Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयब्लास्ट से दहली तुर्की की राजधानी, 6 की मौत और 53 घायल: 'आतंकवाद' के...

ब्लास्ट से दहली तुर्की की राजधानी, 6 की मौत और 53 घायल: ‘आतंकवाद’ के खिलाफ बातें कर रहे मुल्क के राष्ट्रपति, कश्मीर पर पाकिस्तान का करते हैं समर्थन

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगन ने कहा है कि मुल्क के विरुद्ध आतंकवाद का इस्तेमाल करने वाले नहीं बचेंगे। उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि इस धमाके को अंजाम देने वाले अपराधी जिस सज़ा के हक़दार हैं, वो उन्हें मिलेगी।

तुर्की की राजधानी इस्तांबुल के एक व्यस्त इलाके में हुए ब्लास्ट में 6 लोगों की मौत हो गई है और 53 लोग घायल हुए हैं। वहाँ के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगन अब ‘आतंकवाद’ के खिलाफ बातें कर रहे हैं। हालाँकि, उनका मुल्क कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का समर्थन करता रहा है और आतंकवाद पर भारत के कड़े रुख का विरोधी रहा है। अब उनके ही मुल्क में स्थित ‘इस्तिक़लाल एवेन्यू’ में हुए बम ब्लास्ट से मुल्क दहल गया है।

ये धमाका रविवार (13 नवंबर, 2022) को स्थानीय समय के अनुसार 4:20 बजे शाम को हुआ। इस धमाके का कारण अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। हालाँकि, जो वीडियोज सामने आए हैं, उनमें लोगों को जमीन पर बेसुध पड़े हुए और चीखते-चिल्लाते हुए देखा जा सकता है। एक धमाके की आवाज़ भी सुनाई दे रही है और वीडियो में आग की लपटें निकलते हुए भी देखा जा सकता है। एम्बुलेंस और फायर ट्रक्स मौके पर पहुँचे। एक बैग बेंच पर रखा हुआ था, जिससे धमाका होने की बात कही जा रही है।

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगन ने कहा है कि मुल्क के विरुद्ध आतंकवाद का इस्तेमाल करने वाले नहीं बचेंगे। उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि इस धमाके को अंजाम देने वाले अपराधी जिस सज़ा के हक़दार हैं, वो उन्हें मिलेगी। उन्होंने बताया कि इस ‘देशद्रोही हमले’ के पीछे के तत्वों को बेनकाब करने के लिए एजेंसियाँ काम कर रही हैं। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि धमाके के बाद लोग स्तब्ध रह गए और एक-दूसरे की तरफ देखने लगे, फिर भगदड़ मच गई।

बता दें कि तुर्की भारत विरोधी गतिविधियों का हब बना हुआ है। हाल ही में भारत में एक बड़े नेता को निशाना बनाने के लिए जिस ISIS के आतंकी को रूस में दबोचा गया था, उसे तुर्की में ही आतंक की ट्रेनिंग मिली थी। बता दें कि अनुच्छेद 370 के मुद्दे पर तुर्की ने पाकिस्तान की बातों का समर्थन किया था। अक्टूबर 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना तुर्की दौरा रद्द कर दिया था। अभिनेता आमिर खान भी तुर्की फर्स्ट लेडी से मिले थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -