Friday, July 12, 2024
Homeविविध विषयअन्य62 दिन की अमरनाथ यात्रा, 1 जुलाई से शुरू-31 अगस्त को समाप्त: इस बार...

62 दिन की अमरनाथ यात्रा, 1 जुलाई से शुरू-31 अगस्त को समाप्त: इस बार हलवा-डोसा-छोले सब बैन, अमित शाह ने सुरक्षा इंतजामों को लेकर की बैठक

तीर्थयात्रियों को पूड़ी, छोले-भटूरे, पिज्जा, बर्गर, स्टफ पराठा, डोसा, फ्राइड रोटी, मक्खन के साथ ब्रेड, अचार, चटनी, फ्राइड पापड़, चाऊमीन, फ्राइड राइस व अन्य फ्राइड और किसी भी प्रकार का फास्ट फूड खाने को नहीं मिलेगा। साथ ही हलवा, जलेबी, गुलाब जामुन, लड्डू, मिठाइयाँ और रसगुल्ले पर भी प्रतिबंध लगाया गया है।

अमरनाथ यात्रा (Amarnath Yatra 2023) 1 जुलाई 2023 से शुरू हो रही है। 62 दिनों तक यात्रा चलेगी। 31 अगस्त को यात्रा समाप्त होगी। शुक्रवार (9 जून 2023) को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने एक हाई लेवल मीटिंग में यात्रा को लेकर की गई सुरक्षा तैयारियों का जायजा लिया। श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड (Shri Amarnath Ji Shrine Board) ने यात्रा के दौरान कई खाद्य पदार्थों के इस्तेमाल को प्रतिबंधित कर ​दिया है।

यात्रा को लेकर अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल व सुरक्षा एजेंसियों के प्रमुखों के साथ बैठक की। रिपोर्ट्स के अनुसार बैठक में केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला, इंटेलिजेंस ब्यूरो के प्रमुख तपन डेका, उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ उपेंद्र द्विवेदी, सीआरपीएफ के महानिदेशक एसएल थाउसेन सहित अन्य अधिकारी शामिल रहे।

बता दें कि अमरनाथ यात्रा बेहद दुर्गम पहाड़ी रास्तों से होकर गुजरती है। साथ ही यह आतंकियों के निशाने पर भी रहती है। यही कारण है कि इस दौरान सुरक्षा के काफी कड़े बंदोबस्त किए जाते हैं। श्रद्धालुओं को जत्थे में भेजा जाता है।

अमरनाथ यात्रा 2023 का नया फूड मेनू

श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड ने तीर्थयात्रियों की सेहत को देखते हुए स्वास्थ्य के लिए हानिकारक खानों पर प्रतिबंध लगा दिया है। बोर्ड ने नया फूड मेनू जारी किया है। यह फूड मेनू तीर्थयात्रियों के साथ ही भोजन परोसने और बेचने के लिए यात्रा क्षेत्र में आने वाले लंगर संगठनों, फूड स्‍टॉलों, दुकानों और अन्य प्रतिष्ठानों पर लागू होगा।

अमरनाथ यात्रा 2023 के नए फूड मेनू में धार्मिक कारणों के चलते मांसाहार, शराब, तंबाकू, गुटखा, पान मसाला, धूम्रपान समेत सभी नशीले पदार्थों पर प्रतिबंध लगाया गया है। तीर्थयात्रियों को पूड़ी, छोले-भटूरे, पिज्जा, बर्गर, स्टफ पराठा, डोसा, फ्राइड रोटी, मक्खन के साथ ब्रेड, अचार, चटनी, फ्राइड पापड़, चाऊमीन, फ्राइड राइस व अन्य फ्राइड और किसी भी प्रकार का फास्ट फूड खाने को नहीं मिलेगा। इसके साथ ही हलवा, जलेबी, गुलाब जामुन, लड्डू, मिठाइयाँ और रसगुल्ले पर भी प्रतिबंध लगाया गया है।

यात्रा में कोल्‍ड ड्रिंक्‍स का इस्तेमाल भी प्रतिबंधित होगा। हालाँकि तीर्थयात्रियों को हर्बल चाय, कॉफी, कम फैट वाला दूध, फ्रूट जूस व वेजिटेबल सूप जैसे पेय पदार्थ पीने की अनुमति दी गई है। फ्राइड राइस पर प्रतिबंध है। लेकिन यात्री सामान्य चावल, पोहा, उत्तपम, इडली व सामान्य दाल-रोटी और चॉकलेट खा सकेंगे। खीर, जई, सूखे मेवे और शहद का सेवन करने की भी अनुमति दी गई है।

गौरतलब है कि साल 2022 की अमरनाथ यात्रा के दौरान प्राकृतिक कारणों के चलते करीब 42 तीर्थयात्रियों की मौत हो गई थी। इसके बाद सरकार ने स्वास्थ्य प्रमाण पत्र को अनिवार्य कर दिया है। साथ ही तीर्थयात्रियों की सेहत को देखते हुए यात्रा के रास्ते में कई जगहों पर ऑक्सीजन बूथ बनाए गए हैं। वहीं, कई स्थानों पर अस्पताल भी बनाए गए हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

उधर कॉन्ग्रेसी बक रहे गाली पर गाली, इधर राहुल गाँधी कह रहे – स्मृति ईरानी अभद्र पोस्ट मत करो: नेटीजन्स बोले – 98 चूहे...

सवाल हो रहा है कि अगर वाकई राहुल गाँधी को नैतिकता का इतना ज्ञान है तो फिर उन्होंने अपने समर्थकों के खिलाफ कभी कार्रवाई क्यों नहीं की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -