Tuesday, July 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजिसने बनाई लश्कर-ए-जब्बार, उसकी हत्या कर निकल गए अज्ञात बंदूकधारी: बालाकोट एयर स्ट्राइक में...

जिसने बनाई लश्कर-ए-जब्बार, उसकी हत्या कर निकल गए अज्ञात बंदूकधारी: बालाकोट एयर स्ट्राइक में बच निकला था दाऊद मलिक, अब क्लिनिक में भून डाला गया

दरअसल, भारत में आतंकी गतिविधियों में वांछित कई आतंकी पाकिस्तान, कनाडा एवं अन्य देशों में छिपे बैठे हैं। पिछले कुछ समय से पाकिस्तान ही नहीं, बल्कि कनाडा एवं ब्रिटेन में छिपकर बैठे आतंकियों की किन्हीं कारणों हत्या हो रही है। खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बाद तो भारत और कनाडा के संबंध भी खराब हो गए हैं।

पाकिस्तान में छिपकर बैठे भारत के एक और मोस्ट वॉन्टेड आतंकी की हत्या हो गई है। इस आतंकी का नाम दाऊद मलिक बताया जा रहा है, जो वैश्विक आतंकी संगठन ‘जैश-ए-मोहम्मद’ के सरगना मसूद अजहर का करीबी है। ‘जैश-ए-मोहम्मद’ के अलावा दाऊद मलिक लश्कर-ए-जब्बार का संस्थापक भी था। वह लश्कर-ए-झांगवी से भी जुड़ा हुआ था।

बता दें कि पिछले कुछ समय से पाकिस्तान में छिपे भारत के मोस्ट वॉन्टेड आतंकियों की हत्या का सिलसिला जारी है। अभी हाल ही में शाहिद लतीफ नाम के एक आतंकी की हत्या कर दी गई थी। लतीफ को पठानकोट हमले का मास्टरमाइंड माना जाता है। वहीं, दूसरा आतंकी ISI का एजेंट मुल्ला बाहौर उर्फ होर्मुज है। उसे भी अज्ञात लोगों ने गोली मार दी।

दरअसल, भारत में आतंकी गतिविधियों में वांछित कई आतंकी पाकिस्तान, कनाडा एवं अन्य देशों में छिपे बैठे हैं। पिछले कुछ समय से पाकिस्तान ही नहीं, बल्कि कनाडा एवं ब्रिटेन में छिपकर बैठे आतंकियों की किन्हीं कारणों हत्या हो रही है। खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बाद तो भारत और कनाडा के संबंध भी खराब हो गए हैं।

पाकिस्तान के उत्तरी वजीरीस्तान में दाऊद मलिक को अज्ञात बंदूकधारियों ने गोली मारकर हत्या कर दी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तरी वजीरीस्तान के मिराली एरिया में कुछ नकाबपोश बंदूकधारियों ने दाऊद मलिक को उस समय गोली मारकर हत्या कर दी, जब वह एक क्लिनिक में गया था। नकाबपोश वहाँ पहले से ही उसका इंतजार कर रहे थे।

पुलवामा हमले के बाद जब भारतीय सेना ने पाकिस्तान के बालाकोट पर एयर स्ट्राइक की थी तो दाऊद मलिक वहाँ मौजूद था, लेकिन वह बचकर भागने में कामयाब रहा था। ये सभी आतंकी पाकिस्तान की कुख्यात खुफिया एजेंसी ISI की हिफाजत में रहते हैं। इसके बावजूद ये निशाना बन जा रहे हैं।

इससे पहले मारा गया आतंकी शाहिद लतीफ पाकिस्तान के गुजरांवाला का रहने वाला था। उसे अज्ञात हमलावरों ने बहुत करीब से गोली मारी थी। साल 2016 के पठानकोट हमले का मास्टरमाइंड शाहिद लतीफ आईएसआई से खास ट्रेनिंग मिली थी। लतीफ को आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने सियालकोट सेक्टर के प्रमुख की जिम्मेदारी सौंपी थी।

वहीं, मारा गया दूसरा आतंकी मुल्ला बाहौर उर्फ होर्मुज है। उसे स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कर रहे बलूचों के इलाके बलूचिस्तान में गोली मारी गई थी। कहा जाता है कि बाहौर ने ही कुलभूषण जाधव को ईरान से अगवा करके आईएसआई के हवाले किया था। भारतीय नौसेना से रिटायर हुए कुलभूषण जाधव इस वक्त पाकिस्तान की जेल में हैं।

उससे पहले पिछले माह ‘लश्कर ए तैयबा’ के प्रमुख हाफिज सईद के करीबी अबु कासिम को रावलकोट में गोली मारी गई थी। खालिस्तान कमांडो फोर्स का दुर्दांत आतंकी और भारत में मोस्ट वॉन्टेड परमजीत सिंह पंजवाड़ की भी पाकिस्तान में अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या की थी।

जैश का खूंखार आतंकी जहूर मिस्त्री की भी हत्या हुई थी। जहूर मिस्त्री कंधार विमान अपहरण कांड में शामिल था। वहीं, आतंकी बशीर अहमद मीर उर्फ इम्तियाज आलम को रावलपिंडी में गोली मार दी गई थी। हिजबुल मुजाहिदीन ने उसे लॉन्च पैड सँभालने की जिम्मेदारी थी और वह पाकिस्तान से जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ कराता था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -