Wednesday, September 22, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयतालिबान की कैद में भी बेखौफ थे नजर मोहम्मद: जिस अफगानी कॉमेडियन का गला...

तालिबान की कैद में भी बेखौफ थे नजर मोहम्मद: जिस अफगानी कॉमेडियन का गला काटा, उसका Video

अफगानिस्तान के लोकप्रिय कॉमेडियन नजर मोहम्मद उर्फ खाशा की पिछले माह अपहरण के बाद हत्या की गई थी। उनकी हत्या से पहले एक वीडियो सामने आई थी जिसमें तालिबानी उन्हें गाड़ी में बैठाकर थप्पड़ मार रहे थे।

अफगानिस्तान में तालिबानियों के आतंक के बावजूद उनपर कॉमेडी वीडियो बनाने वाले एक कॉमेडियन व टिकटॉकर नजर मोहम्मद उर्फ खाशा ज्वैन की पिछले माह जुलाई में बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। शुरुआत में तालिबान इस हत्या में अपना हाथ बताने से इंकार कर रहा था, लेकिन बाद में उसने पूरे कृत्य के मद्देनजर अपनी संलिप्तता की पुष्टि कर दी थी।

डेलीमेल की खबर के अनुसार, नजर मोहम्मद की बेहरमी से हत्या पर तालिबान ने कहा था कि उन्होंने वीडियो में नजर आने वाले संदिग्धों को गिरफ्तार कर लिया है और जल्द उनको तालिबान अदालत में पेश किया जाएगा। इस बयान के साथ ही उन्होंने माना था कि कंधार प्रांत के निवासी नजर की हत्या में तालिबानियों का हाथ था। उनका कहना था कि नजर मोहम्मद दोषी था लेकिन उसे तालिबान की अदालत में पेश किया जाना चाहिए था, न कि इस तरह मौत देनी चाहिए थी।

बता दें कि अफगानिस्तान के लोकप्रिय कॉमेडियन नजर मोहम्मद उर्फ खाशा की पिछले माह अपहरण के बाद हत्या की गई थी। उनकी हत्या से पहले एक वीडियो सामने आई थी जिसमें तालिबानी उन्हें गाड़ी में बैठाकर थप्पड़ मार रहे थे।

कथिततौर पर, वीडियो में दिख रहा था कि कंधारी कॉमेडियन किस तरह तालिबानियों द्वारा पकड़े जाने के बाद भी तालिबान का मजाक उड़ा रहे थे कि तभी बंदूकधारी तालिबानी उनके बगल में बैठा और उनकी बात सुनते ही उन्हें झापड़ मार दिया। इसके बाद सबकों हँसाने वाले खाशा एकदम शांत बैठ गए।

खाशा को पेड़ पर बाँध कर दी गई मौत

जानकारी के मुताबिक, कंधार प्रांत से ताल्लुक रखने वाले कॉमेडियन को तालिबानी मारने के लिए उनके घर से घसीटते हुए बाहर लाए थे और फिर पेड़ से बाँधकर उनकी हत्या कर दी थी। खबरों के मुताबिक, आतंकी सूबे में सरकारी कर्मचारियों की तलाश में घर-घर जा रहे थे। 22 जुलाई को उन्होंने खाशा को पकड़कर एक पेड़ पर बाँध दिया और उनका गला काट दिया। स्थानीय पुलिस के रूप में काम करने वाले कॉमेडियन का कटा हुआ गला जमीन पर पड़ा हुआ मिला और उनका शरीर गोलियों से भुना था।

नजर के शव के साथ उनके परिजन (साभार: डेलीमेल)

इस हत्या के बाद मलाला युसूफजई के पिता जियाउद्दीन ने भी कंधार कॉमेडियन खाशा ज्वैन को श्रद्धांजलि दी थी। अपने ट्वीट में उन्होंने कहा था कि खाशा पूरे जीवन लोगों को हँसाते रहे, लेकिन आतंकियों ने खाशा के बच्चों को हमेशा के लिए रोने के लिए छोड़ दिया है।

डेलीमेल की रिपोर्ट से लिया गया स्क्रीनशॉट

उल्लेखनीय है कि खाशा ज्वैन सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते थे। उनके ह्यूमर के कारण उनकी फैन फॉलोविंग भी बहुत थी। आखिरी वीडियो की तरह कई वीडियो में उन्होंने तालिबान का मजाक बनाया था। ऐसे में किसे मालूम था कि तालिबान एक दिन उन्हें मारने से पहले ऐसी वीडियो बनाएगा जिसमें न उनके चेहरे पर हँसी होगी और न डर। उनकी आखिरी वीडियो में थप्पड़ पड़ने के बाद उनके चेहरे पर चुप्पी देखी जा सकती है। आज जब तालिबान का कब्जा पूरे अफगान पर हो गया है, तो उस समय की उनकी वीडियो शेयर की जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,782FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe