Monday, July 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयदुबई का 84 किमी इलाका कहलाएगा 'हिंद सिटी', इस्लामी मुल्क के PM शेख मोहम्मद...

दुबई का 84 किमी इलाका कहलाएगा ‘हिंद सिटी’, इस्लामी मुल्क के PM शेख मोहम्मद ने ‘अल मिन्हाद’ का बदला नाम: क्या भारत से है कोई कनेक्शन?

हिंद का अर्थ अरबी में काफी कुछ हो सकता है। यह एक पुराना अरबी नाम भी है। दरअसल, शेख मोहम्मद की पहली बीवी का नाम भी हिंद है।

‘संयुक्त अरब अमीरात (UAE)’ के उप-राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम (Sheikh Mohammed bin Rashid Al Maktoum) ने रविवार (29 जनवरी, 2023) को अल मिन्हाद क्षेत्र और इसके आसपास के क्षेत्रों का नाम बदलकर ‘हिंद सिटी’ कर दिया। यूएई की आधिकारिक समाचार एजेंसी डब्ल्यूएएम ने यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि हिंद 1 से हिंद 4 तक 4 जोन वाला यह शहर 83.9 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है।

जैसे ही यह खबर भारत पहुँची, कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर दावा किया कि भारतीयों के योगदान को स्वीकार करने के लिए दुबई के इन क्षेत्रों का नाम बदल दिया गया है। हालाँकि, नाम बदलने के पीछे कोई आधिकारिक कारण नहीं बताया गया है। यह अल मिन्हाद क्षेत्र और इसके आसपास के क्षेत्रों का नाम बदलने के पीछे का वास्तविक कारण नहीं हो सकता है।

हिंद का अर्थ अरबी में काफी कुछ हो सकता है। यह एक पुराना अरबी नाम भी है। दरअसल, शेख मोहम्मद की पहली बीवी का नाम भी हिंद है। शेख मोहम्मद की बीवी हिंद बिन्त अल मकतूम ने 26 अप्रैल 1979 को एक भव्य समारोह में उनसे निकाह किया था। इस दंपति के 12 बच्चे हैं, जिनमें क्राउन प्रिंस और दुबई के क्राउन के लिए दूसरे नंबर पर आने वाले शेख हमदान बिन मोहम्मद अल मकतूम शामिल हैं। इसलिए, इन क्षेत्रों का नाम उनके नाम पर रखा जा सकता है।

हिंद अरबी में ऊँटों के एक बड़े समूह का भी उल्लेख करता है। 100 या इससे अधिक ऊँटों को हिंद कहा जाता है। दरअसल, अरबी में अपनी बेटियों का नाम हिंद रखने का मतलब है, यह दुआ करना है कि उसे 100 या उससे ज्यादा ऊँट मिलें। वहीं, हिंद भारत को भी संदर्भित कर सकता है। भारतीयों को भी अरबी लोग हिन्दी कहते हैं।

जैसा कि क्षेत्र का नाम बदलने के लिए कोई आधिकारिक कारण नहीं बताया गया है। इसको लेकर ऑपइंडिया ने संयुक्त अरब अमीरात के प्रधानमंत्री कार्यालय से इस मामले पर एक टिप्पणी करने का अनुरोध किया है। यदि उन्होंने हमें नाम बदलने का आधिकारिक कारण बताया तो हम यह रिपोर्ट अपने पाठकों के लिए अपडेट करेंगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15 अगस्त को दिल्ली कूच का ऐलान, राशन लेकर पहुँचने लगे किसान: 3 कृषि कानूनों के बाद अब 3 आपराधिक कानूनों से दिक्कत, स्वतंत्रता...

15 सितंबर को जींद और 22 सितंबर को पीपली में किसानों की रैली प्रस्तावित है। किसानों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष को जमानत दिए जाने की भी निंदा की।

केंद्र सरकार ने 4 साल में राज्यों को की ₹1.73 लाख करोड़ की मदद, फंड ना मिलने पर धरना देने वाली ममता सरकार को...

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि केंद्र सरकार 2020-21 से लेकर 2023-24 तक राज्यों को ₹1.73 लाख करोड़ विशेष मदद योजना के तहत दे चुकी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -