Wednesday, September 29, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयतालिबान खोलने जा रहा है वो मंत्रालय जो देगा शरिया कानून वाली सजा: हत्या...

तालिबान खोलने जा रहा है वो मंत्रालय जो देगा शरिया कानून वाली सजा: हत्या के बदले हत्या, चोरी के बदले काटे जाएँगे हाथ

अब मोरल पुलिस हर सड़क पर तैनात होगी ताकि उल्लंघनकर्ताओं को सजा दी जा सके। इन सजाओं में कोड़े, बेंत, अंगों को काटने या सजा-ए-मौत देने का अधिकार होगा।

अफगानिस्तान में तालिबानी सरकार बनने के बाद अब तालिबान का और भयावह चेहरा देखने को मिल सकता है। खबरें है कि तालिबान अपना सदाचार मंत्रालय (Ministry of Vice and Virtue) दोबारा चालू करने की दिशा में काम कर रहा है जिसे अमेरिका के हमले के बाद बंद कर दिया गया था। संभव है कि मोहम्मद खलील इसका प्रमुख बने। ये वही मंत्रालय है कि जो शरिया कानून के तहत सजा मुकर्रर करेगा। इन सजाओं में चोरी करने पर हाथ काटने और अवैध संबंध बनाने पर पत्थर से मारने की बातें हैं।

न्यूयॉर्क पोस्ट की खबर के मुताबिक, अफगानिस्तान के सेंट्रल जोन के प्रमुख 32 वर्षीय मोहम्मद युसूफ ने बताया कि तालिबान अब सख्त शरिया कानून लागू करेगा। युसूफ के मुताबिक, 

“हम शरिया कानून के तहत सजा देंगे। जो भी इस्लाम में कहा गया है हम उसके हिसाब से सजा मुकर्रर करेंगे। इस्लाम में बड़े अपराधों के लिए अपने नियम हैं। जैसे किसी की हत्या करने वाले के लिए अलग नियम हैं। अगर आपने जानबूझ कर मारा तो आपको भी मारा जाएगा। अगर ये काम जान कर नहीं हुआ तो अलग सजा होगी जैसे कुछ रुपयों का जुर्माना। अगर चोरी हुई तो हाथ काट दिया जाएगा। अगर अवैध संबंध बने तो पत्थरों से मारा जाएगा।”

युसूफ ने कहा, “हम एक शांतिपूर्ण देश चाहते हैं जहाँ इस्लामी नियम और कानून चलें। शांति और इस्लाम का शासन ही सिर्फ हमारी इच्छा है।”

बता दें कि तालिबान के पिछले शासन में महिलाओं को बुर्का पहनना अनिवार्य था और बिन पुरुषों के वह घर से बाहर नहीं निकल सकती थीं। नमाज का समय सख्ती से लागू था। पुरुषों को दाढ़ी बढ़ाना जरूरी था। ऐसे ही अब मोरल पुलिस हर सड़क पर तैनात होगी ताकि उल्लंघनकर्ताओं को सजा दी जा सके। इन सजाओं में कोड़े, बेंत, अंगों को काटने या सजा-ए-मौत देने का अधिकार होगा। वैसे इन सजाओं के उदाहरण अभी से काबुल की सड़कों पर देखने को मिलने लगे हैं।

उल्लेखनीय है कि मोहम्मद युसूफ ने 9वीं क्लास आम स्कूल में पढ़ाई की है। इसके बाद वह 13 सालों तक इस्लाम पढ़ता रहा। अब वह इस्लामी ज्ञान का प्रचार करता है। युसूफ ने दावा किया कि उसने कभी मिलिट्री ट्रेनिंग नहीं ली और ना ही आज तक बंदूक चलाई। उसके मुताबिक, “हम (तालिबान) देश में शांति चाहते हैं, जिसके लिए इस्लामी नियम-कायदे बेहद जरूरी हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,044FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe