Tuesday, July 16, 2024
Homeराजनीतिजिस ऑपरेटर के विमान में सवार थे राहुल गाँधी, उसने ही कैंसल किया था...

जिस ऑपरेटर के विमान में सवार थे राहुल गाँधी, उसने ही कैंसल किया था वाराणसी ट्रिप: कॉन्ग्रेस के आरोपों को एयरपोर्ट ने किया खारिज

कॉन्ग्रेस नेता अजय राय ने कहा था कि राहुल गाँधी वाराणसी आने के बाद प्रयागराज जाने वाले थे। लेकिन एयरपोर्ट अथॉरिटी ने सरकार के दबाव के चलते उनके विमान को लैंड नहीं करने दिया।

वाराणसी एयरपोर्ट पर राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) के विमान को लैंड करने की इजाजत नहीं दिए जाने का कॉन्ग्रेस का दावा झूठा निकला है। वाराणसी के लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट (Laal Bahadur Shashtri Airport) ने बताया है कि ऑपरेटर की तरफ से फ्लाइट कैंसिल किया गया था। कॉन्ग्रेस का आरोप था कि सोमवार (13 फरवरी 2023) देर रात राहुल गाँधी के विमान को एयरपोर्ट पर नहीं उतरने दिया गया।

वाराणसी एयरपोर्ट ने एक ट्वीट में कहा है, “13 फरवरी 2013 की रात नौ बजकर 16 मिनट पर एआर एयरवेज ने ईमेल भेजकर फ्लाइट कैंसल करने की सूचना दी थी।” कॉन्ग्रेस नेता अजय राय ने एयरपोर्ट अथॉरिटी पर इस मामले में गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था,”राहुल गाँधी यहाँ (वाराणसी) आने के बाद प्रयागराज जाने वाले थे। लेकिन एयरपोर्ट अथॉरिटी ने सरकार के दबाव के चलते उनके विमान को यहाँ लैंड नहीं करने दिया। उन्होंने कहा कि यहाँ ट्रैफिक जाम है और जानबूझकर अनुमति नहीं दी।”

कॉन्ग्रेस नेता राय अपने समर्थकों के साथ वाराणसी एयरपोर्ट पर राहुल गाँधी के स्वागत के लिए मौजूद थे। अजय राय का कहना था कि फ्लाइट लैंड नहीं करने देने को लेकर जब उन्होंने जिला प्रशासन से संपर्क किया तो उन्हें बताया गया कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू शहर में थींं और उनके जाने के बाद यहाँ जाम की स्थिति बनी हुई है।

पहले कहा जा रहा था कि कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी का लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट पर उतरने और फिर काशी विश्वनाथ में दर्शन करने का कार्यक्रम था। उसके बाद उन्हें प्रयागराज जाना था। कॉन्ग्रेस ने आरोप लगाया था कि राहुल का विमान आसमान में ही घूमता रहा और उसे लैंडिंग की इजाजत ही नहीं मिली। लेकिन एयरपोर्ट अथॉरिटी के बयान से जाहिर है कि वाराणसी आने से पहले ही राहुल गाँधी जिस विमान में सवार थे, उसके ऑपरेटर ने ट्रिप कैंसल कर दी थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जम्मू-कश्मीर के डोडा में 4 जवान बलिदान, जंगल में छिपे थे इस्लामी आतंकवादी: हिन्दू तीर्थयात्रियों पर हमला करने वाले आतंकी समूह ने ली जिम्मेदारी

जम्मू कश्मीर के डोडा में हुए आतंकी हमले में एक अफसर समेत 4 जवान वीरगति को प्राप्त हुए हैं। इस हमले की जिम्मेदारी कश्मीर टाइगर्स ने ली है।

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -