Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीतिसीतलकुची में चुनावी हिंसा में मोनिरुज्जमान, समीउल, हमीदुल, नूर की मौत, हथियार छीन रहे...

सीतलकुची में चुनावी हिंसा में मोनिरुज्जमान, समीउल, हमीदुल, नूर की मौत, हथियार छीन रहे उपद्रवियों पर बचाव में हुई फायरिंग

इस फायरिंग में चार उपद्रवियों मोनिरुज्जमान, हमीदुल मियाँ, नूर अल्मा मियाँ और समीउल हक की मौत हो गई। एक दूसरे घटनाक्रम में उपद्रवियों के द्वारा गोली चलाने से पहली बार वोट डालने जा रहे अठारह वर्षीय आनंद बर्मन की भी मौत हो गई।

पश्चिम बंगाल में चौथे चरण के मतदान से पहले हिंसा में 5 लोगों की मौत हुई है। रिपोर्ट्स के अनुसार हिंसक भीड़ ने केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बलों (सीआईएसएफ) की एक टीम पर हमला कर हथियार छीनने का प्रयास किया। जिसके बाद आत्मरक्षा में सीआईएसएफ की टीम को मजबूरी में ओपन फायर करना पड़ा। इस फायरिंग में चार उपद्रवियों मोनिरुज्जमान, हमीदुल मियाँ, नूर अल्मा मियाँ और समीउल हक की मौत हो गई। हालाँकि, मामले को राजनैतिक रंग देते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि केन्द्रीय बलों ने वोटिंग के लिए लाइन में खड़े व्यक्तियों पर गोली चलाई है।

घटना कूच बिहार जिले के सीतलकुची विधान सभा में माथाभांगा ब्लॉक के जोर पाटकी इलाके की है। जलपाईगुड़ी रेंज के डीआईजी अन्नप्पा ई ने मीडिया को बताया कि पोलिंग बूथ पर वोट डालने आई एक महिला के साथ एक 14 वर्षीय बच्चा भी था जो अचानक बीमार होकर गिर गया जिसे वहीं खड़ी क्विक रिस्पॉन्स टीम की वैन में अस्पताल ले जाया गया। इसके बाद यह अफवाह फैल गई कि केन्द्रीय बलों ने बच्चे को गोली मार दी। इस अफवाह के बाद सैकड़ों की भीड़ इकट्ठा हो गई और उसमें से कई उपद्रवियों ने सुरक्षा बलों के हथियारों को छीनने का प्रयास भी किया।

जब भीड़ लगातार अनियंत्रित होती गई तब मजबूरी में सुरक्षा में तैनात सीआईएसएफ के जवानों ने आत्मरक्षा में गोली चला दी। कूच बिहार एसपी ने अराजक तत्वों के खिलाफ सीआईएसएफ की कार्रवाई को सही ठहराते हुए कहा कि कार्रवाई ‘आत्मरक्षा’ में की गई। उन्होंने कहा कि 300-350 लोगों की भीड़ ने सीआईएसएफ की टीम पर हमला किया था और उनके हथियार छीनने की कोशिश की। जिसके बाद टीम उपद्रवियों पर गोली चलाने के लिए मजबूर हो गई।

इस फायरिंग में चार उपद्रवियों मोनिरुज्जमान, हमीदुल मियाँ, नूर अल्मा मियाँ और समीउल हक की मौत हो गई। एक दूसरे घटनाक्रम में उपद्रवियों के द्वारा गोली चलाने से पहली बार वोट डालने जा रहे अठारह वर्षीय आनंद बर्मन की भी मौत हो गई।  

घटना के बाद तृणमूल कॉन्ग्रेस ने मामले को चुनावी रंग देते हुए आरोप लगाया कि हिंसा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की करतूत थी। पार्टी का दावा है कि केंद्रीय बलों ने शाह के इशारे पर हमला किया।

ममता बनर्जी ने गृह मंत्री अमित शाह के इस्तीफे की माँग करते हुए कहा कि वह रविवार (अप्रैल 11, 2021) को बूथ का दौरा करेंगी। उन्होंने कहा, “मैं बदला लूँगी। मेरा बदला ईवीएम के जरिए होगा। केंद्रीय बल मेरे दुश्मन नहीं हैं। लेकिन अमित शाह लोगों को मारने की साजिश रच रहे हैं।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -