाब के राज्यपाल भी इसका उपयोग करते थे, लेकिन बीते जून माह में राज्यपाल और आम आदमी पार्टी सरकार के बीच विवाद के बाद उन्होंने हेलीकॉप्टर उपयोग करने से मना कर दिया था।

पंजाब में मात्र 23 जिले हैं और यह एक छोटा राज्य है, जहाँ सभी जगहों तक हेलीकाप्टर के माध्यम से पहुँचा जा सकता है। ऐसे में प्राइवेट हवाई जहाज को लीज पर लेना जनता के पैसे का दुरुपयोग ही है। यह दुरुपयोग भी ऐसी स्थिति में किया जा रहा है, जब पंजाब भारी आर्थिक संकट से जूझ रहा है।

पोल खुलने पर निविदा हटाई, पंजाब पुलिस ने धमकाया

AAP सरकार द्वारा जनता के पैसे को बर्बाद करने की पोल जब लोगों के खोलनी शुरू की तो पंजाब पुलिस उन्हें धमकाने लगी। इतना ही नहीं, वेबसाइट से निविदा भी हटा ली गई है। इस मामले को एक्स (पहले ट्विटर) पर जब एक सामाजिक कार्यकर्ता मानिक गोयल ने उठाया तो पंजाब पुलिस उन्हें धमकाने लगी।

मानिक गोयल द्वारा निविदा के कागज साझा किए जाने पर पंजाब पुलिस ने इन्हें राज्य के बड़े पदाधिकारियों की सुरक्षा से संबंधित मामला बता दिया और ट्वीट को हटाने के लिए कहा। पंजाब पुलिस ने यह भी कहा कि इस दस्तावेज को सार्वजनिक नहीं किया जाना चाहिए।

RTI कार्यकर्ता को हवाई जहाज सम्बंधित ट्वीट हटाने के लिए कहती पंजाब पुलिस
RTI कार्यकर्ता को ट्वीट हटाने के लिए कहती पंजाब पुलिस

पंजाब पुलिस के इस रवैये की भी आलोचना हो रही है। लोगों ने पूछा कि जब पहले से ही यह दस्तावेज सार्वजनिक वेबसाइट पर पड़े थे तो भला यह सुरक्षा का मामला कैसे हुआ और आखिर पंजाब पुलिस को इस पूरे मामले से क्या लेना देना है।

यह खुलासा करने वाले मानिक गोयल ने पंजाब पुलिस को जवाब देते हुए कहा कि यह कोई ऐसी जानकारी नहीं है जिसे साझा ना किया जा सके। मानिक गोयल ने पंजाब पुलिस को सलाह भी दी कि वह दूसरों को निर्देश देने से पहले अपनी ही सरकार की वेबसाइट एक बार जाँच लें।

अरविन्द केजरीवाल के लिए होगा हवाई जहाज का उपयोग

इस मामले को उजागर करने वाले मानिक गोयल ने आरोप लगाया है कि लीज पर लिए जाने वाले इस हवाई जहाज का उपयोग अरविन्द केजरीवाल आगामी विधानसभा चुनावों में करेंगे। उन्होंने कहा कि जब राज्य सरकार के पास अपना हेलीकाप्टर है तो भला इस हवाई जहाज की क्या जरूरत है।

मानिक गोयल ने लिखा कि पंजाब सरकार इसलिए हवाई जहाज को लीज पर ले रही है, ताकि अरविन्द केजरीवाल को चुनावी राज्यों में भेजा जाए। इसका अर्थ होगा कि पंजाब की जनता आम आदमी पार्टी के चुनाव प्रचार को अप्रत्यक्ष रूप से आर्थिक रूप से सहेगी, जबकि केजरीवाल का पंजाब से कोई लेना-देना नहीं है।

पंजाब सरकार द्वारा हवाई जहाज खरीदने पर किया गया खुलासा

सामजिक कार्यकर्ता मानिक गोयल ने आरोप लगाया कि जो लोग खुद को आम आदमी बता कर सरकारी गाड़ियाँ उपयोग ना करने का वादा करते थे, वे आज निजी हवाई जहाज लीज पर ले रहे हैं।

बीते वर्ष भी आम आदमी पार्टी सरकार ने ऐसी ही योजना बनाई थी। इसमें दसौ कम्पनी का फाल्कन हवाई जहाज स्थायी लीज पर लेना शामिल था, ताकि राज्य के मुख्यमंत्री को आने जाने में आसानी हो। हालाँकि, विपक्ष के विरोध के चलते इस योजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था।

खराब है पंजाब की आर्थिक स्थिति, फिर भी नहीं रुक रहे शाही खर्चे

एक ओर आम आदमी पार्टी सरकार हवाई जहाज को लीज पर लेना चाह रही है, वहीं राज्य की आर्थिक स्थिति लगातार बिगड़ी हुई है। लोकसभा में दिए गए एक उत्तर में बताया गया था कि पंजाब पर वर्तमान में 3.05 लाख करोड़ रुपए का कर्ज है।

पंजाब सरकार का कर्ज
लोकसभा की वेबसाइट पर दिए गए आंकड़ों का स्क्रीनशॉट

यह कर्ज भगवंत मान की सरकार आने से पहले 2.59 लाख करोड़ रुपए था। वित्त वर्ष 2021-22 और 2022-23 में यह 8% और 8.9% की रफ़्तार से बढ़ा है। इससे भी अधिक चिंता की बात यह है कि पंजाब का कर्ज उसकी GSDP (राज्य सकल घरेलू उत्पाद) का 48% है, जो कि चिंताजनक है। सामान्यतः यह 20% से 25% होना चाहिए।

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान लगातार केंद्र से पैकेज की गुहार लगाते रहे हैं, जबकि वह राज्य की जनता के पैसे का दुरुपयोग का हवाई जहाज लीज करने के लिए करना चाह रहे हैं। अब पंजाब की आम आदमी पार्टी सरकार के इस निर्णय की आलोचना हो रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-270 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -