Monday, July 22, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाबम बनाते उड़ गया हाथ, अब्दुल करीम से बन गया 'टुंडा': कोर्ट ने 1993...

बम बनाते उड़ गया हाथ, अब्दुल करीम से बन गया ‘टुंडा’: कोर्ट ने 1993 के सीरियल ब्लास्ट में किया बरी, इरफान और हमीदुद्दीन दोषी करार

टुंडा पर 5-6 दिसम्बर, 1993 यानी बाबरी मस्जिद विध्वंस के एक वर्ष पूरे होने पर कोटा, लखनऊ, मुंबई, कानपुर, हैदराबाद और सूरत की ट्रेनों में सीरियल धमाके करने का आरोप था। इस मामले में टुंडा पर सारी प्लानिंग करने आरोप था।

आतंकी अब्दुल करीम टुंडा को 6 दिसम्बर, 1993 को हुए धमाकों के मामले में बरी कर दिया गया है। टुंडा को अजमेर की एक TADA कोर्ट ने बरी किया है। कोर्ट ने उसके खिलाफ पर्याप्त सबूत ना होने की बात कही है। वह वर्तमान में अपने खिलाफ चल रहे अन्य मामलों में सजा काट रहा है।

टुंडा पर 5-6 दिसम्बर, 1993 यानी बाबरी मस्जिद विध्वंस के एक वर्ष पूरे होने पर कोटा, लखनऊ, मुंबई, कानपुर, हैदराबाद और सूरत की ट्रेनों में सीरियल धमाके करने का आरोप था। इस मामले में टुंडा पर सारी प्लानिंग करने आरोप था। हालाँकि, उसे आज महावीर प्रसाद गुप्ता की एक अदालत ने बरी कर दिया। यह धमाके राजधानी एक्सप्रेस और अन्य सुपरफास्ट ट्रेनों में हुए थे। इसी मामले में आतंकी इरफ़ान और हमीदुद्दीन को दोषी करार दिया गया है।

सरकारी वकील ने बताया है कि फैसला पढ़ने के बाद यह स्पष्ट रूप से जाना जा सकेगा कि टुंडा को क्यों बरी किया गया है। टुंडा 2013 में नेपाल सीमा से गिरफ्तार किया गया था और वह तब से अलग अलग मामलों में जेल में बंद है। उस पर 40 से अधिक धमाकों में शामिल होने का आरोप है। वह लश्कर ए तैयबा और आतंकी दाऊद इब्राहिम से भी जुड़ा रहा है।

टुंडा की उम्र वर्तमान में 80 साल है। टुंडा गाजियाबाद के पिलखुवा का रहने वाला है। टुंडा इससे पहले कई काम कर चुका है। वह होम्योपैथिक दवाई से लेकर कबाड़ बेचने और कपड़े बेचने तक धंधा कर चुका है। बताया जाता है कि 1980 के बाद वह आतंकी सगठनों के सम्पर्क में आया। टुंडा 1993 में पाकिस्तान में ISI की ट्रेनिंग लेने भी जा चुका है।

टुंडा के हाफिज सईद से भी लिंक बताए जाते हैं। टुंडा कुछ सालों तक पाकिस्तान में भी रहा है। टुंडा को कई मामलों में छोड़ा जा चुका है। हालाँकि, उसे 2017 में सोनीपत की एक अदालत ने एक धमाके के मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। टुंडा कई मामलों में बरी किया जा चुका है।

अब्दुल करीम टुंडा देश के कई इलाकों में धमाकों में आरोपित है। वह वर्तमान में गाजियाबाद जेल में सजा काट रहा है। उसके नाम के पीछे की भी एक कहानी है। उसका असल नाम सैयद अब्दुल करीम टुंडा ही है। बताया जाता है कि एक बार बम बनाते हुए वह उसके हाथ में ही फट गया था। इस धमाके में उसका हाथ उड़ गया था और वह एक हाथ का ही रह गया। इसके बाद उसका नाम टुंडा ही पड़ गया और वह इसी नाम से जाना जाने लगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -