Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिराहुल गाँधी ने किया 'शक्ति' का अपमान, अब लग रही हर ओर से लताड़:...

राहुल गाँधी ने किया ‘शक्ति’ का अपमान, अब लग रही हर ओर से लताड़: लोग बोले- ईसाई मिशनरी से ज्ञान लेकर मत बोलो

राहुल गाँधी ने भाषण में इस बात पर दिया कि वो हिंदू धर्म वाले 'शक्ति' शब्द का इस्तेमाल कर रहे हैं और हर सनातन मानने वाला यह जानता है कि धर्म में माँ दुर्गा को 'शक्ति' बताया जाता है। यही वजह है हिंदू उनसे नाराज हैं।

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने हाल में ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान हिंदू धर्म का अपमान करने का प्रयास किया। उन्होंने अपने भाषण में शक्ति शब्द पर बात रखी। अब वैसे तो हिंदी भाषा में ‘शक्ति’ शब्द का अर्थ ‘ताकत’ व ‘ऊर्जा’ दोनों से है। लेकिन, राहुल गाँधी ने भाषण में इस बात पर जोर दिया कि वो हिंदू धर्म वाले ‘शक्ति’ शब्द का इस्तेमाल कर रहे हैं और हर सनातन मानने वाला यह जानता है कि धर्म में माँ दुर्गा को ‘शक्ति’ बताया जाता है। यही वजह है कि राहुल की टिप्पणी के बाद हिंदू उनसे नाराज हैं। वहीं भाजपा नेता उनके विरोध में उतर आए हैं। पीएम मोदी ने भी इस टिप्पणी का जवाब राहुल को दिया है।

राहुल गाँधी ने किया शक्ति का अपमान

राहुल गाँधी ने महाराष्ट्र में शिवाजी पार्क के पास अपनी न्याय यात्रा में पार्टी का घोषणा पत्र जारी करते हुए कहा “हिंदू धर्म में शक्ति शब्द होता है। हम शक्ति से लड़ रहे हैं, एक शक्ति से लड़ रहे हैं। अब सवाल उठता है, वो शक्ति क्या है? जैसे किसी ने यहाँ कहा- राजा की आत्मा ईवीएम में है। सही है, सही है। राजा की आत्मा ईवीएम में है। हिंदुस्तान की हर संस्था में है। ईडी में है, सीबीआई में है, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में है।” आगे उन्होंने कहा, “मैं नाम नहीं लूँगा लेकिन इसी राज्य के एक वरिष्ठ नेता कॉन्ग्रेस छोड़ते हैं और मेरी माँ से रोकर कहते हैं कि मुझे शर्म आ रही है कि इस शक्ति से लड़ने की हिम्मत नहीं है, मैं जेल नहीं जाना चाहता। ऐसे हजारों लोग डराए गए हैं। शिवसेना, NCP-SCP के लोग यूँ ही चले गए? वे सब डरकर बीजेपी में गए हैं।”

उन्होंने अपने भाषणा में बार-बार शक्ति को अपमानित करने का प्रयास किया। उन्होंने कहा, “लोगों को लगता है कि कॉन्ग्रेस एक राजनीतिक पार्टी या एक व्यक्ति से चुनाव लड़ रही है। लेकिन हकीकत में हम हम शक्ति से लड़ रहे हैं।

राहुल गाँधी को लगी लताड़

राहुल गाँधी के ऐसे बयान के बाद पीएम मोदी ने इस बयान को हिंदू विरोधी बताया। उन्होंने कहा- सनातन धर्म में माँ दुर्गा का रूप माना गया है। माँ दुर्गा को शक्ति, आदिशक्ति या परम शक्ति भी कहा गया है। उन्हें वो ऊर्जा माना गया है जिससे संपूर्ण ब्रह्माण्ड चलता है।

भाजपा नेता अमित मालवीय ने भी अपने ट्वीट में ‘शक्ति’ के नामों से अवगत कराते हुए राहुल के बयान को नारीविरोधी बताया और कहा कि इंडी गठबंधन यही असल चरित्र है।

इसी तरह सोशल मीडिया के एक्टिव यूजर्स ने भी राहुल गाँधी को लताड़ा। उन्हें बताया कि हिंदू धर्म में शक्ति से नहीं लड़ा जाता है। दुष्टों से लड़ा जाता है। हिंदू धर्म के बारे में मिशनरी से ज्ञान मत लो।

एक यूजर पूछती हैं- ये आदमी हिंदू धर्म की बात ही क्यों करता है जब इसे हिंदू धर्म का कुछ पता नहीं। वहीं दूसरा यूजर कहता है कि क्या ये आदमी सच में शक्ति के खिलाफ लड़ रहा है? फिर बोलेगा जीत क्यों नहीं रहे।

बता दें कि साल 2022 में राहुल गाँधी ऐसे ही ‘शक्ति’ पर एक पादरी से ज्ञान लेते दिखे थे। उन्होंने पादरी जॉर्ज पोन्नैया से पूछा था कि क्या जीसस भगवान के रूप हैं। इस पर पादरी ने उन्हें समझाया था कि “वह (जीसस) मानव के तौर पर जन्मे असली भगवान हैं। शक्ति (हिंदू देवी) और अन्य की तरह नहीं।” साल 202

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डोनाल्ड ट्रंप को मारी गई गोली, अमेरिकी मीडिया बता रहा ‘भीड़ की आवाज’ और ‘पॉपिंग साउंड’: फेसबुक पर भी वामपंथी षड्यंत्र हावी

डोनाल्ड ट्रंप की हत्या के प्रयास की पूरी दुनिया के नेताओं ने निंदा की, तो अमेरिकी मीडिया ने इस घटना को कमतर आँकने की कोशिश की।

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के पूर्व जज रोहित आर्य BJP में हुए शामिल, ओडिशा हाई कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश चितरंजन दास बोले- मैं भी...

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के न्यायाधीश रोहित आर्य रिटायरमेंट के लगभग तीन महीने बाद शनिवार (13 जुलाई 2024) को भाजपा में शामिल हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -