Monday, July 15, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तान: ईसाई समुदाय के आसिफ को 'ईशनिंदा' के आरोप में मौत की सजा, मोबाइल...

पाकिस्तान: ईसाई समुदाय के आसिफ को ‘ईशनिंदा’ के आरोप में मौत की सजा, मोबाइल से ‘अपमानजनक संदेश’ भेजने का आरोप

आसिफ परवेज के पिता अनवर मसीह पर भी ईशनिंदा का आरोप लगा था। इतना ही नहीं, परिवार को प्रतिबंधित इस्लामी समूह सपा-ए-सहाबा द्वारा इस्लाम में परिवर्तित होने के लिए मजबूर किया गया था। हालाँकि, ईसाई समुदाय ने उन्हें गाँव से बाहर निकलने में मदद की और तब से वे छिपे रहे।

लाहौर की एक अदालत ने एक ईसाई व्यक्ति आसिफ परवेज को “ईशनिंदा” के आरोप में मौत की सजा सुनाई है। मोहम्मद सईद अहमद खोखर ने पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी कि उन्हें आसिफ परवेज के मोबाइल फोन से अलग-अलग तारीखों में अपमानजनक संदेश मिले थे।

वकील सैफ-उल-मलूक ने बताया कि 37 वर्षीय ईसाई समुदाय के आसिफ परवेज 2013 से उस समय से हिरासत में है जब उस पर एक पूर्व पर्यवेक्षक को “ईशनिंदा” का संदेश भेजने का आरोप लगा था।

मंगलवार (सितंबर 8, 2020) को सुनवाई के दौरान अदालत ने आसिफ परवेज की गवाही को खारिज कर दिया, जिसमें उसने आरोपों से इनकार किया था। इसके बाद उसे मौत की सजा सुनाई गई। वकील सैफ उल मलूक (Saif-ul-Malook) ने कहा, “शिकायतकर्ता होजरी कारखाने में एक पर्यवेक्षक था, जहाँ ईसाई समुदाय का आसिफ उसके अधीन काम कर रहा था।” 

वकील सैफ उल मलूक ने बताया कि सुनवाई के दौरान आसिफ परवेज ने अपने ऊपर लगे आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि सईद अहमद खोखर उस पर अपने मजहब इस्लाम में परिवर्तित करने के लिए दवाब डाल रहा था। परवेज ने दावा किया कि जब उसने पर्यवेक्षक सईद अहमद खोखर के यहाँ से काम छोड़ा तो उसने उसका इसका विरोध किया और जब आसिफ ने अपना ईसाई मजहब परिवर्तन करने से इनकार कर दिया तो उसने उस पर ईशनिंदा का आरोप लगा दिया। 

हालाँकि, मामले में शिकायतकर्ता मुहम्मद सईद खोखर के वकील ने इस आरोप से इनकार किया है। उनका कहना है कि चूँकि आसिफ के पास खुद को बचाने के लिए धर्म परिवर्तन का आरोप लगा रहा है।

गौरतलब है कि आसिफ परवेज के पिता अनवर मसीह पर भी ईशनिंदा का आरोप लगा था। इतना ही नहीं, परिवार को प्रतिबंधित इस्लामी समूह सपा-ए-सहाबा द्वारा इस्लाम में परिवर्तित होने के लिए मजबूर किया गया था। हालाँकि, ईसाई समुदाय ने उन्हें गाँव से बाहर निकलने में मदद की और तब से वे छिपे रहे। आसिफ परवेज के 4 नाबालिग बच्चे हैं और वे बहुत खतरे में हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मंगलौर के बहाने समझिए मुस्लिमों का वोटिंग पैटर्न: उत्तराखंड की जिस विधानसभा से आज तक नहीं जीता कोई हिन्दू, वहाँ के चुनाव परिणामों से...

मंगलौर में हाल के विधानसभा उपचुनावों में कॉन्ग्रेस ने भाजपा को हराया। इस चुनाव में मुस्लिम वोटिंग का पैटर्न भी एक बार फिर साफ़ हो गया।

IAS बेटी ऑडी पर बत्ती लगाकर बनाती थी भौकाल, माँ-बाप FIR के बाद फरार: पूजा खेडकर को जाँच के बाद डॉक्टरों ने नहीं माना...

पूजा खेडकर का मामला मीडिया में उठने के बाद उनके माता-पिता से जुड़ी कई वीडियो सामने आई है। ऐसे में पुलिस ने उनकी माँ के खिलाफ एफआईआर की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -