Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टमीडियामोहम्मद फाजिल की हत्या के मामले में NDTV ने शिया-सुन्नी प्रेम प्रसंग को छिपाया,...

मोहम्मद फाजिल की हत्या के मामले में NDTV ने शिया-सुन्नी प्रेम प्रसंग को छिपाया, वीडियो रिपोर्ट में भगवा कपड़े पहने लोगों को दिखाया: कर्नाटक की घटना

वीडियो में NDTV ने फाजिल की हत्या के संबंध में कर्नाटक पुलिस द्वारा एक्सेस किए गए सीसीटीवी फुटेज को दिखाया। इसके बाद प्रवीण नेट्टारू की हत्या के विरोध में विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं को दिखाया।

कर्नाटक (Karnataka) के मंगलुरु में कृष्णापुरा-एमआरपीएल रोड पर हमलावरों द्वारा मोहम्मद फाजिल नाम के युवक की हत्या की खबर सामने आने के बाद एनडीटीवी दुष्प्रचार में जुट गया है। वामपंथी चैनल ने घटना के कुछ घंटों बाद ही यह बताने की कोशिश की कि भाजपा ने युवा मोर्चा (BJYM) के नेता प्रवीण नेट्टारू की हत्या का बदला लेने के लिए इस घटना को अंजाम दिया है।

पुलिस के मुताबिक, फाजिल पर 4-5 अज्ञात बदमाशों ने घातक हथियार से हमला किया था। पुलिस ने अपनी प्रारंभिक जाँच में कथित तौर पर पाया कि मृतक की हत्या इसलिए की गई, क्योंकि वह सुन्नी था और एक शिया महिला से प्यार करता था। हमलावरों ने चेहरे पर नकाब पहन रखा था। वे सभी हुंडई कार से आए थे और फाजिल की हत्या कर कार में बैठकर फरार हो गए।

हालाँकि, पुलिस ने अभी तक इसकी पुष्टि नहीं की है कि हमलावरों ने किस कारण से फाजिल की हत्या की है। वहीं, एनडीटीवी ने इस घटना की वीडियो रिपोर्ट में दावा किया है कि ये संदिग्ध हिंदू हो सकते हैं। चैनल ने 26 जुलाई को इस्लामवादियों द्वारा की गई प्रवीण नेट्टारू की हत्या का हवाला देते हुए कहा कि प्रतिशोध लेने के लिए मोहम्मद फाजिल की हत्या की गई। दूरदर्शन से चुराए गए टेपों, उपकरणों को बेचकर खुद को स्थापित करने वाले एनडीटीवी ने इस मामले में शिया-सुन्नी प्रेम प्रसंग को नजरअंदाज करते हुए हिंदू संगठनों पर निशाना साधा।

वीडियो में NDTV ने फाजिल की हत्या के संबंध में कर्नाटक पुलिस द्वारा एक्सेस किए गए सीसीटीवी फुटेज को दिखाया। इसके बाद प्रवीण नेट्टारू की हत्या के विरोध में विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं को दिखाया। रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से अप्रत्यक्ष रूप से यह बताने का प्रयास किया गयाहै कि 28 जुलाई को प्रवीण की हत्या के प्रतिशोध में हिंदुओं द्वारा फाजिल की कथित तौर पर हत्या कर दी गई थी। एनडीटीवी द्वारा किए गए इस तरह के कथित दावों को अन्य मीडिया रिपोर्टों ने खारिज कर दिया है। वहीं, दूसरे मीडिया रिपोर्ट्स में फाजिल की हत्या को शिया-सुन्नी प्रेम संबंध से जोड़ कर दिखाया गया है।

मेंगलुरु के पुलिस आयुक्त एन शशि कुमार ने 28 जुलाई को फाजिल की मौत की पुष्टि करते हुए कहा था कि यह घटना मंगलुरु सिटी के सूरतकल की है। जहाँ कृष्णापुरा कटिपल्ला रोड पर रात करीब 8 बजे 23 वर्षीय लड़के पर 4-5 लोगों ने बेरहमी से हमला किया था। हमलावरों से बचने के लिए फाजिल ने दौड़ भी लगाई, लेकिन वह बच नहीं पाया। गंभीर हालत में फाजिल को अस्पताल ले जाया गया, जहाँ उसने दम तोड़ दिया।

घटना के बाद मंगलुरु के पुलिस कमिश्नर एनएस कुमार ने मुस्लिम उलेमाओं और मौलानाओं से घर के अंदर ही नमाज़ पढ़ने की अपील की थी। मंगलुरु पुलिस ने शिक्षण संस्थानों, क्षेत्र की शराब की दुकानों को भी 29 जुलाई तक बंद रखने का आदेश दिया था।

गौरतलब है कि इससे पहले कर्नाटक के बेल्लारे इलाके में मंगलवार (26 जुलाई 2022) की रात करीब 9 बजे कुछ हमलावरों ने कुल्हाड़ी से हमला कर भाजपा युवा मोर्चा के जिला सचिव प्रवीण नेट्टारू की हत्या कर दी थी। यह हमला तब हुआ जब वे बाइक से घर जा रहे थे। प्रवीण की हत्या के मामले में PFI और SDPI पर संदेह जताया गया है। वहीं कुछ मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि पुलिस को संदेह है कि हत्या बेल्लारे के मुस्लिम युवक मसूद की हत्या के बदले में की गई होगी। क्योंकि कुछ दिनों पहले एक युवक की हत्या हुई थी।

वहीं इस मामले में केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता प्रह्लाद जोशी ने कहा था, “प्रारंभिक रिपोर्ट और कुछ मीडिया रिपोर्ट एसडीपीआई और पीएफआई लिंक की तरफ इशारा करती हैं। उन्हें केरल में बढ़ावा दिया जा रहा है। कर्नाटक में कॉन्ग्रेस उन्हें प्रोत्साहित कर रही है। कर्नाटक में हमारी सरकार कार्रवाई करेगी और दोषियों को सजा देगी।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -