Sunday, July 14, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाअटारी बॉर्डर पर सबसे ऊँचे तिरंगे की जगह खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश रच...

अटारी बॉर्डर पर सबसे ऊँचे तिरंगे की जगह खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश रच रहा एसएफजे? बुर्का वाली महिला का वीडियो वायरल, अलर्ट पर आईबी

"अटारी बॉर्डर पर तिरंगा की जगह खालिस्तान का झंडा वहाँ फहराया जाए। यह निर्णायक समय है। हम कश्मीरी मुजाहिदीन खालिस्तान की लड़ाई में अपने सिख भाइयों और बहनों के साथ हर कदम पर हैं। अल्लाह हू अकबर।"

प्रतिबंधित खालिस्तानी आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस को लेकर इंटेलिजेंस ब्यूरो अलर्ट पर है। दरअसल, हाल ही में कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक संदिग्ध वीडियो सामने आया था जिसमें एक बुर्का पहनी हुई महिला यह कह रही है कि प्रतिबंधित खालिस्तानी संगठन सिख फॉर जस्टिस को कश्मीरी अलगाववादियों का पूरा समर्थन है।

वीडियो में, बुर्का पहने महिला यह घोषणा करती हुई दिखाई दे रही है, “गुरुओं की पवित्र भूमि पर ‘हत्यारे’ तिरंगे को फहराने की अनुमति नहीं दी जा सकती है। वह आगे कहती हैं, “अटारी अमृतसर गुरुओं की भूमि है, लेकिन भारत का हत्यारा तिरंगा झंडा वहाँ फहराता रहता है। सिख भूमि पर भारतीय कब्जे का यह 75वाँ वर्ष है। हमारा उद्देश्य है कि अटारी बॉर्डर पर तिरंगा की जगह खालिस्तान का झंडा वहाँ फहराया जाए। यह निर्णायक समय है। हम कश्मीरी मुजाहिदीन खालिस्तान की लड़ाई में अपने सिख भाइयों और बहनों के साथ हर कदम पर हैं। अल्लाह हू अकबर।”

WhatsApp Video 2022-08-09 at 9.41.35 AM.mp4 from OpIndia Videos on Vimeo.

मात्र 47 सेकंड के इस छोटे से वीडियो में 26 जनवरी, 2021 की हिंसा के दौरान लाल किले पर पीले झंडे को फहराए जाने का फुटेज भी दिखाया गया है। इसमें एक क्लिप ऐसी भी है जिसमें तिरंगे को गोलियों से भून दिया गया है।

वहीं आईबी के सूत्रों ने ऑपइंडिया को बताया कि वे फुटेज का विश्लेषण कर रहे हैं ताकि इसके सोर्स को समझा जा सके और वीडियो में महिला की पहचान का पता लगाया जा सके। आईबी ने कहा कि एसएफजे ने अटारी सीमा पर उड़ने वाले सबसे ऊँचे तिरंगे की जगह खालिस्तान का झंडा फहराने की योजना बना रहा है।

एसएफजे ने कथित तौर पर भारत सरकार को ‘चुनौती’ दी है कि वे अटारी सीमा पर सबसे ऊँचे तिरंगे को हटाकर खालिस्तानी झंडे से बदल देंगे। वहीं सएफजे के गुरपतवंत सिंह पन्नून द्वारा ‘खालिस्तान जनमत संग्रह’ के बारे में एक और घोषणा में, उसने कहा है कि जब पंजाब में खालिस्तान जनमत संग्रह होगा तब वह 15 अगस्त से 26 जनवरी तक ‘घर घर खालिस्तान’ अभियान शुरू करेगा।

बता दें कि सोशल मीडिया पर एसएफजे का एक और वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एसएफजे के पन्नून को भी इसी तरह का दावा करते हुए दिखाया गया है कि तिरंगा जलाया जाएगा और पंजाब का हर घर खालिस्तान का झंडा फहराएगा।

गौरतलब है कि एसएफजे ने पहले भी प्रमुख भारतीय प्रतिष्ठानों पर खालिस्तानी झंडा फहराने वाले को नकद पुरस्कार देने की घोषणा की थी। यहाँ तक कि पिछले साल नवंबर में, उसने शीतकालीन सत्र के पहले दिन भारतीय संसद में खालिस्तानी झंडा फहराने वाले को 125,000 डॉलर देने की घोषणा की थी।

वहीं इस महीने की शुरुआत में खालिस्तान समर्थक दल खालसा ने घर-घर तिरंगा अभियान का विरोध किया था और सिखों से निशान साहब को फहराने को कहा था।

उल्लेखनीय है कि अटारी-वाघा सीमा पर 360 फुट की ऊँचाई पर भारत के सबसे ऊँचे तिरंगे का उद्घाटन 2017 में किया गया था। कहा जाता है कि वहाँ उड़ता हुआ तिरंगा पाकिस्तान से भी देखा जा सकता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

10 साल का इस्कॉन, 30 साल का युवक और न्यूयॉर्क में पहली रथयात्रा… जब महाप्रभु जगन्नाथ का प्रसाद ग्रहण कर डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा...

कंपनी ने तब कहा कि ये जमीन बिकने वाली है और करार के तहत अब इसके नए मालिकों के ऊपर है कि वो ये जमीन देते हैं या नहीं। नए मालिक डोनाल्ड ट्रम्प ही थे।

ट्रेनी IAS पूजा खेडकर की ऑडी सीज, ऊटपटांग माँगों के बचाव में रिटायर्ड IAS बाप: रिवॉल्वर लहराने पर FIR के बाद लाइसेंस रद्द करने...

ट्रेनिंग के दौरान ही VIP सुविधाओं के लिए नखरा करने वाली IAS पूजा खेडकर की करस्तानियों का उनके पिता दिलीप खेडकर ने बचाव किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -