POK में 11 छात्र गिरफ़्तार, कइयों के घर पर रेड: इमरान खान की रैली में किया था विरोध प्रदर्शन

रैली के दौरान पीओके के युवाओं व छात्रों ने इमरान ख़ान के ख़िलाफ़ नारे लगाए और विरोध प्रदर्शन किया था। अब पाकिस्तानी पुलिस ने इन छात्रों के ख़िलाफ़ कार्रवाई शुरू कर दी है। अभी तक कुल 11 लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है और कइयों के घर पर पुलिस ने छापेमारी की है।

पाक अधिकृत कश्मीर में छात्रों के ख़िलाफ़ मामले दर्ज किए जा रहे हैं और उन्हें गिरफ़्तार किया जा रहा है। उनका गुनाह बस इतना है कि उन्होंने पाक पीएम इमरान ख़ान की रैली में विरोध प्रदर्शन किया था। शुक्रवार (सितम्बर 13, 2019) को इमरान ख़ान ने मुजफ्फराबाद में रैली की, जो फ्लॉप रही। उन्होंने कश्मीरियों के लिए घड़ियाली आँसू बहाते हुए इस रैली में ख़ुद को उनका प्रतिनिधि बताया। रैली के दौरान पीओके के युवाओं व छात्रों ने इमरान ख़ान के ख़िलाफ़ नारे लगाए और विरोध प्रदर्शन किया।

अब पाकिस्तानी पुलिस ने इन छात्रों के ख़िलाफ़ कार्रवाई शुरू कर दी है। अभी तक कुल 11 लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है और कइयों के घर पर पुलिस ने छापेमारी की है। पीओके में पाकिस्तान के अवैध कब्जे के ख़िलाफ़ लोग आवाज़ उठा रहे हैं, जिसे मीडिया से दूर रखने और दबाने के लिए पाकिस्तान सरकार क्रूरतापूर्वक दमनकारी अभियान चला रही है।

विडम्बना तो यह है कि इमरान ख़ान अपनी हर रैली में मानवाधिकार की बात करते हैं और न सिर्फ़ जम्मू-कश्मीर बल्कि पूरे भारत में ‘अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार’ की बात करते हैं। झूठे आरोपों के मसीहा बन चुके इमरान ख़ान को लताड़ते हुए पीओके के समाजसेवी आरिफ आजाकिया ने भी कहा था कि पाकिस्तान को दुनिया के किसी भी क्षेत्र में मानवाधिकार के बारे में बात करने का हक़ नहीं है क्योंकि बलूचिस्तान में पाक फ़ौज नरसंहार कर रही है। पीओके में पाक सरकार के इशारों पर मानवाधिकार का हनन हो रहा है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इससे पहले इसी महीने पीओके में 22 लोगों को इसीलिए गिरफ़्तार कर जेल में डाल दिया गया था क्योंकि उन्होंने पाकिस्तान से आज़ादी की माँग की थी। लोगों ने रैली निकाल कर पाकिस्तान के ख़िलाफ़ नारे लगाए थे, जिसके बाद पाकिस्तान ने उनकी आवाज़ दबाने के लिए बड़े स्तर पर गिरफ्तारियाँ की। यहाँ तक कि इमरान ख़ान के ख़िलाफ़ नारेबाजी करने के आरोप में एक बच्चे को भी गिरफ़्तार कर लिया गया। मुजफ्फराबाद की रैली में इमरान ने इस बात पर ख़ुशी जताई थी कि पाकिस्तान ने ‘कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण’ में सफलता पाई है।

पाक फ़ौज की एक और घिनौनी हरकत सामने आई थी। पाकिस्तानी फ़ौज ने फायरिंग के दौरान पीओके के ग्रामीणों को ही ढाल बना लिया। पाकिस्तानी फ़ौज ने ग्रामीणों का समूह बना कर उन्हें सीमा की तरफ़ भेजा और इसके बाद सीजफायर का उल्लंघन किया। भारत की तरफ़ से जवाबी फायरिंग से बचने के लिए पाक फ़ौज ने पीओके के ग्रामीणों को आगे कर दिया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी
कमलेश तिवारी की हत्या के बाद एक आम हिन्दू की तरह, आपकी तरह- मैं भी गुस्से में हूँ और व्यथित हूँ। समाधान तलाश रहा हूँ। मेरे 2 सुझाव हैं। अगर आप चाहते हैं कि इस गुस्से का हिन्दुओं के लिए कोई सकारात्मक नतीजा निकले, मेरे इन सुझावों को समझें।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

105,514फैंसलाइक करें
19,261फॉलोवर्सफॉलो करें
109,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: