Sunday, September 19, 2021
Homeराजनीति'मुस्लिमों को डराने की कोशिश कर रही है योगी सरकार': देवबंद में ATS कमांडो...

‘मुस्लिमों को डराने की कोशिश कर रही है योगी सरकार’: देवबंद में ATS कमांडो सेंटर से भड़की समाजवादी पार्टी

CM योगी के इस फैसले से समाजवादी पार्टी नाखुश है। सपा के विधायक दल के नेता का कहना है कि देवबंद इस्लामिक शिक्षा का बड़ा केंद्र है, जो कि दुनियाभर में धार्मिक शिक्षा के लिए प्रसिद्ध है। ऐसे में एटीएस कमांडो सेंटर स्थापित कर योगी सरकार मुस्लिमों को डरा रही है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने मुस्लिम संस्था देवबंद में आतंकवाद निरोधी दस्ता (ATS) की स्थापना करने का ऐलान किया है, जिसका समाजवादी पार्टी ने कड़ा विरोध किया है। सपा ने योगी सरकार पर मुस्लिमों को डराने की कोशिश करने का आरोप लगाया है। दरअसल, दारुल उलूम देवबंद भारत का सबसे बड़ा इस्लामिक मदरसा है, जो कि कई बार आतंकी घटनाओं के मामलों में भी सामने आ चुका है।

योगी सरकार के देवबंद में एटीएस कमांडो सेंटर बनाने के फैसले के बाद उत्तर प्रदेश के एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने इसको लेकर जानकारी देते हुए बताया कि आतंकवाद निरोधी अभियानों में तेजी लाने के लिए केवल देवबंद में ही नहीं, बल्कि मेरठ, बहराइच और श्रावस्ती व जेवर में भी एटीएस की इस तरह की इकाइयों की स्थापना की जा रही है। इसके लिए तैयारी भी शुरू हो चुकी है। एडीजी के मुताबिक, देवबंद में एटीएस का सेंटर बनने से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हम अपनी पकड़ और अधिक मजबूत कर पाएँगे।

हालाँकि, सरकार के इस फैसले से समाजवादी पार्टी नाखुश है। सपा के विधायक दल के नेता रामगोविंद चौधरी का कहना है कि देवबंद इस्लामिक शिक्षा का बड़ा केंद्र है, जो कि दुनियाभर में धार्मिक शिक्षा के लिए प्रसिद्ध है। ऐसे में एटीएस कमांडो सेंटर स्थापित कर योगी सरकार मुस्लिमों को डरा रही है। रामगोविंद का आरोप है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मुस्लिमों की जनसंख्या काफी अधिक है इसीलिए ऐसा किया जा रहा है।

फिलहाल, दारुल उलूम देवबंद की 2000 वर्ग मीटर की जमीन को सरकार ने एटीएस को ट्रांसफर कर दिया है।

गौरतलब है कि मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता शलभमणि त्रिपाठी ने ट्वीट कर एटीएस सेंटर बनाए जाने की जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था कि इसके लिए युद्धस्तर पर काम शुरू भी हो गया है और प्रदेश भर से चुने हुए करीब डेढ़ दर्जन तेज-तर्रार ATS अधिकारियों की यहाँ तैनाती की जाएगी। बता दें कि देवबंद में ही ‘दारुल उलूम’ स्थापित है, जहाँ से इस्लामी देवबंदी अभियान शुरू हुआ था। तालिबान को भी इसी विचारधारा से प्रेरित बताया जाता है। आतंक के मामले में भी देवबंद बदनाम रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe