Monday, July 22, 2024
Homeराजनीति...ऐसे लोगों पर हमारा डंडा नहीं चलेगा तो क्या चलेगा, क्या इनकी आरती उतारूँ:...

…ऐसे लोगों पर हमारा डंडा नहीं चलेगा तो क्या चलेगा, क्या इनकी आरती उतारूँ: अखिलेश राज के करप्शन का जिक्र कर बोले CM योगी

"बुंदेलखंड को पानी की एक-एक बूँद के लिए किसने तरसाया? पलायन होता था। यहाँ डाकुओं के गिरोह हावी थे। इन्ही डाकुओं को सपा-बसपा अपना प्रत्याशी बना कर विधानसभा तक पहुँचाते थे। सुरक्षा के बगैर विकास व्यर्थ है।"

उत्तर प्रदेश के झाँसी में डीडी न्यूज की ओर से आयोजित कॉन्क्लेव में 16 फरवरी 2022 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शिरकत की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने बुंदेलखंड के तमाम मुद्दों के साथ UP के लॉ एन्ड आर्डर और विपक्षी दलों से जुड़े कई सवालों के दो टूक जवाब दिए।

योगी आदित्यनाथ ने कहा, “चुनाव है तो थोड़ी बहुत गर्मी जरूर है, लेकिन 10 मार्च के बाद सब शांत हो जाएगा। डबल इंजन की सरकार फिर से आएगी। यह चुनाव पब्लिक लड़ रही है। पार्टियाँ हट चुकीं हैं। सुरक्षा UP में बड़ा मुद्दा था। हर तीसरे दिन दंगे होते थे। बेटियाँ स्कूल नहीं जा पातीं थीं। माफिया हावी थे। पेशेवर अपराधी सत्ता का संरक्षण पाते थे। व्यापारियों के प्रतिष्ठानों पर कब्जे होते थे। कॉन्ग्रेस की सरकार में ये माफिया पनपे थे। बसपा और सपा ने इन्हे खाद पानी दिया। अब भाजपा ने इन सभी की जड़ों में मट्ठा डाल कर इन्हे सुखा दिया है। अब हम इन जड़ों को काट रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “बुंदेलखंड को पानी की एक-एक बूँद के लिए किसने तरसाया? पलायन होता था। यहाँ डाकुओं के गिरोह हावी थे। इन्ही डाकुओं को सपा-बसपा अपना प्रत्याशी बना कर विधानसभा तक पहुँचाते थे। सुरक्षा के बगैर विकास व्यर्थ है। 5 बजे ही व्यापारी दुकान बंद कर देते थे। अब 12 बजे रात तक बाजारों में चहल-पहल रहती है। अगर कोई गुंडा टैक्स माँगेगा तो अगले दिन किसी थाने के पास उसके गले में तख्ती होगी और वो जान की भीख माँगता दिखाई देगा। हमारी संवेदना किसान, नौजवान, माता, बहनों के प्रति है न कि माफियाओं और अपराधियों के प्रति। अपराधी जिस भाषा में समझना चाहा उसको उसी भाषा में समझाया।”

योगी ने आगे कहा, “चौधरी चरण सिंह के नाम पर उनकी विरासत लेने बहुत लोग पहुँच जाते हैं। लेकिन उनकी भावनाओं को हमने समझ कर उसके अनुरूप कार्य किया। अखिलेश यादव 12 बजे सो कर उठते हैं, मैं तो ब्रह्ममुहूर्त में उठने वाला योगी हूँ। 4 बजे सो कर उठता हूँ। फिर ईश्वर आराधना कर दिन भर राष्ट्र आराधना में लीन रहता हूँ। कोरोना भी हमारी गति को नहीं रोक पाया, जिसने दुनिया की गति रोक दी थी।”

मुख्यमंत्री ने बताया, “पिछले 14 सालों में सपा-बसपा की सरकारों ने युवाओं को जितनी नौकरियाँ नहीं दी उससे ज्यादा हमने 5 साल में दी हैं। पहले की सरकार में डिप्टी कलेक्टर पद के लिए 42 लाख रुपए से 62 लाख रुपए तक दिए गए थे। ऐसे लोग आगे चल कर भ्रष्टाचार करते। CBI जाँच आरोपितों पर चल रही है। ऐसे लोगों पर डंडा न चलाऊँ तो क्या इनकी आरती उतारूँ? अखिलेश यादव बड़े बाप के बेटे हैं। उन्हें बिना मेहनत के सब कुछ मिल गया है। अखिलेश यादव UP में जिलों की संख्या भी नहीं बता सकते। उन्होंने केवल जातिवाद और तुष्टिकरण देखा है। बुलडोजर ने प्रदेश के विकास में योगदान दिया। बाहर से कई लोगों ने निवेश किया। उसके चलते प्रदेश के तमाम युवाओं को नौकरी मिली।”

जी न्यूज को दिए इंटरव्यू में भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुरक्षा और कानून-व्यवस्था को सबसे बड़ा मुद्दा करार दिया दिया। महिलाओं और बेटियों को लेकर उन्होंने कहा था कि आज प्रदेश में बेटियाँ सुरक्षित हैं। सीएम योगी ने दावा किया कि इस चुनाव में भाजपा 300 सीटों से अधिक जीतने वाली है। उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे अन्य चुनावी राज्यों के साथ 10 मार्च को आएँगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15 अगस्त को दिल्ली कूच का ऐलान, राशन लेकर पहुँचने लगे किसान: 3 कृषि कानूनों के बाद अब 3 आपराधिक कानूनों से दिक्कत, स्वतंत्रता...

15 सितंबर को जींद और 22 सितंबर को पीपली में किसानों की रैली प्रस्तावित है। किसानों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष को जमानत दिए जाने की भी निंदा की।

केंद्र सरकार ने 4 साल में राज्यों को की ₹1.73 लाख करोड़ की मदद, फंड ना मिलने पर धरना देने वाली ममता सरकार को...

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि केंद्र सरकार 2020-21 से लेकर 2023-24 तक राज्यों को ₹1.73 लाख करोड़ विशेष मदद योजना के तहत दे चुकी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -