Thursday, July 18, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकराजनीति फ़ैक्ट चेक'लता मंगेशकर ने 1947 में नेहरू के लिए गाया था ऐ मेरे वतन के...

‘लता मंगेशकर ने 1947 में नेहरू के लिए गाया था ऐ मेरे वतन के लोगों’: विशाल डडलानी ने बताया इतिहास – Fact Check

आम आदमी पार्टी के प्रचारक विशाल डडलानी ने कहा, "ये गाना खुद लता जी ने 73-74 वर्ष पहले 1947 में पंडित नेहरू के लिए गाया था, जब देश आज़ाद हुआ था।" जबकि सच्चाई यह है कि...

संगीतकार और गायक विशाल डडलानी ने दावा किया है कि देश की महान गायिका लता मंगेशकर ने भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के लिए ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ गाना गाया था। उन्होंने ऐसा कह के अपने इतिहास और सामान्य ज्ञान, दोनों की समझ प्रदर्शित कर दी है। जबकि विशाल डडलानी अपने जोड़ीदार शेखर रवजियानी के साथ मिल कर 5 दर्जन से भी अधिक फिल्मों में संगीत तैयार कर चुके हैं।

दरअसल, ये मामला सोनी टीवी पर आ रहे गायिकी के रियलिटी शो ‘इंडियन आइडल’ के 12वें सीजन का है। शो में एक प्रतिभागी ने ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ गाना गाया था। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए विशाल डडलानी ने कहा, “ये गाना खुद लता जी ने 73-74 वर्ष पहले 1947 में पंडित नेहरू के लिए गाया था, जब देश आज़ाद हुआ था। अगर दुनिया में कोई सर्वकालीन सर्वश्रेष्ठ गाना है तो ये है। लता जी की तरह तो ये गाना कोई नहीं गा सकता, लेकिन आपको इस कोशिश के लिए बधाई।”

इसके बाद सोशल मीडिया पर उनकी जम कर किरकिरी हुई। आम आदमी पार्टी (AAP) के लिए कई चुनावों में प्रचार कर चुके विशाल डडलानी इससे पहले भी कई बार विवादों में रह चुके हैं। ‘इंडियन आइडल’ के मौजूदा सेशन में जहाँ आदित्य नारायण होस्ट की भूमिका निभा रहे हैं, वहीं विशाल डडलानी के अलावा संगीतकार हिमेश रेशमिया और गायिका नेहा कक्कर भी बतौर जज इसमें हिस्सा ले रही हैं।

अब आपको बताते हैं कि विशाल डडलानी के दावों में कितना दम है। दरअसल, ये गाना न तो 1947 में गाया गया था और न ही पंडित नेहरू के लिए। दरअसल, कवि प्रदीप ने ये गाना उन बलिदानी सैनिकों की याद में लिखा था, जिन्होंने 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान सीमा पर अपनी जान न्यौछावर कर दी थी। इस गाने को 1963 में लिखा गया था और युद्ध के मात्र 2 महीनों बाद गणतंत्र दिवस के दौरान इसे गाया गया था।

इस तरह से लता मंगेशकर ने ये गाना जनवरी 26, 1963 को पहली बार तत्कालीन राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन और पीएम नेहरू की मौजूदगी में एक बड़े जनसमूह के सामने गाया था। उनके इस लाइव परफॉरमेंस को इतना उम्दा माना जाता है कि कोई रिकॉर्डिंग भी इसकी शायद ही बराबरी कर पाए। इस तरह ये गाना किसी खास राजनेता के लिए नहीं, बल्कि देश की सेना के लिए था। इस गाने से जो भी रुपए मिले, उसे पूरी टीम ने बलिदानी सैनिकों के परिवारों को समर्पित कर दिया था।

विशाल डडलानी सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई पर भी आपत्तिजनक टिप्पणी कर चुके हैं। जब CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चल रहा था, तब विशाल डडलानी ने प्याज के बढ़ते दाम और हैदराबाद में प्रीति रेड्डी के गैंगरेप व हत्या के आरोपितों के एनकाउंटर को एक ही चश्मे से देखते हुए कहा था कि यह सब ध्यान भटकाने के लिए किया जा रहा है। इसके कुछ ही दिनों पहले तक डडलानी बलात्कारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई न करने का आरोप लगा कर मोदी सरकार पर निशाना साध रहे थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -