Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीतिबॉडी शेव कर 'मिशन' पर निकला, ISIS से जुड़े तार, लेकिन तमिलनाडु के मंत्री...

बॉडी शेव कर ‘मिशन’ पर निकला, ISIS से जुड़े तार, लेकिन तमिलनाडु के मंत्री के लिए कोयंबटूर मंदिर ब्लास्ट आतंकी हमला नहीं: सवाल टाल गए DMK नेता

यह पूछे जाने पर कि क्या उपलब्ध सूचना के आधार पर तमिलनाडु सरकार इसे 'आतंकी हमला' कहेगी या नहीं, त्यागराजन ने बात टाल दी। उन्होंने कहा कि जांच एनआईए के अधीन है, और वे तब तक कुछ नहीं कह सकते जब तक उन्हें जानकारी नहीं देती।

तमिलनाडु के मंत्री और डीएमके नेता पी त्यागराजन ने कोयम्बटूर सिलेंडर ब्लास्ट को ‘आतंकी हमला’ बताने से इनकार कर दिया। एनआईए ने आरोपित के घर से जो सबूत जुटाए हैं, उसमें ‘जिहाद’ का भी जिक्र है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, वह इस्लामिक स्टेट (ISIS) के आतंकियों की तरह बॉडी शेव करवा कर अपने मिशन पर निकला था। बावजूद इसके मंत्री कोयंबटूर विस्फोट को की ‘आतंकी हमला’ कहने से बचते हैं।

दरअसल बुधवार (8 नवंबर 2022) को त्यागराजन ने ‘इंडिया टुडे’ के साथ एक साक्षात्कार के दौरान कोयंबटूर में मंदिर के पास विस्फोट को आतंकी हमला मानने वाले सवाल को टाल दिया। उन्होंने कहा कि इस मामले में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) की जाँच चल रही है और वे उनसे रिपोर्ट प्राप्त किए बिना टिप्पणी नहीं कर सकते हैं।

44 मिनट के लंबे साक्षात्कार के दौरान, ‘इंडिया टुडे’ की एसोसिएट एडिटर और एंकर अक्षिता नंदगोपाल ने त्यागराजन से हाल ही में कोयंबटूर में हुए सिलेंडर विस्फोट के बारे में सवाल पूछा। एंकर द्वारा विस्फोट के बारे में पूछे जाने पर वह तथाकथित तथ्यों की ओर इशारा करने लगे। उन्होंने कहा, “रिकॉर्ड से पता चलता है कि यह एक कार में एक सिलेंडर था, सिलेंडर लोड होने का एक वीडियो है। आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है। मामला NIA को ट्रांसफर कर दिया गया है। कुछ तथ्य सवालों के घेरे में नहीं हैं। अन्य राजनीतिक दल क्या महसूस करते हैं इसपर तथ्यों की व्याख्या नहीं की जा सकती।”

यह पूछे जाने पर कि क्या उपलब्ध सूचना के आधार पर तमिलनाडु सरकार इसे ‘आतंकी हमला’ कहेगी या नहीं, त्यागराजन ने बात टाल दी। उन्होंने कहा कि जांच एनआईए के अधीन है, और वे तब तक कुछ नहीं कह सकते जब तक एजेंसी उन्हें जानकारी नहीं देती।

त्यागराजन भले ही मामले को आतंकी हमला मानने से इनकार कर रहे हों, लेकिन एनआईए ने जब ब्लास्ट में मारे गए मुख्य आरोपित के घर तलाशी ली तो यह स्पष्ट तौर पर आतंकी हमले की ओर इशारा करते हैं। एनआईएने अपनी एफआईआर में कहा था कि मृतक जमिज़ा मुबीन के परिसरों की तलाशी में 109 वस्तुएँ जब्त की गईं, जिनमें पोटेशियम नाइट्रेट, काला पाउडर, नाइट्रोग्लिसरीन, पीईटीएन पाउडर, एल्युमिनियम पाउडर, सल्फर पाउडर, स्टेराइल सर्जिकल, जिहाद के बारे में विवरण के साथ नोटबुक आदि शामिल था।

हालाँकि विस्फोटकों के इस्तेमाल में नौसिखिया रहने के कारण वह अपने मिशन को अंजाम देने में सफल नहीं हो पाया। नंदगोपाल ने आगे पूछा कि मामले में संभावित आतंकी एंगल को सिलेंडर ब्लास्ट बताकर उसे कम करने की कथित कोशिश क्यों की गई। त्यागराजन ने एंकर पर तंज कसते हुए कहा कि उनकी जानकारी राज्य से बेहतर नहीं हो सकती।

उन्होंने कहा, “आपकी जानकारी तमिलनाडु सरकार को प्राप्त होने वाली जानकारी से बेहतर नहीं हो सकती है। मुझे नहीं लगता कि आपका अपना खुफिया विभाग है। पुलिस ने जो कुछ भी किया है वह इसलिए किया है क्योंकि पुलिस को प्रशासन चलाता है। इसलिए मुझे यकीन नहीं है कि आपके पास सरकार की जानकारी के अलावा कोई आंतरिक जानकारी है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तराखंड में तेज़ी से बढ़ रही मुस्लिमों और ईसाईयों की जनसंख्या: UCC पैनल की रिपोर्ट में खुलासा – पहाड़ों से हो रहा पलायन

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में आबादी घट रही है, तो मैदानी इलाकों में बेहद तेजी से आबादी बढ़ी है। इसमें सबसे बड़ा योगदान दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों ने किया है।

जम्मू कश्मीर के उप-राज्यपाल को अब दिल्ली के LG जितनी शक्तियाँ, ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए भी उनकी अनुमति ज़रूरी: मोदी सरकार के आदेश पर भड़के...

जब से जम्मू कश्मीर का पुनर्गठन हुआ है, तब से वहाँ चुनाव नहीं हो पाए हैं। मगर जब भी सरकार का गठन होगा तब सबसे अधिक शक्तियाँ राज्यपाल के पास होंगी। ये शक्तियाँ ऐसी ही हैं, जैसे दिल्ली के एलजी के पास होती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -