Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीतिखाली घरों में CPM कार्यकर्ता बम बनाते, मना करने से घरों पर फेंक देते...

खाली घरों में CPM कार्यकर्ता बम बनाते, मना करने से घरों पर फेंक देते हैं: केरल की महिला का खुलासा, विपक्ष ने सीएम विजयन को घेरा

महिला ने कहा, "यहाँ बम बनाने का काम धड़ल्ले से चल रहा है। कई खाली पड़े घर बम बनाने के अड्डे हैं। पिछले दिनों कुछ पार्टी कार्यकर्ता पास के घर से तीन बम ले गए। यहाँ के लोग डर से आवाज नहीं उठाते। अब एक निर्दोष बुजुर्ग की हत्या हो गई। कल यह हमारे साथ भी हो सकता है। हमारे बच्चे इन सभी जगहों पर खेलते थे। हम विस्फोट में मरना नहीं चाहते। कृपया हमें शांति से जीने दें।"

माकपा का गढ़ कहे जाने वाले केरल के कन्नूर की एक महिला ने मंगलवार (18 जून 2024) को खुलासा किया है कि इस इलाके में पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा बड़े पैमाने पर बम बनाने का काम किया जा रहा है। लोग डर के कारण उनके खिलाफ नहीं बोलते। इस खुलासे के बाद मुख्यमंत्री पी विजयन के नेतृत्व वाली केरल की माकपा सरकार मुश्किल में पड़ गई है।

दरअसल, कन्नूर के थालास्सेरी के पास एरनहोली में मंगलवार (18 जून) को हुए विस्फोट में 85 साल के एक व्यक्ति की मौत हो गई। 85 वर्षीय रवींद्रन की मौत एक खाली घर के परिसर में छोड़े गए स्टील कंटेनर में रखे विस्फोटकों के फटने से हुई थी। उन्होंने उसे खोलने की कोशिश की थी। इस घटना के बाद हालात से त्रस्त होकर मृतक की पड़ोसी शीना नाम की महिला ने अपनी चुप्पी तोड़ी है।

कॉन्ग्रेस नेता और क्षेत्र के निर्वाचित सांसद शफी परमबिल बुधवार (19 जून 2024) को घटनास्थल पर पहुँचे। उस दौरान बगल में रहने वाली एक महिला ने उनसे मुलाकात की और अनुरोध किया कि क्षेत्र के लोग शांति से रहना चाहते हैं और कहा कि ये उनका अधिकार है। उन्होंने कहा कि पार्टी के कार्यकर्ता खाली घरों में बम बनाने का काम कर रहे हैं। इससे इलाके में अशांति फैल गई है।

महिला ने कहा, “यहाँ बम बनाने का काम धड़ल्ले से चल रहा है। कई खाली पड़े घर बम बनाने के अड्डे हैं। पिछले दिनों कुछ पार्टी कार्यकर्ता पास के घर से तीन बम ले गए। यहाँ के लोग डर से आवाज नहीं उठाते। अब एक निर्दोष बुजुर्ग की हत्या हो गई। कल यह हमारे साथ भी हो सकता है। हमारे बच्चे इन सभी जगहों पर खेलते थे। हम विस्फोट में मरना नहीं चाहते। कृपया हमें शांति से जीने दें।”

शीना ने कहा कि अगर किसी ने इस बारे में कुछ कहा तो बम बनाने वाले उनके घरों पर बमबारी करके उन्हें नष्ट कर देंगे। जब महिला दुखड़ा रो रही थी, उस समय उसकी माँ ने डर के कारण उसे रोकने की कोशिश की। हालाँकि, शीना इसे ने अपनी माँ से पूछा कि वे कब तक इसे बर्दाश्त करते रहेंगे। इसके बाद उन्होंने सांसद से सारा वाकया कह सुनाया।

बता दें कि मंगलवार को हुए विस्फोट के लिए भाजपा और कॉन्ग्रेस ने सत्ताधारी सीपीआई (एम) को जिम्मेदार ठहराया है। इस मुद्दे पर केरल विधानसभा में भी हंगामा हुआ। कॉन्ग्रेस ने स्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया और अनुमति नहीं मिलने पर सदन से निकल गए। मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने विपक्षी दलों पर इस घटना को अनावश्यक रूप से राजनीतिक रंग देने का आरोप लगाया है।

मुख्यमंत्री विजयन ने कहा कि क्रूड बम बनाने में शामिल सभी लोगों को पकड़ा जाएगा और कड़ी कार्रवाई की जाएगी। कॉन्ग्रेस ने आरोप लगाया कि कन्नूर में अवैध क्रूड बम बनाना कुटीर उद्योग हो गया है और सीपीआई (एम) इसे फंड कर रही है। सीएम विजयन का आशीर्वाद इन सबको प्राप्त है।

वहीं, विपक्षी नेता वीडी सतीशन ने आलोचना की कि सीपीआई (एम) बम बनाने के दौरान मारे गए लोगों के लिए स्मारक भी बना रही है। बता दें कि इस साल अप्रैल में थालास्सेरी के पास पनूर में एक क्रूड बम बनाने वाली इकाई में विस्फोट के दौरान एक सीपीआई (एम) कार्यकर्ता की मौत हो गई थी, जबकि दो अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

सुधीर गहलोत
सुधीर गहलोत
इतिहास प्रेमी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -