Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'अस्थायी वीजा वाले निहंग किए जाएँ बाहर, सिखों के हथियार लाने पर लगे बैन':...

‘अस्थायी वीजा वाले निहंग किए जाएँ बाहर, सिखों के हथियार लाने पर लगे बैन’: हमलों के बाद हिन्दुओं ने ऑस्ट्रेलिया के मंत्री को सौंपा ज्ञापन, माँगा न्याय

"संसद शुरू होने से पहले क्लेयर ओ'नील, पीटर खलील और मैंने समिति के सदस्यों से मिलने और उनके दृष्टिकोण को सुनने के लिए श्री दुर्गा मंदिर का दौरा किया।

ऑस्ट्रेलिया में खालिस्तानी गतिविधियाँ बढ़ रही हैं। आए दिन हिंदू मंदिरों पर हमले हो रहे हैं। गत 29 जनवरी को शांतिपूर्ण तरीके से तिरंगा यात्रा निकाल रहे हिंदुओं पर खालिस्तानियों ने हमला किया था। इस हमले को लेकर वहाँ रहने वाले हिंदुओं ने ऑस्ट्रेलियाई गृह मंत्री क्लेयर ओ’नील को ज्ञापन सौंपा है। इस ज्ञापन में हिन्दुओं को सुरक्षा देने समेत 7 माँगे की गई हैं।

दरअसल, बीते कुछ दिनों में ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया राज्य में खालिस्तानियों ने कई हिंदू मंदिरों पर हमला किया है। खासतौर से मेलर्बन शहर खालिस्तानियों का गढ़ बन चुका है। यही नहीं, खालिस्तानी आतंकी खालिस्तान बनाने के लिए जनमत संग्रह का आयोजन भी कर रहे हैं। इसलिए ऐसी गतिविधियों पर रोक लगाने तथा 29 जनवरी को हुए हमले के पीड़ित हिंदुओं को न्याय दिलाने के लिए गृह मंत्री को यह ‘माँग पत्र’ सौंपा गया।

इस ज्ञापन में निम्न माँगे की गईं

1.) सिखों के लिए हथियार ले जाने और इस्तेमाल करने पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए।

2.) अस्थाई वीजा पर रह रहे हर निहंग को ऑस्ट्रेलिया से बाहर भेजा जाए।

3.) धार्मिक स्थलों और कारों से सभी आपत्तिजनक/ आक्रामक पोस्टर हटाए जाएँ।

4.) 29 जनवरी, 2023 को हुए हमले के सभी पीड़ितों को जल्द से जल्द न्याय दिलाया जाए।

5.) 29 जनवरी, 2023 की घटना के सभी पीड़ितों को सुरक्षा प्रदान की जाए

6.) सिखों के धार्मिक स्थलों को कट्टरपंथ से मुक्ति दिलाई जाए।

7.) इन सभी मामलों पर नियमित रूप से अपडेट दिया जाए।

बता दें कि हिंदुओं ने ऑस्ट्रेलियाई गृह मंत्री को ज्ञापन तब सौंपा जब वह दुर्गा मंदिर से दर्शन कर बाहर निकल रही थीं। ज्ञापन सौंपे जाने के समय मंदिर में मौजूद एक ट्विटर यूजर Savan_2011 के अनुसार, ऑस्ट्रेलिया गृह मंत्री ने इन माँगों पर गंभीरता से विचार करने पर सहमति व्यक्त की है।

ऑस्ट्रेलिया के सहायक विदेश मंत्री टिम वाट्स और विल्स के श्रम संघीय सदस्य पीटर खलील भी गृह मंत्री क्लेयर के साथ मंदिर गए थे। एक आधिकारिक बयान में, सहायक विदेश मंत्री वाट्स ने कहा, “संसद शुरू होने से पहले क्लेयर ओ’नील, पीटर खलील और मैंने समिति के सदस्यों से मिलने और उनके दृष्टिकोण को सुनने के लिए श्री दुर्गा मंदिर का दौरा किया। यह मेलबर्न के पश्चिम में स्थित सबसे बड़ा हिंदू मंदिर है। शायद यह पूरे ऑस्ट्रेलिया का सबसे बड़ा मंदिर हो।”

टिम वाट्स ने यह भी कहा है, “हमारा समाज अविश्वसनीय सांस्कृतिक और धार्मिक विविधता वाला है। मुझे दीवाली और होली जैसे त्योहारों को मनाने के लिए बीते वर्षों में कई बार श्री दुर्गा के दर्शन करने का सौभाग्य मिला है। यह ऑस्ट्रेलिया के सांस्कृतिक कैलेंडर में भी शामिल हैं।

हिंदुओं पर हुए हमलों को लेकर उन्होंने कहा, “बीते कुछ हफ्तों में हमने पूजा स्थलों की जो तोड़-फोड़ देखी है, वह हमारे बहुसांस्कृतिक और बहु-विश्वास वाले देश में पूरी तरह से अस्वीकार्य है। हम इन घृणित कार्यों को लेकर विक्टोरियन पुलिस द्वारा की जा रही जाँच का पूरी तरह से समर्थन करते हैं।”

खालिस्तानियों के तथाकथित जनमत संग्रह का विरोध कर रहे हिंदुओं पर हमला

बता दें कि गत 29 जनवरी को, तिरंगा यात्रा निकाल रहे हिंदुओं पर खालिस्तानियों ने हमला किया था। इसके कई वीडियो भी सामने आए थे। दरअसल, प्रतिबंधित खालिस्तानी आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस ने 29 जनवरी को मेलर्बन के फेडरेशन स्कावयर पर जनमत संग्रह करने का ऐलान किया था।

खालिस्तानी आतंकियों की इन गतिविधियों का विरोध करने के लिए आस्ट्रेलिया में रह रहे भारतीयों ने विरोध करने के लिए शांतिपूर्ण तरीके से तिरंगा यात्रा निकाली थी। इस तिरंगा यात्रा के दौरान खालिस्तानी आतंकियों ने हिंदुओं पर लाठी-डंडों और तलवार से हमला किया था। ऑस्ट्रेलियाई मीडिया के अनुसार, तलवार से हमला करने वाले एक खालिस्तानी को ऑस्ट्रेलिया पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -