Saturday, July 24, 2021
Homeसोशल ट्रेंडPM मोदी के विरोध में ई-स्कूटर पर निकली ममता बनर्जी हुईं सोशल मीडिया पर...

PM मोदी के विरोध में ई-स्कूटर पर निकली ममता बनर्जी हुईं सोशल मीडिया पर ट्रोल, लोगों ने जमकर उड़ाया मजाक

एक तरफ जहाँ ममता बनर्जी के इस प्रदर्शन को देखते हुए लोगों ने उनका मजाक बनाया तो वहीं कुछ ने यह भी सुझाव दिया कि ईंधन की बढ़ती कीमतों के खिलाफ विरोध करने का इससे सटीक तरीका क्या होगा।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पेट्रील-डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में गुरुवार (25 फरवरी, 2021) को कोलकाता में एक ई-स्कूटर रैली निकाली।

हालाँकि, यह रैली थी तो मोदी सरकार के विरोध में लेकिन सोशल मीडिया पर यह उन्हीं पर भारी होती हुई नजर आई। पेट्रोल डीजल से प्रकृति को हो रहे नुकसान के मद्देनजर यूँ तो इलेक्ट्रिक स्कूटर पर्यावरण के अनुकूल एक बेहतर विकल्प है। इसलिए कई सोशल मीडिया यूज़र्स इस अजीबोगरीब प्रदर्शन को देख कर आश्चर्यचकित रह गए।

बता दें, प्रधानमंत्री मोदी और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी इलेक्ट्रॉनिक वाहन बाजार को लगातार बढ़ावा दे रहे है। हाल ही में, इलेक्ट्रिक कार दिग्गज टेस्ला ने भी इस साल की शुरुआत में बेंगलुरु में अपना एक ऑफिस खोला है।

एक तरफ जहाँ ममता बनर्जी के इस प्रदर्शन को देखते हुए लोगों ने उनका मजाक बनाया तो वहीं कुछ ने यह भी सुझाव दिया कि ईंधन की बढ़ती कीमतों के खिलाफ विरोध करने का इससे सटीक तरीका क्या होगा।

कुछ लोगों ने उम्मीद जताई कि लोग सीएम बनर्जी के नक्शेकदम पर चलते हुए ईंधन के साथ-साथ पैसे बचाने के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों की ओर भी अपना रुख कर सकते हैं।

तो वहीं एक यूज़र ने मीम्म के साथ बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के लिए न्याय की उम्मीद की भी आस लगाई। बता दें, राजपूत की 2020 में रहस्यमय परिस्थितियों में मृत्यु हो गई थी।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर तृणमूल कॉन्ग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के बीच जुबानी जंग लगातार जारी है। जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहे है दोनों पार्टियाँ एक दूसरे पर हमलावर होते हुए नजर आ रही हैं। आज सुबह पश्चिम बंगाल पुलिस ने AIMIM के असदुद्दीन ओवैसी को रैली आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया। ऐसा माना जाता है कि ममता बनर्जी को डर है कि बंगाल की राजनीति में एआईएमआईएम एंट्री होते ही वह टीएमसी के मुस्लिम वोट बैंक को निगल जाएगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,018FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe