Tuesday, July 23, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनRSS के शताब्दी वर्ष में 6 निर्देशक मिल कर बनाएँगे सीरीज, सब के सब...

RSS के शताब्दी वर्ष में 6 निर्देशक मिल कर बनाएँगे सीरीज, सब के सब नेशनल अवॉर्ड विनर: प्रियदर्शन से लेकर विवेक अग्निहोत्री तक के नाम, पोस्टर हुआ रिलीज

इस शो को बनाने वाले डायरेक्टरों में प्रियदर्शन, विवेक रंजन अग्निहोत्री, डॉ चन्द्र प्रकाश द्विवेदी, मंजू बोरा, संजय पूरन सिंह चौहान और जॉन मैथ्यू मथान हैं। यह सभी मिल कर इस शो का निर्देशन करेंगे।

देश के जाने-माने 6 राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता डायरेक्टर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) पर एक सीरीज बनाएँगे। इसका निर्माण वर्ष 2025 में RSS के 100 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में किया जा रहा है। सीरीज का नाम ‘एक राष्ट्र’ रखा गया है।

इसका पहला पोस्टर भी जारी कर दिया गया है, जिसे फिल्म समीक्षक तरन आदर्श ने साझा किया है। शो को जनता के बीच 2025 या उससे पहले ही लाया जा सकता है। संघ को लेकर यह पहला ऐसी तरह का शो होगा।

इस सीरीज को बनाने वाले डायरेक्टरों में प्रियदर्शन, विवेक रंजन अग्निहोत्री, डॉ चन्द्र प्रकाश द्विवेदी, मंजू बोरा, संजय पूरन सिंह चौहान और जॉन मैथ्यू मथान हैं। यह सभी मिल कर इस शो का निर्देशन करेंगे। यह सभी डायरेक्टर बॉलीवुड के सर्वश्रेष्ठ में से एक हैं।

इस शो के लिए जारी किए गए पोस्टर में एक व्यक्ति राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के गणवेश (खाकी हाफ पैंट और सफ़ेद शर्ट) पहने हुए दिख रहा है। हालाँकि, अब आरएसएस का गणवेश फुल पैंट भी हो चुका है। इस शो में 100 वर्षों में देश को एक रखने के लिए संघर्ष करने वालों की कहानियाँ दिखाई जाएँगी।

इस शो का पहला पोस्टर 24 अक्टूबर, 2023 यानी विजयादशमी वाले दिन जारी किया गया है। विजयादशमी के दिन ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का स्थापना दिवस होता है। इस दिन संघ मुख्यालय नागपुर में बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। इस बार के कार्यक्रम में गायक शंकर महादेवन नागपुर पहुँचे थे।

शंकर महादेवन के अतिरिक्त, महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस और केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत के साथ कार्यक्रम में शामिल हुए। मोहन भागवत ने इस दौरान सांस्कृतिक मार्क्सवादियों (वोक) पर निशाना साधा, उन्होंने कहा कि ये लोग सुव्यवस्था, मांगल्य और संस्कार के विरोधी हैं। उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन के दौरान पूरे देश में उत्सव मनाए जाने की अपील भी की।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -