Tuesday, July 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयईरान में 3 और हिजाब विरोधी प्रदर्शकारियों को सज़ा-ए-मौत, 'अल्लाह के खिलाफ जंग'...

ईरान में 3 और हिजाब विरोधी प्रदर्शकारियों को सज़ा-ए-मौत, ‘अल्लाह के खिलाफ जंग’ का मुकदमा: इससे पहले फाँसी पर चढ़ने वाले ने कहा था – मत पढ़ना कुरान

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, ईरानी अदालत ने सुरक्षा बलों की हत्या के आरोप में सालेह मीर-हाशमी, माजिद काज़ेमी और सईद यघौबी को 'मोहरेबेह' यानी "अल्लाह के खिलाफ युद्ध" का दोषी ठहराया है।

ईरान की इस्लामवादी सरकार हिजाब विरोधी प्रदर्शन में शामिल लोगों के साथ बर्बरतापूर्ण व्यवहार कर रही है। सोमवार (9 जनवरी, 2023) को ईरानी सरकार ने कथित तौर पर तीन सुरक्षा बलों की हत्या में शामिल होने के कारण, ‘अल्लाह के विरुद्ध युद्ध’ (War Against God) छेड़ने के आरोप में 3 लोगों को मौत की सजा सुनाई है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, ईरानी अदालत ने सुरक्षा बलों की हत्या के आरोप में सालेह मीर-हाशमी, माजिद काज़ेमी और सईद यघौबी को ‘मोहरेबेह’ यानी “अल्लाह के खिलाफ युद्ध” का दोषी ठहराया है।

बताया जा रहा है कि दोषी ठहराए गए तीनों लोगों को अपनी सजा के खिलाफ सुनवाई का मौका दिया जाएगा। ईरान की इस्लामवादी सरकार अब तक हिजाब विरोधी प्रदर्शन में शामिल 17 लोगों को फाँसी की सज़ा सुना चुकी है। इसमें, 6 लोगों की दोबारा सुनवाई का मौका दिया गया है।

बता दें कि इससे पहले शनिवार (7 जनवरी, 2023) को भी ईरान में 2 लोगों को फाँसी पर लटका दिया था। इन दोनों युवकों पर आरोप था कि ये महसा अमिनी के साथ हुए अत्याचार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान इनके कारण एक सुरक्षाकर्मी की जान चली गई। ऐसे मामलों में 3 अन्य लोगों को सजा-ए-मौत दी गई है जबकि 11 को जेल की सजा सुनाई गई है।

बता दें कि इससे पहले 12 दिसंबर 2022 को हिजाब विरोधी प्रदर्शन के दौरान 23 साल के एक युवक को फाँसी पर लटकाया गया था। युवक का नाम माजीदरेगा रेहनवर्द था। उसे शहर में सरेआम फाँसी दी गई थी। अंतिम वीडियो में रेहन ने कहा था कि उसकी मौत का मातम नहीं मनाया जाना चाहिए। उसकी मौत के बाद कोई कुरान न पढ़े। वीडियो को ईरानी ह्यूमन राइट एनजीओ के डायरेक्टर महमूद अमीरी ने अपने ट्विटर हैंडल से शेयर किया था। वीडियो में रेहनवर्द की आँखों पर पट्टी बँधी थी। दो नकाबपोश गार्डों ने उसे घेर रखा था।

उल्लेखनीय है कि ईरान में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन 16 सितंबर को 22 साल की एक लड़की महसा अमिनी की मौत के बाद शुरू हुए थे। पुलिस ने महसा को हिजाब नहीं पहनने के लिए गिरफ्तार किया था। कस्टडी में उसकी जान चली गई थी। जब ईरान में इस घटना का विरोध शुरू हुआ तो लोगों में डर पैदा करने के लिए नौजवानों को सरेआम फाँसी दी जाने लगी। सबसे पहले मोहसिन शेखरी नाम के प्रदर्शनकारी को सूली पर चढ़ाया गया था। उन्हें रेहनवर्द से भी पहले 8 दिसंबर 2022 को फाँसी दी गई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अजमेर दरगाह के बाहर ‘सर तन से जुदा’ की गूँज के 11 दिन बाद उदयपुर में काट दिया गया था कन्हैयालाल का गला, 2...

राजस्थान के अजमेर दरगाह के सामने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाने वाले खादिम मौलवी गौहर चिश्ती सहित छह आरोपितों को कोर्ट ने बरी कर दिया है।

जिस किले में प्रवेश करने से शिवाजी को रोक नहीं पाई मसूद की फौज, उस विशालगढ़ में बढ़ रहा दरगाह: काटे जा रहे जानवर-156...

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में स्थित विशालगढ़ किला में लगातार अतिक्रमण बढ़ रहा है। यहाँ स्थित एक दरगाह के पास कई अवैध दुकानें बन गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -