Sunday, October 17, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनकंगना रनौत की टीम ने किया पूजा भट्ट पर पलटवार, पूछा- आपके पिता सुशांत-रिया...

कंगना रनौत की टीम ने किया पूजा भट्ट पर पलटवार, पूछा- आपके पिता सुशांत-रिया के रिश्ते में इतनी रुचि क्यों ले रहे थे?

"प्रिय पूजा भट्ट, अनुराग बासु के पास वो पैनी निगाहें थीं, जिन्होंने कंगना की प्रतिभा को खोजा था। हर कोई जानता है कि मुकेश भट्ट कलाकारों को पैसे देना पसंद नहीं करते। प्रतिभाशाली लोगों को मुफ्त में पाना उनके लिए फेवर की तरह है। कई स्टूडियो ये काम अपने दम पर करते हैं लेकिन इस बात से आपके पिता को उन पर चप्पल फेंकने का, उन्हें पागल कहने का और उन्हें अपमानित करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता।"

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद के बारे में बहस तेज हो गई है और बॉलीवुड के दिग्गजों के साथ-साथ स्टार किड्स भी नेटिजन्स के प्रकोप का सामना कर रहे हैं।

इन सभी के बीच महेश भट्ट की बेटी पूजा भट्ट ने अपने ट्विटर पर भाई-भतीजावाद का बचाव किया और दावा किया कि फैक्ट को कोई नहीं जानना चाहता, फिक्शन में सबकी रूचि है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी दावा किया कि कंगना रनौत को उनके कैंप ने ही लॉन्च किया था।

इसके बाद कंगना की टीम ने उन पर पलटवार करते हुए कई ट्वीट किए और पूछा कि आपके पिता सुशांत और रिया के रिश्ते में इतने इंट्रेस्टेड क्यों थे। 

टीम कंगना रनोट ने बुधवार (जुलाई 8, 2020) को किए अपने ट्वीट में लिखा, “प्रिय पूजा भट्ट, अनुराग बासु के पास वो पैनी निगाहें थीं, जिन्होंने कंगना की प्रतिभा को खोजा था। हर कोई जानता है कि मुकेश भट्ट कलाकारों को पैसे देना पसंद नहीं करते। प्रतिभाशाली लोगों को मुफ्त में पाना उनके लिए फेवर की तरह है। कई स्टूडियो ये काम अपने दम पर करते हैं लेकिन इस बात से आपके पिता को उन पर चप्पल फेंकने का, उन्हें पागल कहने का और उन्हें अपमानित करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता।”

आगे टीम कंगना ने लिखा, “साथ ही उन्होंने कंगना के दुखद अंत की घोषणा भी की थी। इसके अलावा वे सुशांत सिंह राजपूत और रिया की रिलेशनशिप में इतनी ज्यादा रुचि क्यों ले रहे थे? क्यों उन्होंने सुशांत के अंत की घोषणा भी की थी, कुछ सवाल हैं जो आपको उनसे जरूर पूछना चाहिए।”

इसके बाद किए अपने ट्वीट में टीम कंगना ने लिखा, “पूजा भट्ट आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कंगना ने गैंगस्टर के साथ ही पोकिरी के लिए भी ऑडिशन दिया था और इसके लिए भी उनका चयन हो गया था। पोकिरी ऑलटाइम ब्लॉकबस्टर बन गई थी। इसलिए अगर आपकी सोच ये है कि वो जो कुछ भी हैं गैंगस्टर की वजह से हैं, तो ये पूरी तरह गलत है। पानी अपना रास्ता खुद ब खुद बना लेता है।”

गौरतलब है कि इससे पहले बुधवार सुबह पूजा ने कई ट्वीट करते हुए नेपोटिज्म को लेकर चल रही बहस पर अपना पक्ष रखा था। इसी दौरान उन्होंने कंगना का नाम लिया था।

पूजा भट्ट ने कहा था कि उनके ‘परिवार’ पर आरोप लगने की बात सुनकर उन्हें हँसी आती हैl जिसने पूरी फिल्म इंडस्ट्री की तुलना में अधिक नए प्रतिभावान-अभिनेताओं, संगीतकारों और तकनीशियनों को लॉन्च किया है। उन्होंने यह भी याद दिलाया कि बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत को विशेष फिल्म्स द्वारा लॉन्च किया गया था, जो मुकेश भट्ट और महेश भट्ट के स्वामित्व वाली एक फिल्म निर्माण कंपनी है।

इस पोस्ट को पढ़ने के बाद कंगना की टीम ने पूजा भट्ट पर पलटवार किया है। पूजा भट्ट ने ट्वीट किया था, “कंगना रनौत एक प्रतिभाशाली अभिनेत्री हैं, मगर अगर उन्हें ‘गैंगस्टर’ में विशेष फिल्म्स द्वारा लॉन्च नहीं किया जाता तो? भले ही अनुराग बसु ने उन्हें ढूँढा था, लेकिन विशेष फिल्म्स ने उनकी सोच का समर्थन किया और इसमें निवेश किया। फिल्म कोई छोटा खेल नहीं है। हम उनके सभी प्रयासों के लिए बहुत शुभकामनाएँ देते हैं।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe