Saturday, July 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनमाज नहीं पढ़ता था 24 साल का बेटा… अब्बा ने हथौड़े से किया वार,...

नमाज नहीं पढ़ता था 24 साल का बेटा… अब्बा ने हथौड़े से किया वार, चाकू से ली जान: कत्ल करके कहा- ‘मैं बच्चों को पहले भी चेतावनी दे चुका था’

पाकिस्तान के कराची में हाजी मुहम्मद सईद नाम के कट्टरपंथी ने अपने ही बेटे की जान सिर्फ इसलिए ले ली क्योंकि उसने अपने बेटे नमाज पढ़ने की बजाय सो रहा था। इसी बात पर नाराज होकर हाजी ने अपने 24 साल के बेटे को मौत के घाट उतार दिया।

पाकिस्तान के कराची से दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। यहाँ नमाज न पढ़ने पर मुहम्मद सोहेल (Muhammad Sohail) नाम के 24 वर्षीय बेटे को उसके ही अब्बा ने बेरहमी से मार डाला। यह घटना गुलिस्तान-ए-जौहर (Gulistan-e-Johar) इलाके के ब्लॉक 11 की बताई जा रही है।

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हत्यारे अब्बा की पहचान हाजी मुहम्मद सईद (Haji Muhammad Saeed) के रूप में हुई है। बुधवार सुबह (22 फरवरी 2023) जब वह (हाजी मुहम्मद) फजर की नमाज से लौटा, तो उसने अपने बेटे को सोते हुए पाया। इसके बाद सईद ने बिना कुछ कहे सोहेल पर हथौड़े से वार कर दिया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

आरोपित ने दावा किया कि उसने सोहेल सहित अपने सभी बच्चों को समय पर नमाज अदा करने के लिए बार-बार चेताया था, लेकिन सोहेल ने उसकी बात पर ध्यान नहीं दिया। इस बात से आक्रोशित सईद ने अपना आपा खो दिया और अपने ही बेटे की जान ले ली। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुँची पुलिस ने आरोपित को पकड़ लिया। घटनास्थल से हत्या में इस्तेमाल किया गया एक हथौड़ा और चाकू बरामद किया गया है।

इसके बाद मुहम्मद सोहेल के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए जिन्ना पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल सेंटर (Jinnah Post Graduate Medical Center) ले जाया गया। शाहराह-ए-फैसल थाना पुलिस ने हत्या के मामले में हाजी मुहम्मद सईद (अब्बा) के खिलाफ ​केस दर्ज किया है।

बता दें कि पाकिस्तान इस वक्त गंभीर आर्थिक और राजनीतिक संकट के दौर से गुजर रहा है। देश में महँगाई आसमान छू रही है। इस बीच वहाँ अपराध (Crime) के मामलों में भी इजाफा हुआ है। पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक, कराची में हत्या और लूट की घटनाओं में काफी तेजी देखी गई है। बीते दिनों कराची में एक ही दिन में तीन हत्याओं (Murders) और नकद छीनने की 36 घटनाओं सहित 140 अपराध की घटनाएँ सामने आईं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तराखंड में तेज़ी से बढ़ रही मुस्लिमों और ईसाईयों की जनसंख्या: UCC पैनल की रिपोर्ट में खुलासा – पहाड़ों से हो रहा पलायन

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में आबादी घट रही है, तो मैदानी इलाकों में बेहद तेजी से आबादी बढ़ी है। इसमें सबसे बड़ा योगदान दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों ने किया है।

जम्मू कश्मीर के उप-राज्यपाल को अब दिल्ली के LG जितनी शक्तियाँ, ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए भी उनकी अनुमति ज़रूरी: मोदी सरकार के आदेश पर भड़के...

जब से जम्मू कश्मीर का पुनर्गठन हुआ है, तब से वहाँ चुनाव नहीं हो पाए हैं। मगर जब भी सरकार का गठन होगा तब सबसे अधिक शक्तियाँ राज्यपाल के पास होंगी। ये शक्तियाँ ऐसी ही हैं, जैसे दिल्ली के एलजी के पास होती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -