Saturday, September 25, 2021

विषय

Hindu temple

‘…तब पैगंबर मोहम्मद ने 300 मूर्तियों को नष्ट कर दिया था’ – इस्लामाबाद में पहले मंदिर के निर्माण पर उग्र कट्टरपंथी

"उनके धार्मिक स्थलों की मरम्मत के लिए सरकारी कोष से रुपए खर्च किया जा सकता है लेकिन दूसरे धर्मों के नए धार्मिक स्थलों के निर्माण कतई नहीं।"

‘मंदिर बनाने का फैसला… हम इस फैसले को जूती के ऊपर रखते हैं’ – इस्लामाबाद में कट्टरपंथियों ने उगला जहर

इस्लामी रियासत में काफिरों के लिए उनका इबादतखाना नहीं बनाया जा सकता। आखिर कैसे इस्लामाबाद में मंदिर बनाने का ऐलान किया गया?

आजादी के बाद PAK की राजधानी इस्लामाबाद में 20,000 वर्गफुट में बनेगा पहला कृष्ण मंदिर, सरकार देगी ₹10 करोड़

"1947 से पहले इस्‍लामाबाद और उससे सटे हुए इलाकों में कई हिंदू मंदिर थे। इसमें सैदपुर गाँव और रावल झील के पास स्थित मंदिर शामिल है।"

एकंबरेश्वर मंदिर: जहाँ माता पार्वती की परीक्षा लेने पहुँचे थे स्वयं भगवान शिव

एकंबरेश्वर मंदिर, तमिलनाडु के मंदिरों के नगर कांचीपुरम का सबसे विशाल एवं भव्य शिव मंदिर है। भगवान शिव को यहाँ पृथ्वी के रूप में पूजा जाता है।

तब्लीगियों को तो गाली दे रहे थे, खुद रथ यात्रा? वो इसलिए कि थूकने वालों और पूजने वालों में अंतर है, और रहेगा

कोरोना को हल्के में लेने वाले, डॉक्टरों पर हमला करने वालों, थूकने, मल-मूत्र त्यागने वाले अधम श्रेणी के मनुष्यों की तुलना स्वामी जगन्नाथ के सेवायतों से करना धूर्तता है।

महाप्रभु जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा चल पड़े: देखें रथयात्रा की मनमोहक तस्वीरें

यहाँ हम आपको आज मंगलवार (जून 23, 2020) को आयोजित हो रही ओडिशा की जगन्नाथ पुरी रथयात्रा की भव्य तस्वीरें दिखा रहे हैं।

‘नहीं हुई रथयात्रा तो 1 साल तक क्वारंटाइन रह सकते हैं भगवान जगन्नाथ, ओडिशा सरकार ने SC में बोला झूठ’

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने जगन्नाथपुरी में होने वाली वार्षिक रथयात्रा पर इस साल कोरोना वायरस संक्रमण के कारण रोक लगा दी है। इसके बाद से ही हिन्दुओं में आक्रोश का माहौल है। लोगों का कहना है कि जब अनलॉक के तहत सारी चीजें खुल ही रही हैं तो फिर रथयात्रा पर रोक क्यों?

‘ईद, रमजान पर कुछ नहीं कहा’: सुप्रीम कोर्ट द्वारा रथयात्रा रोकने पर सोशल मीडिया में बवाल

सुप्रीम कोर्ट ने एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए फैसला दिया है कि कोरोना महामारी के फैलने के डर और लोगों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए जगन्नाथ मंदिर में होने वाली वार्षिक रथयात्रा ना निकाली जाए।

काशी-मथुरा पर हिंदुओं की याचिका न करें कबूल, इससे मुस्लिमों के मन में भय पैदा होगा: SC से जमीयत-उलेमा-ए-हिंद

काशी-मथुरा पर हिंदू पक्ष की याचिका का विरोध करते हुए जमीयत-उलेमा-ए-हिंद सुप्रीम कोर्ट पहुँचा है। उसने खुद को पक्षकार बनाने की मॉंग की है।

‘मथुरा और काशी को पुनः प्राप्त करने में बाधा बन रहा है धार्मिक स्थल एक्ट 1991’: सुप्रीम कोर्ट पहुँचा पुरोहित महासंघ

इस क़ानून के तहत, जो धार्मिक स्थल आज़ादी के समय जिस संप्रदाय का था वो आज और भविष्य में, भी उसी का रहेगा। जैसे किसी भी मस्जिद को मंदिर में नहीं बदला जा सकता है।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,228FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe