Wednesday, July 17, 2024
Homeव्हाट दी फ*मायके से नहीं लौट रही थी पत्नी तो पति ने काट डाला अपना प्राइवेट...

मायके से नहीं लौट रही थी पत्नी तो पति ने काट डाला अपना प्राइवेट पार्ट: बिहार के मधेपुरा की घटना, अस्पताल में चल रहा इलाज

मकर संक्रांति के अवसर पर कृष्णा बासुकी नाम के शख्स की पत्नी अपने मायके चली गई थी। पति चाहता था कि वह मायके से लौट आए, लेकिन पत्नी नहीं मानी और वापस नहीं आ रही थी।

बिहार के मधेपुरा से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। पत्नी के मायके जाने से नाराज पति ने अपना प्राइवेट पार्ट काट लिया। जिसके बाद उसकी हालत खराब हो गई। शख्स फिलहाल अस्पताल में भर्ती है और अब खतरे से बाहर है।

खबरों के मुताबिक, मकर संक्रांति के अवसर पर कृष्णा बासुकी नाम के शख्स की पत्नी अपने मायके चली गई थी। पति चाहता था कि वह मायके से लौट आए, लेकिन पत्नी नहीं मानी और मायके से वापस नहीं आ रही थी। इस बात से नाराज हो कर शख्स ने धारदार हथियार से अपना प्राइवेट पार्ट काट डाला। परिजनों ने खून से लथपथ शख्स को अस्पताल पहुँचाया। जहाँ उसका इलाज किया जा रहा है। डॉक्टरों का कहना है कि मरीज का इलाज जारी है और अब वह खतरे से बाहर है।

इलाके में जनजातीय समुदाय के लोग मकर संक्रांति से अगले एक महीने तक उत्सव मनाते हैं। कृष्णा बासुकी के पिता गाँव के जनजातीय समुदाय के मुखिया हैं। समुदाय के कुल देवता भी उनके घर पर ही स्थापित हैं। उत्सव को लेकर लोग उनके घर पहुँच रहे थे। लोगों को कुलदेवता के पास खून नजर आया। जब लोग घर के अंदर पहुँचे तो वहाँ लहुलुहान कृष्णा कराह रहा था। जिसके बाद आनन-फानन में उसे अस्पताल ले जाया गया।

रिपोर्टों के मुताबिक मधेपुरा के रजनी नयानगर के निवासी कृष्णा की शादी ग्वालपाड़ा थाना इलाके के मलोध वार्ड की लड़की से हुई थी। उसकी तीन बेटियाँ और 1 बेटा है। बताया जा रहा है कि उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। 2 महीने पहले तक वह पंजाब की एक मंडी में काम करता था। बेटे के जन्म के बाद वह गाँव लौटा था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -