Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयचीजें हमारे नियंत्रण से बाहर... इस्लामी मुल्क के शाही परिवार के सामने झुका FIFA:...

चीजें हमारे नियंत्रण से बाहर… इस्लामी मुल्क के शाही परिवार के सामने झुका FIFA: जिस वर्ल्ड कप की स्पॉन्सर ही बियर कंपनी, उसमें शराब पर लगाना पड़ा बैन

सभी 64 मैचों के दौरान स्टेडियमों में 'अल्काहोल रहित बियर' की ही बिक्री की जा सकेगी। शैम्पेन, वाइन, व्हिस्की सिर्फ तय किए गए स्थानों में ही परोसी जाएगी।

कतर में रविवार (20 नवंबर, 2022) से शुरू हो रहे फीफा वर्ल्ड कप (FIFA WORLD CUP 2022) में फुटबॉल प्रेमियों को स्टेडियम में ठंडी बियर या किसी और तरह के अल्कोहल वाल पेय का मजा उठाने का मौका नहीं मिलेगा। टूर्नामेंट से दो दिन पहले आयोजकों ने बियर पीने या बेचने के मामले में यू-टर्न ले लिया है। आयोजकों ने इस वर्ल्ड कप में स्टेडियमों के अंदर बियर की बिक्री पर रोक लगा दी है।

पहले कतर ने नियमों में ढील देने की कही थी बात

फीफा वर्ल्ड कप इस्लामी मुल्क कतर में कराए जाने को लेकर पहले से ही सवाल उठ रहे थे। फैन्स को आशंका थी कि इस्लामी मुल्क में उन्हें दूसरे देशों की तरह वर्ल्ड कप का लुत्फ उठाने के लिए पूरी आजादी नहीं मिलेगी। हालाँकि, पहले कतर ने अपने मेहमानों के लिए नियमों में ढील देने की बात की थी। साथ ही तय हुआ था कि मैच से तीन घंटे पहले और मैच के एक घंटे बाद स्टेडियम में कुछ स्टॉल पर बीयर बेचा जा सकता है। लेकिन, वर्ल्ड कप शुरू होने से ठीक पहले फैसला बदल दिया गया।

बता दें कि कतर में शराब बेचने और पीने पर पूर्ण प्रतिबंध है, लेकिन फीफा वर्ल्ड कप के आयोजन को ध्यान में रखते हुए नियमों में नरमी बरतने की बात कही गई थी। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो कतर का शाही परिवार स्टेडियमों के अंदर बियर पर पाबंदी चाहता था। खबरें हैं कि शाही परिवार के दबाव की वजह से आयोजकों को फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा है। फीफा का कहना है कि इस मामले में चीजें उसके नियंत्रण से बाहर है, इसीलिए ये फैसला लेना पड़ा।

स्टेडियम में बिकेगी ‘अल्कोहल मुक्त बियर’

नए फैसले के तहत, देश में होने वाले 64 मैचों के दौरान स्टेडियमों में ‘अल्कोहल मुक्त बियर’ बेची जायेगी। फीफा ने जारी किए गए एक बयान में कहा, “मेजबान देश के अधिकारियों और फीफा के बीच चर्चा के बाद स्टेडियम के परिसर से बियर की बिक्री को हटा दिया गया है। फैन फेस्टिवल और प्रशंसकों के एकत्र होने वाले अन्य स्थलों पर बियर की बिक्री पर रोक रहेगी। सभी 64 मैचों के दौरान स्टेडियमों में ‘अल्काहोल रहित बियर’ की ही बिक्री की जा सकेगी। शैम्पेन, वाइन, व्हिस्की सिर्फ तय किए गए स्थानों में ही परोसी जाएगी।”

बियर पर प्रतिबंध के ऐलान के बाद से प्रशंसकों में मायूसी है। स्टेडियम में बियर और शराब पर प्रतिबंध की घोषणा के बाद से फुटबॉल प्रशंसकों ने विश्व कप आयोजकों से रिफंड की माँग शुरू कर दी है। उनका कहना है कि कतर को विश्वकप की मेजबानी सौंपा जाना गलत फैसला था जिससे टूर्नामेंट ‘बर्बाद’ हो गया है। रविवार से शुरू हो रहे टूर्नामेंट का लुत्फ उठाने के लिए पूरी दुनिया से फुटबॉल प्रशंसकों का कतर पहुँचना शुरू हो चुका है। कतर में पहले से मौजूद इंग्लैंड के प्रशंसकों ने इस प्रतिबंध को फीफा का अपमान करार दे दिया। इस साल इंग्लैंड से कुछ सौ प्रशंसक ही दोहा पहुँचे हैं।

फीफा के लिए परेशानी की बात यह भी है कि बियर बनाने वाली कंपनी बडवाइज़र इस वर्ल्ड कप के स्पॉन्सर में से एक है, जिसने फीफा वर्ल्ड कप 2022 की स्पॉन्सरशिप के लिए 75 मिलियन डॉलर (611.40 करोड़ रुपए) की राशि दी है। कंपनी ने प्रशंसकों के लिए काफी स्टॉक ब्रिटेन से कतर भेज दी थी। इसके अलावा स्टेडियम में मैच देखने वाले विदेशी प्रशंसकों की संख्या भी कम हो सकती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -