Sunday, September 19, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयइमरान खान ने की अफगानिस्तान में तालिबानी शासन की सराहना, कहा- 'मानसिक गुलामी की...

इमरान खान ने की अफगानिस्तान में तालिबानी शासन की सराहना, कहा- ‘मानसिक गुलामी की जंजीरें टूट गईं’

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार को अफगानिस्तान में तालिबानी शासन की सराहना की। इस्लामाबाद में 'एकल राष्ट्रीय पाठ्यक्रम' के उद्घाटन समारोह के दौरान उन्होंने तालिबानी शासकों द्वारा अफगानिस्तान पर कब्जा करने को उचित ठहराया।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार (16 अगस्त) को अफगानिस्तान में तालिबानी शासन की सराहना की। इस्लामाबाद में ‘एकल राष्ट्रीय पाठ्यक्रम’ के उद्घाटन समारोह के दौरान उन्होंने तालिबानी शासकों द्वारा अफगानिस्तान पर कब्जा करने को उचित ठहराया। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि अफगान के नागरिकों की मानसिक गुलामी की जंजीरें टूट गईं। उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा उन पर अपनी संस्कृति को थोपना मानसिक दासता के समान था।

सांस्कृतिक पहलू पर जोर देते हुए उन्होंने कहा, “जब आप किसी की संस्कृति को अपनाते हैं, तो आप इसे श्रेष्ठ मानते हैं, लेकिन बाद में इसके गुलाम बन जाते हैं।” उन्होंने इस तरह की दासता को उचित ठहराते हुए दावा ​किया कि मानसिक दासता इससे बदतर थी। अफगान के लोग बड़े निर्णय लेने में असमर्थ थे वह पूरी तरह से गुलामी की जंजीरों से जकड़े हुए थे।

तालिबान के लिए इमरान खान और उनकी सहानुभूति

जून 2013 में, जब एक अमेरिकी ड्रोन हमले में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का उप प्रमुख वलीउर रहमान महसूद मारा गया था, तब खान ने उसे ‘शांति दूत’ के रूप में संदर्भित करके नए विवाद को जन्म दिया था। रहमान पर 5 मिलियन, 50 लाख रुपए अमरीकी डालर का इनाम रखा गया था। उस पर अफगानिस्तान में अमेरिका और नाटो बलों के खिलाफ हमले आयोजित करने का आरोप लगाया गया था। वह 2009 में अफगानिस्तान में एक अमेरिकी ठिकाने पर आत्मघाती हमले के सिलसिले में भी वांछित था, जिसमें सीआईए के सात एजेंट मारे गए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe