Howdy Modi इवेंट में PM मोदी संग होंगे ट्रंप, 50 हजार से अधिक इंडो-अमेरिकन लोगों के आने की संभावना

यूएस में भारतीय राजदूत हर्ष वर्धन ने इस इवेंट को ऐतिहासिक और अभूतपूर्व बताया है। वहीं, मोदी और ट्रंप की यह जुगलबंदी पड़ोसी देश पाकिस्तान के लिए किसी झटके से कम नहीं है, जो कश्मीर को लेकर......

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में 22 सितंबर को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘हाउडी मोदी’ रैली को संबोधित कर रहे होंगे, तो अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप भी उनके साथ होंगे। ह्यूस्टन के एनआरजी स्टेडियम में होनेवाले इस मेगा इवेंट में 50 हजार से ज्यादा इंडो-अमेरिकन लोगों के आने की संभावना है। यह कार्यक्रम ऐतिहासिक होगा, क्योंकि इतिहास में यह पहली बार होगा, जब 50 हजार से ज्यादा इंडो अमेरिकी नागरिकों को संबोधित करने के लिए भारत के प्रधानमंत्री के साथ अमेरिका का कोई राष्‍ट्रपति मंच साझा करेगा।

इसके संबंध में व्हाइट हाउस की मीडिया सचिव स्टेफिनी ने रविवार (सितंबर 15, 2019) को इसकी आधिकारिक पुष्टि करते हुए बयान जारी किया है। उन्होंने कहा कि मोदी और ट्रंप की यह जॉइंट रैली भारत और अमेरिका के रिश्तों को मजबूत करने का अहम मौका होगी।

यूएस में भारतीय राजदूत हर्ष वर्धन ने इस इवेंट को ऐतिहासिक और अभूतपूर्व बताया है। वहीं, मोदी और ट्रंप की यह जुगलबंदी पड़ोसी देश पाकिस्तान के लिए किसी झटके से कम नहीं है, जो कश्मीर को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति से मध्यस्थता की रट लगा रहा है। बता दें कि, 2014 में पीएम बनने के बाद ह्यूस्टन इवेंट भारतीय-अमेरिकियों को संबोधित करने का पीएम मोदी का तीसरा बड़ा कार्यक्रम होगा। मई 2019 में दोबारा चुने जाने के बाद अमेरिका में यह इस तरह की पीएम की पहली रैली है। इससे पहले 2014 में न्यू यॉर्क के मेडिसन स्क्वॉयर में दो कार्यक्रम आयोजित किए गए थे, जबकि 2016 में सिलिकॉन वैली में कार्यक्रम आयोजित किया गया था। दोनों ही इवेंट में 20 हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए थे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

मोदी और ट्रंप पिछले ही महीने फ्रांस में जी-7 समिट के दौरान मिले थे। भारत जी-7 का हिस्सा नहीं है लेकिन मोदी को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने विशेष अतिथि के रूप में बुलाया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: