Sunday, July 21, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकलखनऊ स्टेशन पर प्लेटफॉर्म की टिकट अब 50 रुपए? : मोहम्मद जुबैर का झूठ...

लखनऊ स्टेशन पर प्लेटफॉर्म की टिकट अब 50 रुपए? : मोहम्मद जुबैर का झूठ फिर आया सामने, सिर्फ त्योहारों पर भीड़ रोकने के लिए बढ़े हैं दाम

26 अक्टूबर को मीडिया में खबरें भी प्रकाशित हुई थीं। इसमें बताया गया था कि लखनऊ डिविजन में आने वाले 14 स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट 30 से 50 रुपए कर दी गई है। ऐसा 6 नवंबर तक रहेगा ताकि यात्री बिन भीड़-भाड़ के स्टेशन पर पहुँच सकें।

केंद्र की मोदी सरकार और यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार को बदनाम करने में प्रोपेगेंडा वेबसाइट ऑल्टन्यूज का फैक्टचेकर मोहम्मद जुबैर कभी पीछे नहीं रहता। हाल में उसने अपने ट्विटर पर एक लखनऊ प्लेटफॉर्म टिकट की फोटो शेयर की है और दिखाया है कि लखनऊ जंक्शन पर प्लेटफॉर्म टिकट के नाम पर आपसे 100-100 रुपए वसूला जा रहा है।

वैसे इस फोटो को गौतम त्रिवेदी नाम के व्यक्ति द्वारा साझा किया गया था। उनके ट्वीट में लिखा था- लखनऊ जंक्शन की प्लेटफॉर्म टिकट। इसी ट्वीट को रीट्वीट करते हुए जुबैर ने लिखा- मुस्कुराइए आप लखनऊ में है।

जाहिर है जुबैर का ये तंज केवल प्लेटफॉर्म टिकट को लेकर नहीं था। वह टिकट पर छपा प्राइज दिखाना चाह रहा था। जिसमें 26 अक्टूबर 2022 को 2 लोगों के लिए खरीदी गई प्लेटफॉर्म टिकट 100 रुपए ली गई थी।

मोहम्मद जुबैर के झूठ का असर

इस ट्वीट के बाद कुछ लोग जुबैर की बात को ये कहकर योगी समर्थकों पर निशाना साधने लगे। शादाब ने लिखा, “क्यों मुस्कुराएँगे, देशहित में दाम बढ़े हैं, युवाओं में तो खुशियों की लहर होनी चाहिए, क्योंकि अभी हाल के दिनों में उन्होंने एग्जाम देने के लिए रेल का बहुत आनंद लिया है।”

मोहम्मद शफीक ने लिखा, “मुस्कुराइए आप नए भारत में जी रहे हैं। जहाँ प्लेटफॉर्म टिकट 10 रुपए से तरक्की करके 50 रुपए मिलने लगा है। मोदी जी की अगुवाई में देश में विकास की नहरें बह रही हैं।”

जुबैर का झूठ आया सामने

दिलचस्प बात ये है कि जुबैर के हर ट्वीट पर जहाँ मोदी विरोधी उसे फैक्ट देखे बिना समर्थन देने लग जाते हैं, वहीं सामान्य जन अब ये बात जान चुका है कि जुबैर की बातों पर बिना तथ्य देखे भरोसा नहीं करना। यही वजह है कि लोग फौरन उसका झूठ पकड़ लेते हैं।

इस बार भी ऐसा ही हुआ। जुबैर कुछ लोगों को बरगलाने में सफल रहा। लेकिन कुछ लोग उन्हें तुरंत बताने लगे कि ये 50 रुपए टिकट कोई हमेशा के लिए नहीं की गई। ये अस्थाई है। द हॉक आई ने लिखा प्लेटफॉर्म टिकट के दाम 30 से 50 रुपए  सिर्फ 26 अक्टूबर से 6 नवंबर के बीच बढ़े हैं ताकि दीवाली और छठ पूजा के मौके पर भीड़-भाड़ को रोका जा सके।

इसी तरह एक यूजर ने जुबैर से पूछा- हमेशा प्लेटफॉर्म पर ही रहते हो क्या मियाँ? एक ने कहा, “अगर योगी आदित्यनाथ ने ये ट्वीट देखा तो तुम जिंदगी भर दूसरों से पूछोगे कि मुस्कुराहट क्या होती है।”

26 अक्टूबर से 6 नवंबर तक बढ़ाए गए प्राइज

उल्लेखनीय है कि इस संबंध में 26 अक्टूबर को मीडिया में खबरें भी प्रकाशित हुई थीं। इसमें बताया गया था कि लखनऊ डिविजन में आने वाले 14 स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट 30 से 50 रुपए कर दी गई है। ऐसा 6 नवंबर तक रहेगा ताकि यात्री बिन भीड़ भाड़ के स्टेशन पर पहुँच सकें। इससे पहले 2 अक्टूबर को प्लेटफॉर्म टिकट का प्राइज 20 से 30 रुपए किया गया था।

जेल पर बाहर है मोहम्मद जुबैर

बता दें कि मोहम्मद जुबैर इस वक्त बेल पर जेल से निकला हुआ है। इसी वर्ष जून में उसे उसके पुराने ट्वीट के कारण गिरफ्तार किया गया था। उसके ऊपर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप थ। इसके बाद जुलाई में उसकी बेल हुई। 20 जुलाई को 20 हजार रुपए के बेल बॉन्ड पर रिहा किया था। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच ने उसे जमानत देने का अपना फैसला सुनाया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

काशी विश्वनाथ मंदिर और महाकालेश्वर मंदिर परिसर के दुकानदारों को लगाना होगा नेम प्लेट: बिहार के बोधगया की दुकानों में खुद ही लगाया बोर्ड,...

उत्तर प्रदेश के बाद मध्य प्रदेश के महाकालेश्वर मंदिर परिसर में स्थित दुकानदारों को अपना नेम प्लेट लगाने का आदेश दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -